October 18, 2021
Breaking News

जशपुर पहाड़ी कोरवाओं हड़िया पीने से मौत,राज्य शासन हाथ से बनाये जाने वाली शराब को करेगी प्रतिबंधित

जशपुर पहाड़ी कोरवाओं हड़िया पीने से मौत,राज्य शासन हाथ से बनाये जाने वाली शराब को करेगी प्रतिबंधित
हरितछत्तीसगढ़ रायपुर।जशपुर जिले के बगीचा में सरंक्षित कोरवा जनजाति के जहरीली हड़िया शराब के सेवन से तीन लोगो की मौत के मामले में राज्य शाशन ने बड़ा फैसला लेते हुवे हाथ से बनाये जाने वाले मादक पेय को प्रतिबंधित करने जा रही है। इसमें हड़िया,महुवा शराब जैसे नशीली पेय शामिल है वही जिला प्रशासन ने इस मामले की जांच के आदेश देते हुवे प्रभावित इलाके में स्वास्थ्य शिविर लगाया है। विदित हो कि सरकार पहाड़ी कोरवा जनजाति संरक्षित जनजाति के उत्थान के लिए कई योजनाएं चलाकर इनके संवर्धन और संरक्षण पर विशेष ध्यान दे रही है।इसके बावजूद पहाड़ी कोरवाओं की स्थिति में कोई खास सुधार नही देखा जा रहा है। मिली जानकारी के मुताबिक जशपुर के बगीचा विकासखण्ड के साहीडांड़ पंचायत के दर्रीटोली बस्ती में तालाब गहरीकरण का काम पूरा होने और गणतंत्र दिवस की खुशी में आदिवासी समुदाय पारम्परिक हड़िया पीकर जश्न मना रहे थे. बताइस जाता है कि उनके द्वारा चावल की परंपरागत तरीके से निर्मित देशी शराब को तीखा करने के लिए इन ग्रामीणों ने चावल की शराब में पेड़ की छाल मिलाकर बने शराब का सेवन करने के बाद 15 लोगों की हालत बिगड़ गयी थी जिसमे बीहानु राम नामक एक पहाड़ी कोरवा की मौत के बाद पांच लोगों को उपचार के लिए अम्बिकापुर भेजा गया था। इलाज के लिए जाते हुवे बतौली के समीप दो और लोगो की मौत हो गयी। इस घटना के बाद जशपुर कलेक्टर डॉ प्रियंका शुक्ला ने जहरीली शराब के सेवन से तीन पहाडी कोरवाओं की मौत के मामले में तीन अधिकारियों की टीम गठित कर जांच के निर्देश दे दिए गए हैं। प्रभावित गांव मे जिला चिकित्सा अधिकारी ने शिविर लगाकर अन्य पीडितों का भी उपचार शुरू कर दिया है। इस गांव में पहुंचकर अधिकारियों की टीम ने चावल और पेड़ की छाल जप्त कर ली है।वही प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कोरवाओं की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करते हुवे इस घटना के लिए जिम्मेदार हाथ से बने जहरीली नशीली पेय पर प्रतिबन्ध लगाने का निर्णय लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *