October 26, 2021
Breaking News

रसोइया संघ 15 दिनों से हड़ताल पर, सुध लेने वाला कोई नही

रसोइया संघ 15 दिनों से हड़ताल पर, सुध लेने वाला कोई नही

हरितछत्तीसगढ़, विवेक तिवारी/ संजय तिवारी

 

पत्थलगांव। स्कूलों में मध्याह्न भोजन बनाने वाली महिला पुरुष रसोइया संघ अपनी आठ सूत्रीय मांगों को लेकर बीते 15 दिनों से अनिश्चितकालीन धरना पर चले जाने से अनेक स्कूलों में मध्याह्न भोजन के चूल्हे ठंडे से हो गए हैं। वही मध्यान्ह भोजन बनाने हेतु सभी स्कूलों में वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। धरना पर बैठे रसोइयों का कहना है कि उनकी अनिश्चितकालीन हड़ताल के बाद भी प्रशासनिक अमला और भाजपा नेता चुप्पी साध कर बैठे हैं। रसोइया संघ की सदस्यों का कहना है कि उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया तो वे अपने परिजनों के साथ आगामी चुनाव में भाजपा की सरकार को करारा सबक सिखाने का मन बना चुकी हैं। भाजपा सरकार के रवैया से क्षुब्ध अनेक महिलाऐं अपने नन्हे बच्चों को लेकर धरना स्थल में पहुंची थी। रसोईया संघ के सदस्यों का कहना था कि सरकार उन्हें चतुर्थ श्रेणी के शासकीय कर्मचारी का दर्जा दे के वेतन में इजाफा सहित सभी मांगों को त्वरित पूरा करे। मंडी प्रांगण में आंदोलन करने के लिए जुटे रसोइयां संघ के सदस्यों ने बताया कि आय दिन किसी न किसी रसोइए का तावियत खराब हो रहा है और प्रशासन ने आज तक हमारा हाल तक लेना सही नहीं समझा। रसोइयों के अध्यक्ष कलिस्ता एक्का ने कहा कि यदि हमारी मांगों पर शासन गौर नहीं करती है तो आने वाले समय मे मजबूरी वश घेराव,चक्काजाम जैसे माहौल को भी शासन को झेलना पड़ेगा।
रोजाना बिगड़ रही किसी न किसी की तबियत
अपनी मांगों को लेकर बैठे रसोइयों की तबियत बिगड़ती दिख रही है आये दिन किसी न किसी को उनकी हालत को देखते हुए दवा दी जा रही है। संघ के अध्यक्ष कलिस्ता एक्का ने बताया कि आज जय सिंह झक्कड़पुर, सावित्री बाई पलीडीह, एवम् बुधियारो बाई पलीडीह की स्थिती नाजुक बनी हुई थी। ऐसा लगता है मानो प्रशासन की ओर सेइनका सुध लेने वाला भी कोई नही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *