October 18, 2021
Breaking News

आंगनबाड़ी यूनियनों की संघर्ष समिति ने की 3 से आंदोलन की घोषणा,,15 से जायेंगी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर 

आंगनबाड़ी यूनियनों की संघर्ष समिति ने की 3 से आंदोलन की घोषणा

15 से जायेंगी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

।——————————————————————————-

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका यूनियन (सीटू) सहित 4 यूनियनों से बनी संयुक्त संघर्ष समिति ने आंगनबाड़ी का निजीकरण रोकने, 18000 रूपये मासिक वेतन देने, सेवानिवृत्त कार्यकर्ता और सहायिकाओं को 3000 रूपये पेंशन देने या फिर एक लाख रूपये एकमुश्त राशि देने जैसी लंबित मांगों पर फिर से संघर्ष का एलान किया है. 3 मार्च को वे ब्लाक स्तर पर रैलियां निकालकर जनविरोधी बजट का पुतला दहन करेगी और सीडीपीओ को ज्ञापन देगी. 8 मार्च को जिला स्तर पर  प्रतिरोध दिवस मनाएंगी तथा सरकार द्वारा आयोजित महिला दिवस के कार्यक्रमों का बहिष्कार करेगी. 9-14 मार्च तक विधायक-मंत्रियों सहित सभी जन प्रतिनिधियों को ज्ञापन देकर अपनी मांगों से अवगत कराएगी और सरकार पर दबाव डालकर इन मांगों को पूरा करवाने का आग्रह करेंगी. इसके बाद भी सरकार यदि समस्याओं के उचित समाधान के लिए वार्ता नहीं करती, तो 15 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल के लिए बाध्य होंगी.

श्रृंखलाबद्ध कार्यक्रमों की यह घोषणा संयुक्त संघर्ष समिति की एक बैठक में की गई. इस बैठक में अ. भा. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका महासंघ की दिल्ली से आई राष्ट्रीय महासचिव अ. आर. सिन्धु भी उपस्थित थी.

यह जानकारी सीटू के आंगनबाड़ी यूनियन के नेता गजेंद्र झा ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दी. उन्होंने कहा कि बजट में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं के लिए मानदेय  में जिस वृद्धि की घोषणा की गई है, वह सरकारी न्यूनतम वेतन की भी पूर्ति नहीं करता और मात्र छलावा है. अपने अधिकारों के लिए लड़ने के सिवा अब कोई विकल्प नहीं बचा है.

गजेंद्र झा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका यूनियन (सीटू), 09479265690

सरिता पाठक, छग आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका संघ, 09827198084

हेमा भारती, प्रगतिशील आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका संघ

रुक्मिणी सज्जन, छग प्रदेश आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका संघ, बस्तर संभाग.

Anganwadi workers and helpers to go on struggles from 3 March

Will observe pratirodh dias on 8 March, International Women’s Day

The meeting of the  Anganwadi Samyukta Sangharsh Samity,   Chhattisgarh held in Raipur in presence of A R Sindhu, General Secretary, all India Federation of Anganwadi wokers and helpers decided to start their next phase of struggle on 3 March onwards.

The meeting noted that in spite of continous struggles for their rights including minimum wages Rs.18000 per month and pension the government is not totally neglecting these demands.

The increase of Rs. 1000 and Rs.5000 per month in wages and Rs.50000 and 25000 as retirement benefit is grossly inadequate and much lower than the states like Haryana, Kerala Karnataka etc.

There is much resentment and anger among the anganwadi employees.

The meeting decided to take up the following course of action.

1. A notice will be given to the government tomorrow.

2. From 3 -7 March holika dahan of the budget at project level and notice will be served to govt through cdpo.

3. On 8 March,  IWD,  will take out rallies in pratirodh diwas and will demonstrate in front of DC office.

4. From 9-11 March representation to mlas and ministers.

5. Even after this the government is not ready to solve the issues we will go on indefinite strike from 15 March.

It is unfortunate that one of the constituent unions in the meanwhile has made unilateral announcement of indefinite strike breaking unity of workers. We request the union to come and join the United action programmes to give a strong message to the government.

We warn the government of militant struggles in case our issues are not sorted out immediately.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *