October 26, 2021
Breaking News

अतिशेष शिक्षकों के समायोजन पश्चात ही रिक्त पदों पर पदोन्नति की उठी मांग

अतिशेष शिक्षकों के समायोजन पश्चात ही रिक्त पदों पर पदोन्नति की उठी मांग

जशपुर : – सहायक शिक्षक पंचायत से शिक्षक पंचायत पद के लिए होने वाली पदोन्नति एक बार फिर से कई शिक्षाकर्मियों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है वैसे तो पदोन्नति होना किसी भी कर्मचारी के लिए खुशी की बात होती हैं लेकिन जब मामला शिक्षाकर्मियों का हो तो अस्थाई तौर पर बनते-बिगड़ते नियम उन्हें काफी परेशान कर देते हैं और अतिशेष के नाम पर प्रदेशभर के शिक्षाकर्मियों के साथ यह खेल पहले भी हो चुका है और मामला न्यायालय से शिक्षाकर्मियों के पक्ष में आया था । यही कारण है कि छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ के महिला प्रकोष्ठ की प्रांतीय पदाधिकारी तनु ठाकुर ने कलेक्टर और मुख्य कार्यपालन अधिकारी को पत्र लिखकर पूर्व में समायोजित हो चुके शिक्षाकर्मियों को यथावत रखते हुए पदोन्नति करने की मांग की है ।

*क्या है पूरा मामला*

दरअसल जब 1998 में रेगुलर शिक्षकों की जगह शिक्षाकर्मियों की भर्ती की गई थी तो उस समय वर्ग 3 के शिक्षाकर्मियों की भर्ती के लिए केवल दो ही संकाय माना गया था कला संकाय और विज्ञान संकाय बाद में इसे कला संकाय, विज्ञान संकाय के अलावा गणित, हिंदी और अंग्रेजी संकाय में भी परिवर्तित कर दिया गया जबकि प्राथमिक शाला में पदस्थ कोई भी शिक्षक इन सभी विषयों को एक साथ पढ़ा सकता है। इस बदलाव के बाद जब संकायवार शिक्षाकर्मियों की गणना हुई तो कला संकाय वाले शिक्षाकर्मियों की प्रदेश और जिले में अधिकता हो गई बाद में उन्हें विकल्प देकर समायोजित किया गया यानी जिन शिक्षाकर्मियों ने विज्ञान या अन्य विषय पढ़ा लेने की बात कही उन्हें विकल्प देकर उस संकाय में समायोजित करते हुए स्कूलों में पदस्थापना दे दिया गया और वह उन स्कूलों में लगातार पढ़ाने लगे । अब एक बार फिर से पदोन्नति की प्रक्रिया शुरू होने वाली है जिसमें फिर से इन शिक्षकों के प्रभावित होने की बात सामने आ रही है जिसे देखते हुए प्रांतीय पदाधिकारी तनु ठाकुर ने मांग की है कि जो शिक्षक पूर्व में प्रशासन द्वारा समायोजित किए जा चुके हैं अब उन्हें फिर से परेशान न किया जाए और उन स्कूलों के पदों को रिक्त न माना जाए, इसके अतिरिक्त जो पद रिक्त हैं और भविष्य में रिक्त होने वाले हैं केवल उन्हीं पदों पर पदोन्नति के माध्यम से पदस्थापना दी जाए ताकि बार-बार ऐसी स्थिति परिस्थिति न निर्मित हो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *