October 21, 2021
Breaking News

सोने का नकली शंख साढ़े सोलह लाख में खरीद रायपुर सदर बाजार का ज्वैलर्स हुवा ठगी का शिकार

सोने का नकली शंख साढ़े सोलह लाख में खरीद रायपुर सदर बाजार का ज्वैलर्स हुवा ठगी का शिकार
हरितछत्तीसगढ़ रायपुर।।रायपुर सदर बाजार में सोने के कारीगरी का काम करने वाले डिजेन्द्र विश्वास नामक ज्वैलर्स ने नकली सोने का शंख खरीद कर लाखो की ठगी का शिकार बन गया इस सम्बन्ध में उसने माना रायपुर केम्प थाने में शिकायत दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया कि दिनांक 08.12.17 को उडिसा निवासी शुशांतो सरादर द्वारा मेरे साथ नकली सोने का शंख देकर 16 लाख 50 हजार रू0 का धोखाधडी किया है । डिजेन्द्र विश्वास जो कि सदर बाजार रायपुर में सोने के जेवर बनाने का कारीगर है उसने पुलिस को बताया कि दिनांक 01.12.17 को आरोपी शुशांतो सरदार मेरे घर आया और मुझसे कहा कि मेरे पास मेरे घर की एक पैतृक सम्पत्ति सोने का शंख है । आप इसे खरीद लो क्योकि मुझे पैसो की बहुत ही आवश्यक्ता है आरोपी शुशांतो सरदार मेरे ही गृहग्राम पावरविला 2 नवरंग पुर उडिसा का रहने वाला है । इसलियें आरोपी शुशांतो सरदार को बहुत ही अच्छी तरह से जानता पहचानता हू और आरोपी शुशांतो सरदार मेरा दोस्त था । महोदय आरोपी शुशांतो सरदार द्वारा मुझे बहला फुसलाकर ग्राम पावरविला 2 ले गया और पावर विला के जंगल में मुझे चुपके से बुलवाया और एक सोने के शंख को दिखाया फिर उक्त सोने के शंख को मुझे 16 लाख 50 हजार रू0 में सौदा तय किया और आरोपी शुशांतो सरदार ने बहुत ही सुनियोजित ढंग से पुन: सोने के शंख को लेकर मेरे घर रायपुर आ गया । मैने अपने भाईयो और रिश्तेदारो, दोस्तो से उधार लेकर आरोपी शुशातो सरदार को दिनांक 08.12.17 को 16 लाख 50 हजार रू0 दिया । जिस समय मै आरोपी शुशांतो सरदार को पैसा दिया उस समय रतन मण्डल, पियुष,स्वपन राय तथा मेरी पत्नि थी । महोदय जब मैने आरोपी शुशांतो सरदार के समक्ष दिये गये सोने के शंख का जांच करने की बात किया तब आरोपी शुशांतो सरदार ने उक्त सोने के शंख देकर कहां कि शंख में ज्यादा खराबी न हो इसलिये सोने के शंख में एक छोटा सा छेद है उसी से आप कुछ मात्रा में सोना निकाल कर असली होने की जांच कर सकते हो तब मैने आरोपी शुशांतो सरदार के द्वारा दिये गये सोने के शंख के छेद से जांच के लियें चूरा निकाला और उक्त चूरे पाउडर का जांच किया तो असली सोना निकला । उसके बाद आरोपी शुशांतो सरदार वापस अपने घर चला गया । महोदय आरोपी शुशांतो सरदार के जाने के लगभग 3 से 4 घण्टे के बाद जब मै पुन: उक्त सोने के शंख को तोडने की कोशिश किया तो उक्त शंख पीतल का निकला जिसपर सोने की पालिस लगा हुआ मिला और पूर्ण जांच मैने शंख का किया तब केवल शंख में जहां पर छेद था वहां पर आरोपी शुशांतो सरदार ने सोने के पाउडर को उस छेद में डाल दिया था ताकि असली ही पहचान निकले । इस तरह से आरोपी शुशांतो सरदार ने मेरे पैसे को लेकर मुझे धोखाधडी कर तथा कूटरचित शंख बनाकर औश्र उसे नकली जानते हुए सोने का बताकर और उसका उपयोग कर मेरे साथ छल करते हुए धोखाधडी किया जो कि गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है । महोदय मैने कई बार आरोपी शुशांतो सरदार के घर जाकर अपने पैसे की मांग किया और उक्त नकली शंख को वापस करना चाहा लेकिन आरोपी शुशांतो सरदार ने मेरे पैसे को देने से साफ इंकार कर दिया । आरोपी शुशांतो सरदार ने मेरे पैसे से नया कार खरीदा है और तरह तरह का सामान खरीदा है तथा मुझे धमकाता है कि आप को जो करना है करलो मेरा कोई कुछ नही बिगाड सकता । महोदय मैने गांव में इस संदर्भ में बैठक भी कराया लेकिन आरोपी शुशांतो सरदार उस बैठक में नही आया । तब मुझे पूर्ण विश्वास हो गया कि आरोपी शुशांतो सरदार ने मेरे साथ छल कपट कर लू लिया है और मुझे बर्बाद कर दिया है । सम्पूर्ण लेन देन मेरे घर माना कैम्प रायपुर में आरोपी शुशांतो सरदार के साथ मेरा हुआ है । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *