October 18, 2021
Breaking News

83 वर्षीय बुजुर्ग शादी को लेकर सुर्खियों में, वजह जानकर आपके भी उड़ जायेगे होश

जयपुर। राजस्थान के गांवों में बेटे की चाह आज भी ज्यों की त्यों बनी हुई है। इसी के चलते करौली के सैमरदा गांव में 83 साल के एक बुजुर्ग सुखराम बैरवा ने 30 साल की महिला से ब्याह रचाया है। ब्याह में बुजुर्ग की पहली पत्नी और बेटी-दामाद सब मौजूद रहे। यह अनूठी शादी ही पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय रही।

सुखराम बैरवा ने 83 की उम्र में दूसरी शादी रचाने से पहले मौजूदा पत्नी बत्तो की भी रजामंदी ली। इसके बाद ही ढोल-नगाड़ों के साथ पूरे रीति-रिवाजों के अनुरूप शादी रचाई।

सुखराम बैरवा की पहली पत्नी के दो बेटी और एक बेटा था, बेटियों की कई साल पहले ही शादी भी कर दी। जबकि इकलौते बेटे कान्हू की 30 की उम्र में असामयिक बीमारी के कारण मृत्यु हो गई थी। इसके चलते वंशवृद्धि का संकट पैदा हो गया।

इसके चलते बुजुर्ग ने नजदीक के राहिर गांव में रहने वाली रमेशी (30) के साथ शादी रचाई। बताया जाता है कि सुखराम के पास दिल्ली में एक प्लाॅट और गांव में सात बीघा जमीन है।

जानकारी के अनुसार उम्र के इस पड़ाव पर सुखराम बैरवा एक पुत्र के लिए रमेशी बैरवा से शादी की है। दरअसल सुखराम के दो पुत्री हैं। जबकि उनके एकलौते बेटे की 30 वर्ष की उम्र में बीमारी के कारण मौत हो चुकी है। इसलिए सुखराम ने अपनी पत्नी बत्तो और पूरे परिवार की रजामंदी से 54 वर्ष छोटी रमेशी बैरवा से शादी की है। रविवार को जब रमेशी बैरवा दुल्हन बनकर सैंमरदा पहुंची तो शादी के बाद की रस्में अदा की गई।

सुखराम बैरवा ने जिस युवती से शादी की है वह मानसिक रुप से अस्वस्थ बताई जा रही है। रमेशी बैरवा की छह और बहनें है। सभी की शादी हो चुकी है। जबकि रमेशी बैरवा का एक भाई था। उसकी भी कई वर्ष पहले मौत हो चुकी है। वहीं ग्रामीणों का कहना है सुखराम बैरवा आर्थिक रुप से काफी संपन्न है। गांव में काफी जमीन-जायदाद होने के साथ दिल्ली में भी उनका मकान है। वहीं उनकी पहली पत्नी इस शादी से काफी खुश है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *