October 18, 2021
Breaking News

संजय शर्मा दोबारा छत्तीसगढ़ शिक्षक पंचायत संघ के प्रांताध्यक्ष निर्वाचित,बनते ही कहा एमपी की तर्ज पर हमारा भी हो संविलियन,जेल गये  व बर्खास्त साथियो की प्रदेश स्तरीय सम्मान

संजय शर्मा दोबारा  छत्तीसगढ़ शिक्षक पंचायत संघ के प्रांताध्यक्ष निर्वाचित,बनते ही कहा एमपी की तर्ज पर हमारा भी हो संविलियन,जेल गये  व बर्खास्त साथियो की प्रदेश स्तरीय सम्मान

रायपुर: संजय शर्मा को दोबारा छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय/शिक्षक पंचायत संघ का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। बता दें कि शर्मा को संघ के सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से निर्विरोध चुना।उनका कार्यकाल तीन साल के लिए रहेगा। छ ग पंचायत न नि शिक्षक संघ बैठक आज  कचना रोड, सुरेस्वर महादेव मंदिर के पास दानवीर भामाशाह साहू सामुदायिक भवन रायपुर में सर्वसम्मति से उपस्थित सभी प्रबंघ कारिणी, प्रांतीय पदाधिकारियों, जिलाध्यक्षो द्वारा संजय शर्मा को पुनः आगामी नवीन कार्यकाल के लिए प्रांताध्यक्ष निर्वाचित किया गया।

उक्त बैठक में आगामी रणनीति पर चर्चा करते हुवे जेल यात्री व बर्खास्त साथियो की प्रदेश स्तरीय सम्मान आयोजित किये जाने का निर्णय लिया गया वही सरकार व सत्ता पक्ष से मुलाकात करने की बात कही गयी इस मौके पर प्रांताध्यक्ष ने कहा की  शीघ्र नई कार्यकारिणी की घोषणा किया जाएगा, एवं नए कार्यकाल के लिए प्रदेश भर के शिक्षा कर्मियों का आभार ब्यक्त किया गया, इस दौरान मनोज सनाढ्य,वाजिद खान, प्रवीण श्रीवास्तव, बसंत चतुर्वेदी,शैलेंद्र पारीक ,देवनाथ साहू, आयुष पिल्ले,गुरुदेव राठौर, संजय उपाध्याय, सुखनंदन साहू, मुकुंद उपाध्याय, हेमेंद्र साहसी, आशीष राम, रविंद्र नाथ तिवारी ,चंद्रकांत ठाकुर,सचिन त्रिपाठी ,मनोज वर्मा ,संजय गुप्ता ,अनिल श्रीवास्तव ,संतोष सिंह,गिरजाशंकर शुक्ला, स्वदेश शुक्ला, ऋषिदेव सिंह, राजेश गुप्ता, सत्येंद्र सिंह, मनोज चौबे, बलराज सिंह,ओमप्रकाश सोनकला, डॉक्टर भूषण चंद्राकर, आरिफ मेमन, संतोष देवांगन, रमेश चंद्रवंशी, प्रदीप साहू, गोपीराम वर्मा, विजय डेहरे, घनश्याम देवांगन सहित प्रदेश भर से पदाधिकारी उपस्थित थे।

छत्तीसगढ़ में भी संविलियन की घोषणा करने की मांग की

इस दौरान संजय शर्मा ने  मध्यप्रदेश के भोपाल में अध्यापकों के सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा अध्यापकों का शिक्षा विभाग में संविलियन की घोषणा का स्वागत करते हुवे कहा की  छत्तीसगढ़ के शिक्षा कर्मी भी म प्र के समय से भर्ती हुवे है, आज छत्तीसगढ़ में उनका भी संविलियन का स्वाभाविक अधिकार है,,म प्र में एक ही प्रकार के शिक्षक रहेंगे, तो छत्तीसगढ़ में भी इसका अनुकरण कर 1 लाख 80 हजार शिक्षा कर्मियो का संविलियन किया जावे,,अतः छत्तीसगढ़ राज्य में भी समस्त शिक्षा कर्मियों को पूर्ण वेतनमान एवं सेवा शर्तों के साथ शिक्षा विभाग में संविलियन की मांग की है/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *