October 20, 2021
Breaking News

अथेना पावर प्लांट के दोगली नीति के विरोध में ग्रामीण बैठे सड़क पर

अथेना पावर प्लांट के दोगली नीति के विरोध में ग्रामीण बैठे सड़क पर

भदरी से रायगढ़ पहुंच मार्ग पर ग्रामीणों ने किया चक्काजाम

हरितछत्तीसगढ़ बसन्तचन्द्रा डभरा– तहसील डभरा अंतर्गत ग्राम पंचायत सिंघीतराई में स्थापित अथेना पावर प्लांट द्वारा प्रभावित किसानों को गुजारा भत्ता नहीं दिए जाने के विरोध में ग्रामीणों ने आज दिनांक 9-3-2018 को सुबह 8:00 भदरी मोड़ से रायगढ़ पहुंच मार्ग को जाम कर अपने बीवी बच्चों के साथ सड़क पर बैठ गये।

ग्रामीणों का आरोप है कि अथेना पॉवर प्लांट द्वारा शासन द्वारा हमारे खेती योग्य भूमि को अधिग्रहण कर लिया गया है, परंतु इन्हे 6 से 10 लाख रुपए मुआवजा देकर अभी तक 6 माह से ऊपर हो गए भत्ता नहीं दिया जा रहा है, इनकी स्थिति दिन ब दिन खराब होती जा रही है यहां के किसान कर्ज से दब रहे हैं और मजबूरीवश इन्हे यह कदम उठाना पड़ा है ।
ग्रामीणों द्वारा महामहिम राष्ट्रपति को पत्र भी लिखा गया है, तथा जिला से लेकर दिल्ली तक के संबंधित अधिकारी और शासन सत्ता के नुमाइंदों को सूचित किया गया था परंतु डेढ़ से 2 माह बीत जाने के बाद भी इनकी समस्याओं का निराकरण नहीं कर सकी, आलम यह हो गया है कि अब इन प्रभावित ग्रामों से लोग दूसरे राज्यों में पलायन करने लगे हैं 15 से 20 परिवार पलायन कर चुके हैं जो जम्मू ,कश्मीर, पंजाब हरियाणा, जा कर अपने परिवार का पेट पाल रहे हैं ,जिस तरह शासन द्वारा इनके खेती योग्य भू- अर्जन कर ले लिया गया है ,वह भूमि इनकी मां थी उसमें खेती करके जो आय प्राप्त होता था वह इनके जीवन उपार्जन के लिए पर्याप्त था, परंतु जब से यह पावर प्लांट लगा है ग्रामीणों कि गरीबी बढ़ती जा रही है ग्रामीणों ने कहा कि” हमारे बार बार निवेदन करने पर भी शासन द्वारा किसी प्रकार का कोई पहल नहीं किया गया, और जब हमने सडक पर आ कर चक्का जाम किया तुरंन्त ही हमारे पास चले आये , ग्रामीणों का कहना है कि जब तक हमारे समस्याओं का स्थाई निवारण नहीं दिया जाता है तब तक हम यहां से नहीं उठेंगे,क्योकि हमारी हालत इतनी खराब है कि हम बिजली बिल तक नहीं पटा पा रहे हैं जिसके कारण विद्युत विभाग द्वारा हमारे घरों के कनेक्शन काट लिए गए हैं,” यदि देखा जाए तो हमारे पास दो ही रास्ते बचे हैं या तो रोजी मजदूरी के लिए पलायन कर अन्य राज्यों में अपना परिवार का पेट पाला जाए या फिर सड़क पर बैठकर अपने हक की लड़ाई लडें ।
मौके पर डभरा एसडीएम अनुपम तिवारी, तहसीलदार नीलम टोप्पो तथा डभरा एसडीओपी सी०डी० तिर्की सहित भारी मात्रा में पुलिस बल कि व्यवस्था की गई थी, लगभग 5 से 6 घंटे चक्का जाम के बाद, ब्लॉक के आलाधिकारियों के विशेष प्रयास तथा लिखित आश्वासन पर चक्का जाम समाप्त कर दिया गया।

कमल पटेल उच्च न्यायालय अधिवक्ता व काग्रेसी नेता
देखा जाए तो इनके साथ शासन एक प्रकार से गलत ही कर रही है, जिन बेचारों की भूमि ही पूंजी थी उसे भू-अर्जन कर के शासन ने ले लिया परंतु उसके एवज में जो पुनर्वास नीति के तहत इन्हें जो लाभ मिलना था नहीं मिला या सही तरीके से नहीं मिल पा रहा है यहां तक की हमारे डभरा ब्लाक में तीन तीन पावर प्लांट संचालित होने के बावजूद भी पूरा ब्लॉक मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहा है, सीएसआर मद का सदुपयोग नहीं किया जा रहा है ,यहां की सड़के देखो तो दैनिक स्थिति में हैं प्रभावित ग्राम पंचायतों की भी हालत खस्ता हो रखी है मेरे हिसाब से इनके द्वारा जो आंदोलन चलाया जा रहा है बिल्कुल सही है और मेरा इनको पूरा समर्थन है अगर आवश्यकता पड़ी तो मैं हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका भी दायर करूंगा जिससे प्रभावित ग्रामों को मूलभूत सुविधाएं मिल सके साथ ही साथ डभरा ब्लॉक को भी मूलभूत सुविधाएं मिल सके।

गीतांजली पटेल जोगी काग्रेस प्रत्यासी चन्द्रपुर विधानसभा क्षेत्र
जिस तरह से हमारे चंद्रपुर विधानसभा क्षेत्र में तीन तीन बडे बडे पावर प्लांट स्थापित है परंतु एक भी पावर प्लांट द्वारा प्रभावित ग्रामों को जो शासन के नीति अनुसार सुविधा देनी चाहिए और नहीं दी जा रही है आज प्रभावित गांव के लोग बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं ,तथा दिन-ब-दिन कर्ज में डूबते जा रहे हैं, और अन्य राज्यों में पयालन करने पर मजबुर है , जिस तरह से भाजपा सरकार पावर प्लांटों पर मेहरबान है निश्चित ही जनता उसका जवाब आगामी विधानसभा चुनाव में देंगे, आज इन ग्रामीणों के साथ इनका क्षेत्रीय विधायक युद्धवीर सिंह जूदेव भी नहीं दे रहा है ,ऐसी स्थिति में इनके पास सड़क पर बैठकर चक्का जाम करने के सिवाय और रास्ता ही नहीं है, मै गीतांजली पटेल जोगी कांग्रेस प्रत्याशी चंद्रपुर विधानसभा क्षेत्र ग्रामीणों का पूरा समर्थन करती हूं तथा जब तक इनकी मांग पूरी नहीं हो जाती मैं इनके साथ नही बल्की इनके आगे खड़े होकर इनका पूरा सहयोग करती रहूंगी।

अनुपम तिवारी एस०डी० एम०डभरा


फिलहाल अभी लिखित आश्वासन के बाद चक्का जाम समाप्त कर दिया गया है और मेरा पूरा प्रयास रहेगा की कंपनी और जनता के बीच सामंजस्य बना सकूं और जनता को जो समस्या है उसका निवारण जल्द से जल्द कर सकूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *