October 21, 2021
Breaking News

एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव को तरसता करगी रोड का रेलवे स्टेशन।

एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव को तरसता करगी रोड का रेलवे स्टेशन।

अंग्रेजी सल्तनत के समय से है ये स्टेशन,अंग्रेज चले गए फिर भी अच्छे दिन को तरस रहा है।

जनप्रतिनिधि भी आस्वस्त और कोटा नगर की जनता भी आस्वस्त।

दिनाँक:-31-01-2018

संवाददाता:-मो. जावेद खान कोटा।

करगी रोड कोटा:– अंग्रेजी हुकूमत के समय से करगी रोड का रेलवे स्टेशन आज भी बुनियादी सुविधाओं सहित अच्छे दिनों की आस में दामन बिछाए हुए हैं देश को आजाद हुए 68 साल हो गए अंग्रेज भी इस देश से चले गए पर करगी रोड रेलवे स्टेशन अभी भी जस का तस है लगभग लगभग ढाई सौ से 300 दैनिक यात्री बिलासपुर काम करने प्रतिदिन इस करगी रोड रेलवे स्टेशन से जाते हैं करगी रोड का रेलवे स्टेशन इकलौता स्टेशन है जहां पर आसपास पर्यटन स्थल के साथ लोरमी मुंगेली तखतपुर रतनपुर सहित आसपास गांव को जोड़ता है करगी रोड रेलवे स्टेशन से 36 किलोमीटर लोरमी 28 किलोमीटर तखतपुर 18 किलोमीटर रतनपुर 28 किलोमीटर अचानक मार अभ्यारण और कोटा नगर से लगा हुआ पूरे देश में जाने वाला यूनियन यूनिवर्सिटी डॉ रमन विश्वविद्यालय जो कि करगी रोड रेलवे स्टेशन से डेढ़ किलोमीटर से 2 किलोमीटर पड़ता है बिलासपुर रेलवे स्टेशन 32 किलोमीटर पड़ता है करगी रोड रेलवे स्टेशन से लगभग 20 से 22 गाड़ियों का जिसमें एक्सप्रेस पसेंजर सुपरफास्ट ट्रेनों का आवाजाही होता है कटनी रोड में पढ़ने वाला यह छोटा सा स्टेशन पहाड़ो से घिरा हुआ है पहली बार अगर कोई पर्यटक या यात्री स्टेशन की ओर निहारता है तो करगी रोड का रेलवे स्टेशन किसी हिल स्टेशन से कम नहीं दिखता उसके बाद भी यह रेलवे स्टेशन एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव के लिए तरस रहा है 1 साल पहले इसी ठंड की शुरुआत में जानकारी हुई कि रेलवे के जीएम महाप्रबंधक वाह डीआरएम बिलासपुर का दौरा है स्पेशल ट्रेन में महाप्रबंधक सहित उनके माटक मातहत अधिकारी मौजूद थे स्टेशन चमक रहा था स्टेशन मास्टर सहित स्टॉप भी पहली बार यूनिफॉर्म में लिखे लोगों का हुजूम भी दिखा जिसमें कोटा नगर की जनता के साथ राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधि भी शामिल थे सभी को एक साथ देखने पर ऐसा प्रतीत हुआ कि हो सकता है कि इस बार एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव हो पर महाप्रबंधक द्वारा ट्रेनों के ठहराव के कोई संकेत नहीं दिए उल्टा बाहर स्टेशन के जाकर मंगल भवन की नींव रखी लोगों को उस समय काफी हताशा हुई कोटा नगर की आम नागरिक, दैनिक यात्री, सहित व्यापारी गढ़,भी काफी हतोत्साहित दिखे आज 1 साल हो चुके हैं पर एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव नहीं हो सका अविभाजित मध्यप्रदेश के समय  कोटा विधानसभा के पितृ पुरूष दबंग विधायक स्वर्गीय पंडित राजेंद्र प्रसाद शुक्ल जिन्हें कांग्रेस सहित कोटा विधानसभा की जनता भी शायद भुला चुकी है,उनके द्वारा अमरकंटक एक्सप्रेस जो कि हफ्ते में 2 दिन ही रुका करती थी उनके कार्यकाल में प्रतिदिन रुकने लगी उसके बाद तो जैसे कोटा विधानसभा अनाथ हो गया कोई सुनने वाला नहीं जनता तो चुनाव के समय ही जागती है और जनता को जगाने वाले जनप्रतिनिधि भी चुनाव के समय ही जागते हैं,कांग्रेस का विधायक भारतीय जनता पार्टी का सांसद प्रदेश में भाजपा की सरकार केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार नगर पंचायत कोटा में भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष होने के बावजूद भी इस ट्रेनों के ठहराव के लिए किसी भी ने उचित कदम नहीं उठाया हो सकता है दोनों बड़े राजनीतिक दल से हैं विधायक कांग्रेस से हैं।
सांसद भाजपा से हैं।
तो हो सकता है श्रेय लेने की बात हो पर जनता का क्या वह तो बस चुनाव के समय वोट देना ही जानती है उसके बाद 4 साल 5 साल तक खामोश बैठे रहती है ताकि अगला चुनाव आए और फिर से चुनावी त्यौहार मनाने का मौका मिले चुनाव के बाद जनता भी सुस्त और जनप्रतिनिधि भी सुस्त आने वाला मौसम चुनाव का है कोटा नगर की जनता को फिर से इंतजार है,आस्वस्त करने वाले नेताओ व जनप्रतिनिधियों का जहा तक सूत्रों से जानकारी के तहत डीआरएम बिलासपुर चाहे तो कम से कम दो एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव हो सकता है,पर रेलवे के अधिकारि जोकि बिलासपुर मे बैठे है उनका कहना है कि करगी रोड स्टेशन से बिलासपुर स्टेशन की दूरी कम है, पर शायद रेलवे के अधिकारियों को ये नही पता की तखतपुर, लोरमी, अचानकमार, रतनपुर, डॉ. रमन यूनिवर्सिटी से करगी रोड रेलवे स्टेशन पास पड़ता हैं जब तक आप एक्सप्रेस ट्रेन का ठहराव नही करोगे आप को पता कैसे चलेगा कि टिकटों की बिक्री होती है कि नही आप दो से तीन महीने ठहराव करके देख लो,दुर्ग अजमेर, दुर्ग संपर्क क्रांति, दुर्ग जम्मूतवी, दुर्ग गोरखपुर का ठहराव करके तो देखे पर रेलवे के अधिकारी भी अभी भी अंग्रेजी कानून के हिसाब से चल रहे हैं शायद उनको भी देश के लोकतंत्र से कोई वास्ता दिखाई नही दे रहा आज देश व देश के प्रधानमंत्री बुलेट ट्रेन की बात करते हैं, पर अफसोस करगी रोड का रेलवे स्टेशन मे आज एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव के लिए तरस रहा है।

कोटा विधानसभा के कुछ राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधि व भावी नेताओ से बात की गई इस बारे में तो उनका ये कहना था।
वैंकट अग्रवाल:–भाजपा के पर्यटन सलाहकार सदस्य का कहना था कि पूर्व में स्व:दिलीप सिंह जूदेव के समय इस बारे में डीआरएम से बात की गई थी और आजकल में इसी मसले पर सांसद जी से भी बात की गई हैं प्रयास किया जा रहा है।

मुरारी गुप्ता:—नगर पंचायत अध्यक्ष कोटा का कहना था कि 3माह पूर्व संभागीय बैठक में सांसद महोदय के मौजूदगी में आस्वासन दिया गया था प्रयास जारी है।

कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष:– संदीप शुक्ला का कहना था कि पूर्व में रेलवे के महाप्रबंधक के दौरे के समय बेलगहना व कोटा में एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव के लिए आवेदन किया गया था। आगे उसके लिए फिर से प्रयास किया जायगा।

कोटा प्रेस संघ:— वरिष्ट पत्रकारो द्वारा भी जनहित के इस कार्य मे अपनी भूमिका स्पस्ट की है कि जल्द ही अगर इस पर कोई उचित कार्य नही होता है तो कोटा नगर की जनता के लिये अपनी भूमिका पत्रकारिता के माध्यम से निभाएगी।

राजनीतिक दखल रखने वाले ब्यवसायी:– संजय तुलस्यान का कहना था कि सबसे पुराना करगी रोड रेलवे स्टेशन राजाओ के समय का यह स्टेशन आज बुनियादी समस्याओ से घिरा हुआ है, जहा पर देश के प्रधानमंत्री बुलेट ट्रेन की बात कर रहे वही पर कोटा नगर के जनप्रतिनिधियों व नेताओं की निष्क्रियता के वजह यहा पर एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव नही हो पा रहा है जिसकी वजह से कोटा नगर की जनता को यह दिन देखना पड़ रहा है।

व्यवसायी:–विमल गुप्ता का भी कहना था कि सबसे पुराना रेलवे स्टेशन होने के बाद भी यहा पर एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव नही होना रेलवे विभाग व उनके अधिकारियों के अड़ियल रवैये की वजह से है।

आम आदमी पार्टी के विधानसभा प्रभारी हरीश चंदेल का कहना था कि महामाया की नगरी रतनपुर पूरे देश मे प्रसिद्ध है सैकड़ो लोगो का आना जाना यहाँ लगा रहता है, अगर करगी रोड स्टेशन में एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव होने लग जाय तो लोग बिलासपुर क्यो जाय साथ ही उन्होंने कोटा विधानसभा के विधायक व सांसद पर भी निष्क्रियता का आरोप लगाया साथ ही कहा कि इसके लिए अगर आंदोलन भी करना पड़ेगा तो कोटा विधानसभा की जनता कोटा, रतनपुर ,बेलगहना की जनता का सहयोग लेकर किया जाएगा देश आजाद हो चुका है, जनता का राज ही चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *