October 26, 2021
Breaking News

शिविरों के माध्यम से मिलने लगा जाति प्रमाणपत्र, नागवंशी, भुईंहार,सौंरा,पंडो समेत अन्य जाति के लोगों मे खुशी

शिविरों के माध्यम से मिलने लगा जाति प्रमाणपत्र, नागवंशी, भुईंहार,सौंरा,पंडो समेत अन्य जाति के लोगों मे खुशी
हरित छत्तीसगढ़ विवके तिवारी पत्थलगांव। मात्रात्मक त्रुटि का दंश झेल रहे अनुसूचित जनजातियों के लोगों के प्रमाण पत्र के लिए शासन द्वारा विशेष शिविर लगाया गया है जिसमे भारी संख्या मे प्रभावित लोग जाति प्रमाणपत्र बनवाने पहुंच रहे है गुरूवार को शिविर पत्थलगांव के महिला बाल विकास सभा कक्ष मे आयोजित किया गया जिसमे पुरे दिनभर तक लोगों की गहमागहमी देखी गई वहीं इस मौके पर पत्थलगांव तहसीलदार मायानंद चंद्रा समेत सभी हल्का के पटवारी मौजुद थे।
उल्लेखनीय है कि राजस्व अभिलेखों में मात्रात्मक त्रुटि होने से विभिन्न अनुसूचित जनजाति के लोगों को जाति प्रमाण पत्र नहीं मिल पा रहा था। खास तौर पर नागवंशी समाज के हजारों लोग इससे प्रभावित थे। वहीं भुईंहार,सौंरा,पंडो समेत अन्य जनजातियों को भी इससे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। हाल ही में राज्य शासन द्वारा मात्रात्मक त्रुटि सुधार को लेकर आदेश जारी करते हुए ऐसी सभी जनजातियों को अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अनुक्रम में जिला प्रशासन द्वारा सभी संबंधित जनजातियों का प्रमाण पत्र बनाने के निर्देश दिए हैं। इसके परिपालन में राजस्व विभाग द्वारा प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। तहसीलदार मायानंद चंद्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि कलेक्टर डाॅ प्रियंका शुक्ला के निर्देशानुसार सभी संबंधित जनजातीय समाज के लोगों के प्रमाणपत्र बनाए जाएंगे। सर्वप्रथम इनसे जुड़े स्कूली विद्यार्थियों के प्रमाण पत्र बनाए जाएंगे। इसके लिए विशेष शिविर लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जाति प्रमाण पत्र बनाने के लिए आयाजित शिविरों में पटवारी,राजस्व निरीक्षक समेत राजस्व विभाग के अन्य अधिकारी-कर्मचारीगण उपस्थित रहकरअअभ्यर्थियों को मिसल,अधिकार अभिलेख जैसे राजस्व संबंधी दस्तावेज मौके पर ही उपलब्ध करा रहे है। उन्होंने बताया की आवेदन प्रमाण पत्र तथा अन्य दस्तावेज शिविर में जमा कराने के पश्चात् जाति प्रमाण पत्र बनाने की क्रिया संपादित की जाएगी। उन्होंने विद्यार्थियों के अलावा अन्य लोगों के जाति प्रमाण पत्र के लिए भी आगामी समय में विशेष शिविर लगाने की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *