October 18, 2021
Breaking News

कुदरत का करिश्मा:पानी ही उल्टा नहीं बहता यहाँ बिना स्टार्ट चार पहिया वाहन भी ऊपर चढ़ जाती है जिसे देख आप हैरान रह जाएगें

पानी ही उल्टा नहीं बहता यहाँ बंद चार पहिया वाहन भी ऊपर चढ़ जाती है जिसे देख आप हैरान रह जाएगें

हरित छत्तीसगढ़ रौशन वर्मा अंबिकापुर  :-  जिला मुख्यालय से महज् 45 किलोमीटर की दूरी स्थित मैनपाट विकासखंड का ग्राम  बिसरपानी  जो इन दिनों अपने अदभूत नजारे के वजह से चर्चा का विषय बना हुआ है । ग्राम बिसरपानी में पठारों से उतरता पानी का स्रोत इस गांव में पहुंचने पर नाला का स्वरूप मे प्रवाहित है।  चौकाने वाली बात यह है कि  इस नाले में बह रही पानी की धारा नीचे बहने के बजाय ऊपर बह रही है । पानी का प्रवाह हमेशा ऊपर से  निचे की ओर होता है ।  लेकिन यहां जल की धारा उल्टा बह रही है । यहीं वजह है किं प्रकृति की इस मनोरम स्थल को लोगों ने उल्टा पानी के नाम से पुकारने लगे हैं । जल की धारा का उल्टा बहना व दूर दूर से ईस नजारे का अवलोकन करने लोगो की हूजूम इस बिहड़ को आकर्षण का केन्द्र बना दी है ।

अब जो हम बताने जा रहे है उसके बाद आप चौक जाएगें यहां केवल पानी ही उल्टा प्रवाहित नहीं होता है, बल्कीं चार पहीया वाहन को बंद करके बिना गियर लगाए समतल स्थान पर खड़ा कर देने पर वाहन भी करीब पद्रंह मिटर ऊपर की ओर अपने- आप चढ़ जाता है ।छत्तीसगढ़ में अपना एक अलग और खास मुकाम रखता है। लेकिन अभी हाल ही में यहां एक ऐसी जगह का पता चला है जिसने लोगों को हैरान किये हुवे है। दरअसल मैनपाट के बिरसापानी गांव में एक ऐसा इलाका है जहां एक आम के पेड़ के करीब रखे पत्थर के नीचे से पानी रिसता है। यह रिसाव कोई साधारण नही बल्कि रिसता हुवा पानी नाले की शक्ल में ढलान के बजाय ऊंचाई की ओर बहता ही नही बल्कि बगैर स्टार्ट न्यूटल लगी गाडी भी उचान की ओर अपने आप ढुलक रहा है हांलाकि इस जगह का पता अभी हाल ही में लोगों को चला है।कुछ इसे कुदरत का चमत्कार मान रहे हैं तो कुछ इसे किसी दैवीय शक्ति का कारनामा। फिलहाल पर्यटन अमला इसे छत्तीसगढ़ की एक नई पहचान के नजरिये से देख रहा है।

जब हरित छत्तीसगढ़ की टीम उल्टे पानी के नजारे का लूफ्त उठाने पहुँची तब गांव के कुछ स्थानीय लोगों ने बताया किं यहां पानी तो उल्टा बह ही रहा है साथ ही चार पहीया बंद वाहन भी अपने-आप ऊपर की ओर चढ़ने लगती है ।  जब हमें इस बात पर जानकारी हुई तो हम इसकी पुष्टी करने एक नहीं दो वाहनों को समतल जगहों पर बंद करके खडां कर दिया ।  हमारे नजरों के सामने दोनों वाहन धीरे- धीरे ऊपर की तरफ कच्ची सड़को पर अपनी रफ्तार लेती दिखी । एक नहीं कई बार इस अदभूत नजारे को करके देखा गया ।  भ्रमण में आए कई पर्यटको ने भी हमारे साथ इस नजारे का लूफ्त उठाया/ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *