October 19, 2021
Breaking News

पत्थलगांव विश्राम गृह का अदभुत नजारा जहां देखों शराब की बोतले

पत्थलगांव विश्राम गृह का अदभुत नजारा जहां देखों शराब की बोतले

हरित छत्तीसगढ़ विवेक तिवारी पत्थलगांव। पत्थलगांव शहर के मध्य स्थित वन विभाग का विश्राम गृह का नजारा देखने के बाद ऐसा लगता है मानों अब यह जगह शराबखोरी का अड्डा बन चुकी है। यहां हरे-भरे पेड़ के बजाये शराब की खाली बोतलें देखने को आसानी से मिल जाती हैं। यहां केवल शराब, बीयर की टूटी बोतले और कचरा ही नजर आता है। पत्थलगांव शहर के मध्य स्थित वन विभाग का विश्राम गृह परिसर के चारों ओर कूड़ा फैला हुआ है।विश्राम गृह परिसर समेत भवन के आजु बाजु शराब की खाली बोतलों के ढेर ने नया सवाल खड़ा कर दिया है। खास बात ये है कि जिस परिसर पर शराब की खाली बोतलों का ढेर लगा है उसके ठीक बगल मे कन्या हाईस्कूल मौजुद है। वहीं वर्तमान मे इस विश्राम गृह मे वनपरिक्षेत्राधिकारी कृपा सिंधु पैंकरा निवासरत है ऐसे मे कहीं न कहीं नवपदस्थ रेंजर पर भी सवाल उठने लाजमी हो गए है।हांलाकि वन अमला का कोई भी जिम्मेदार अधिकारी यहां शराबियों की कोई महफिल सजने से सिरे से इनकार करते हैं, लेकिन परिसर पर पड़ी शराब की बोतलें कहानी खुद बयां कर रही हैं। परिसर में रखी शराब व बीयर की बोतलों ने वन विभाग के कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा दिया है। यहां पड़ी खाली बोतलें व इनके रैपर बयां कर रहे हैं कि रात के समय विश्राम गृह का माहौल मयखाने जैसा बन जाता है।
सरकारी विभाग ही स्वच्छता अभियान को पलीता लगा रह
देश और प्रदेश की सरकारों द्वारा जोर-शोर से शुरू किया गया स्वच्छता अभियान दम तोड़ने लगा है। हरित छत्तीसगढ़ की टीम सोमवार को वन विभाग के विश्राम गृह में सफाई व्यवस्था का जायजा लेने गई तो कई चैंकाने वाले दृश्य सामने आए। परिसर मे प्रवेश करते ही शराब की खाली बोतले दिखी वही भवन के एक किनारे कचरे का ढेर है, जिसमें बड़ी संख्या में शराब और बीयर की खाली बोतलें पड़ी हैं, लेकिन किसी भी अधिकारी को नजर नहीं आतीं। यहां रखी खाली शराब और बीयर की बोतलें बयां कर रही हैं कि इस विश्राम गृह का वन विभाग के अधिकारी किस तरह उपयोग कर रहे हैं लोगों का कहना है कि शाम होते ही यहां के कमरे मयखाने का रूप धारण कर जाते हैं। कई जगह शराब की बोतलों के रैपर भी पड़े नजर आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *