October 18, 2021
Breaking News

राष्ट्र के पर्यटन नक्षे पर शोभायमान होगा मैनपाट का अनुपम सौन्दर्य- मुख्यमंत्री डॉ सिंह 

राष्ट्र के पर्यटन नक्षे पर शोभायमान होगा मैनपाट का अनुपम सौन्दर्य- मुख्यमंत्री डॉ सिंह

मुख्यमंत्री ने किया मैनपाट महोत्सव का शुभारंभ

क्षेत्रवासियों को दी 32 करोड़ रूपए के निर्माण कार्यो की सौगात

हरितछत्तीसगढ़ रौशन वर्मा अम्बिकापुर ,,,,मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी छŸासगढ़ का षिमला कहे जाने वाले सरगुजा जिले के मैनपाट में लोगों को पर्यटन के प्रति आकर्षित करने के उद्देष्य से आयोजित मैनपाट महोत्सव का शुभारंभ किया। उन्होंने इस अवसर पर मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह में 251 जोड़े नव दम्पतियों को आषीर्वाद दिया। उन्होंने इस अवसर पर उन्होंने क्षेत्रवासियों को 31 करोड़ 80 लाख रूपए की लागत के 13 विभिन्न निर्माण कार्यो की सौगात दी। इसके साथ ही उन्होंने विभिन्न योजनाओं के तहत 5 हजार 676 हितग्राहियों को सामग्री तथा चेक प्रदान किये। मुख्यमंत्री ने इस  अवसर पर उन्होंने पेट से पीड़िया तक 15 किलोमीटर सड़क निर्माण के प्रस्ताव वन विभाग द्वारा तैयार कराने, लोक निर्माण विभाग द्वारा विश्राम गृह निर्माण कराने तथा मैनपाट में महाविद्यालय खोलने के लिए बजट में आवष्यक प्रावधान करने का आष्वासन जनसमूह को दिया। गौरतलब है कि अनुपम प्राकृतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण मैनपाट में वर्ष 2012 में मैनपाट महोत्सव की शुरूआत की गई थी तथा इस वर्ष छठवां मैनपाट महोत्सव का आयोजन 2, 3 एवं 4 फरवरी को किया जा रहा है। कार्यक्रम की शुरूआत अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलन के साथ किया गया तथा कार्यक्रम के समापन अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि मैनपाट का प्राकृतिक सौन्दर्य अनुपम है। हरी-भरी वादियों एवं मनोरम स्थलों से परिपूर्ण मैनपाट की ठण्डी सर्द हवाएं पर्यटकों को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करती हैं। उन्होंने कहा कि मैनपाट में अनेक प्राकृतिक मनोरम स्थल स्थित है, जिसके कारण इसे छŸासगढ़ का षिमला कहा जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैनपाट का आकर्षण इतना अधिक है कि प्रायः मेरी धर्म पत्नी श्रीमती वीणा सिंह किसी रानीतिक कार्यक्रम में शामिल नही होती हैं, किन्तु मैनपाट की प्राकृतिक भव्यता से प्रभावित होकर उन्होंने यहां आने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि मैनपाट में पर्यटन को प्रोत्साहित करने के लिए आवागमन सहित पर्यटकों के लिए सभी सुविधाओं का विकास किया जाएगा, ताकि मैनपाट राष्ट्र के नक्षे में शोभायमान हो सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैनपाट के खाली पड़े सभी स्थानों पर साल के वृक्ष लगाए जाएंगे, ताकि मैनपाट की हरियाली सदैव कायम रह सके। उन्होंने कहा कि साल का वृक्ष स्थानीय लोगों के जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी होता है और यह हर्ष का विषय है कि साल के वृक्षों का पुर्नउत्पादन प्रारंभ हो गया है। उन्होंने कहा कि मैनपाट महोत्सव में स्थानीय जनजातीय संस्कृति के साथ ही तिब्बती संस्कृति का मिश्रित स्वरूप झलकता है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि मैनपाट महोत्सव को प्रदेष के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिल रही है। उन्होंने महोत्सव के दौरान स्थानीय कलाकारों की प्रतिभाओं को निखारने के लिए मंच उपलब्ध कराने तथा प्रदेष एवं राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों द्वारा दी जाने वाली मनमोहक प्रस्तुति और रैपलिंग, बोटिंग, आर्चरी, ट्रमपोलिन आदि रोमांचक खेलों के आयोजन की भी प्रषंसा की। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही अम्बिकापुर हवाई सेवा से जुड़ जाएगा, जिससे देष-दुनिया के लोग भी मैनपाट आ सकेंगे और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री ने मैनपाट महोत्सव को भव्य रूप से आयोजित करने पर कलेक्टर श्रीमती किरण कौषल की सराहना की। इसके साथ ही उन्होंने जिला प्रषासन द्वारा मैनपाट महोत्सव के आयोजन हेतु अत्यंत मनोरम एवं भव्य कार्यक्रम स्थल के चयन करने की भी सराहना की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती के दौरान सरगुजा जिले में आयोजित कार्यक्रमों पर आधारित पुस्तिका का विमोचन किया। इसके साथ ही इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए कार्य योजना संबंधी पुस्तिका का विमोचन किया।

मैनपाटवासियों के जीवन में होगा उजाला

मुख्यमंत्री ने कहा कि दूरस्थ ग्रामों में निवासरत ग्रामीणों के जीवन में उजाला लाने के उद्देष्य से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संचालित सौभाग्य योजना के तहत आने वाले छः महीने में दूरस्थ ग्रामों के सभी घरों में विद्युत कनेक्षन उपलब्ध कराया जाएगा, ताकि उनके जीवन में उजाला आ सके।

सरगुजा का चहुमुँखी विकास

डॉ. रमन सिंह ने कहा कि सरगुजा संभाग में आवष्यकता के अनुरूप सभी आधारभूत संरचनाओं के विकास के साथ ही विद्यालय, महाविद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, पॉलिटेक्निक कॉलेज, कौषल विकास केन्द्र सहित सभी संस्थाओं का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में बेहतर परिवहन सुनिष्चित करने के उद्देष्य से 15 से 20 हजार करोड़ रूपए की लागत के सड़कों का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 36 लाख महिला कृषकों को सौर सुजला योजना के माध्यम से सिंचाई की सुविधा प्रदान की गई है तथा लगभग 18 लाख महिलाओं को प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्षन प्रदान किया गया है। सभी गरीबों को खाद्यान्न सुरक्षा के तहत सभी गरीबों के घरों में अनाज की उपलब्धता सुनिष्चित की गई है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत प्रदेष के सभी परिवारों को 50 हजार रूपए तक की निःषुल्क चिकित्सा सुविधा प्रदान की जा रही है। तेन्दूपŸा मानक बोरा की कीमत 2 हजार 500 रूपए हो जाने पर संग्राहकों को बेहतर आमदनी प्राप्त हो रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *