October 20, 2021
Breaking News

पत्थलगांव शहर का पुरानीबस्ती बना शराबियों का अड्डा,दिन भर छलकता है महुवा दारू

पत्थलगांव शहर का पुरानीबस्ती बना शराबियों का अड्डा,दिन भर छलकता है महुवा दारू


हरितछत्तीसगढ़ संजय तिवारी/विवेक तिवारी पत्थलगांव।शहर के पुरानीबस्ती इलाके में रोजाना असमाजिक तत्वों का जमघट लगता है, जो सड़कों पर ही जाम से जाम टकराकर चियर्स करते हैं। हद इतनी बढ़ गई है कि शराबखोरी के बाद सड़क पर ही चिल्लाते दिखते हैं
खुलेआम शराबखोरी के मामले में पुरानीबस्ती काफी बदनाम है।

ये वह मुहल्ला है, जहां दिन भर शराब पीने व पिलाने का मजा लेते रहते हैं। नशे में धूत शराबी हो-हल्ला भी मचाते हैं। बेशर्मी की हद पार कर वे सड़क पर आते जाते राहगीरों को गाली गलौज भी करते है।
शहरवासी समेत अन्य राहगीर लोगो का इस मार्ग पर सुबह-शाम आना जाना लगे रहता है, जिन्हें असमाजिक गतिविधियों से जूझना पड़ता है। विशेषकर महिलाओं को काफी परेशानी होती है। वैसे भी गाला डुडुमजोर व आसपास गांव से मजदूरी के लिए लोग रोजाना शहर आना-जाना करते हैं। वे देर शाम को इस मार्ग से होते हुए गांव लौटते हैं।

तब उन्हें सड़क पर शराबखोरी कर रहे अपवादों की छींटाकसी का शिकार होना पड़ता है। ऐसे में किसी अनहोनी की आशंका से इंकार भी नहीं किया जा सकता। पुरानीबस्ती के आसपास सड़क पर शराबखोरी के कई नमूने देखने को मिल जाएंगे।

अपराधों को मिल रहा शह

पुरानीबस्ती इलाके में खुलेआम महुवा शराब बनाने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। इसके चलते अपराधों को शह मिल रही है। नशे में धूत शराबियों का आपस में मारपीट करना, जुआं खेलना और विभिन्न अपराधिक रणनीति बनाने जैसे मामले बढ़ते जा रहे हैं। अपराध की पहली सीढी नशाखोरी होती है। इस बात से पुलिस भी अच्छी तरह वाकिफ है। इसके बाद भी कार्रवाई न करना समझ से परे है।

यहां पर शराब बनाया और बेचा जाता है।

पुलिसिया कार्रवाई नहीं होने के चलते शराब बनाने वालों के लिए शहर के पुरानीबस्ती शराब तस्करों के लिये वरदान साबित हो रहे हैं। जबकि 7 बार के विधायक रहे पूर्व मंत्री रामपुकार सिंह के मुहल्ले के नाम से इस मुहल्ले को जाना जाता है।इसके बाद भी देशी शराब बनाने वालों की तादात इसी मुहल्ले में सबसे अधिक है।कई बार महिलाओं ने अपने मुहल्ले के जनप्रतिनिधियों को इस बात से अवगत कराया कि शराब बनाने वालों की वजह से हमारा जीना दूभर हो गया है।हमारे घर के पुरुष अपनी मेहनत की पूरी कमाई शराब में उड़ा रहे है इसके बाद भी न तो जनप्रतिनिधियों ने कुछ करना चाहा और ना ही प्रशासनिक अधिकारियों ने

क्या पूर्व मंत्री रामपुकार सिंह मुहल्ले में बन रहे देशी शराब से अनभिज्ञ है।

यह ऐसा मुहल्ला है जहां की शहर के मुख्य जनप्रतिनिधि जैसे कि तीन नगरपंचायत्त पार्षद नगर पंचायत अध्यक्ष और पूर्व मंत्री का निवाश स्थल है मुहल्ले के शराबी पतियों से पीड़ित महिलाओं का कहना है कि मुहल्ले में बन रहे महुवा शराब से मुहल्ले में रहने वाले पूर्व मंत्री रामपुकार सिंह व अन्य जनप्रतिनिधि भी अनभिज्ञ नहीं है पर पता नहीं क्यों अभी तक न तो उन्होंने मुहल्ले में शराब बनाने वालों को समझाइस व कार्रवाई करने का कार्य किया नहीं कभी शराब बनाने वालों पर अधिकारियों को कार्यवाही करने को कहा जिसके वजह से सीधे साधे मुहल्ले वासी रोज मर, मर कर जीने को मजबूर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *