October 18, 2021
Breaking News

डी बी पावरप्लांट के विरुद्ध आमरण अनशन,,वादाखिलाफी से बिफरे प्रभावित ग्रामीण

डी बी पावरप्लांट के विरुद्ध आमरण अनशन

वादाखिलाफी से बिफरे प्रभावित ग्रामीण

बसंत चंद्रा डभरा- प्रभावित ग्राम वासियों के द्वारा ग्राम बाडादहरा स्थित डी०बी०पावर प्लांट लिमिटेड के तानाशाही रवैया के विरुद्ध अपनी 8 सूत्रीय मांगो को लेकर दिनांक 6- 3- 2018 को आवेदन पत्र दिया गया था। किंतु आज तक उक्त आवेदन पर कार्यवाही के नाम पर किसी भी प्रकार का कोई पहल नहीं किया गया है।जिससे प्रभावित ग्रामीणों में इस वादाखिलाफी को लेकर बहुत अधिक आक्रोश उमड़ आया है। विदित हो कि वादाखिलाफी के कारण आक्रोशित ग्रामीण आमरण अनशन करने के लिए बाध्य हो चुके हैं। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार अमरन अनशन ग्राम टुंड्री के को कुर्रु पाठ चौक पर दिनांक 16 -3-2018 को प्रातः 10:00 बजे से प्रारंभ होगा ।

ज्ञात हो कि ग्राम बाडादरहा के ग्राम वासियों ने आठ सूत्रीय मांगों को लेकर अनिश्चित कालिन आमरण अनशन की तिथि निर्धारित करते हुए घोषणा किए हैं जिनमें से प्रथम यह कि ग्राम बांडादरहा स्थित डी०बी० पावर प्लांट के द्वारा एक चैनल के माध्यम से एस० डाईस से बाहर राखड युक्त पानी नाले में छोड़ा जा रहा है जिससे नाले का पानी प्रदूषित हो रहा है उक्त नाले का पानी ना तो पशुओं के लिए ना ही लोगों के नहाने धोने अथवा फसल के उपयोग लायक हो रहा है। साथ ही डीबी पावर प्लांट लिमिटेड के द्वारा प्रदूषित वायु छोड़ कर वायु प्रदूषण (प्रतिबंधित और निराकरण) अधिनियम की धारा 1981 का उल्लंघन भी किया जा रहा है।
डी० बी० पावर प्लांट के द्वारा ग्राम पंचायत टुंड्री पटवारी हल्का नंबर 2 स्थित खसरा नंबर 456 की जमीन घुटघुटुया डोंगरी एवं ग्राम के इष्ट देवता कुर्रुपाठ जो कि खसरा नंबर 90 पर स्थित है।उक्त पहाड़ को काटकर शैलो एवं क्रेशर हाउस बना दिया गया है। साथ ही अपने निजी स्वार्थ के लिए पहाड़ को काटकर रोड बनाया गया है।
डी०बी० पावर कंपनी के द्वारा उरांव समाज के मुक्तिधाम को हटाकर जबरदस्ती बर्बरतापूर्वक एस०डाईक बना दिया गया है ।मुक्तिधाम स्थित पुर्वजों की हड्डियों को खोद कर फेकवा दिया गया है । डी०बी० पावर प्लांट द्वारा स्थापित करने के समय क्षेत्र में पढ़े लिखे युवा बेरोजगारों को प्राथमिकता देते हुए काम पर रखने का आश्वासन दिया गया था जिसे आज तक पूरा नहीं किया गया ।
डी०बी० पावर लिमिटेड के द्वारा पाईप लाईन बिछाया गया है ।जो किसानों के खेतों से होकर गुजरा है। खेत से गुजरने वाली पाइप को अच्छे ढंग से व्यवस्थित नहीं किए जाने के कारण जमीन के ऊपर उखड़ गया है, जिससे किसानों को अपनी खेती के काम करने में कठिनाइयां हो रही है।
कंपनी के चल रहे कोल वाहन व फ्लाई ऐश गाड़ियों के तेज गति से चलने के वजह से लोगों के लिए खतरा बना हुआ है। साथ ही साथ प्रभावित क्षेत्र के गांव टुंड्री ,बाडादहरा, डुमरपाली, कंवली, की सड़क की हालत खस्ता हो चुकी है ।
वादे के अनुसार प्रभावित क्षेत्रों के लिए कंपनी के द्वारा ना तो एंबुलेंस की व्यवस्था की गई है और ना ही औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था को लाया गया है।
कंपनी के द्वारा 5 वर्षों में सी०एस०आर० मद की 52 करोड रुपए विभिन्न कार्यों के लिए जैसे मेडिकल सेंटर का निर्माण, मृत व्यक्ति को श्मशान घाट ले जाने का साधन, जागरूकता अभियान चलाना, टीकाकरण कैंप लगाना ,गर्भवती महिला एवं बच्चों के लिए पोषण आहार की व्यवस्था करना, पानी हेतु तालाब ,बोरवेल्स ,हैंडपंप का निर्माण, ग्रामीणों के लिए पार्क खोलना, सामाजिक एवं धार्मिक भवन का निर्माण ,स्कूल भवन निर्माण एवं मरम्मत बी पी एल परिवारों के बच्चों को निशुल्क पुस्तक वितरण, प्रभावित क्षेत्र के गांव को निशुल्क विद्युत वितरण किया जाना आदि के लिए खर्च किया जाना था ।जिसे आज तक नहीं किया गया ।विदित हो कि उपरोक्त संबंध में कुछ माह पूर्व दो दिवसीय भूख हड़ताल किया गया था। जिसमें जल्द ही समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया गया था।इसके अलावा अनेकों बार शासन प्रशासन को आवेदन के माध्यम से जानकारी दी गई है। किन्तु हर बार प्रशासन के द्वारा सिर्फ आश्वासन दिया गया है। आजपर्यंत किसी भी समस्या का समाधान प्रशासन के द्वारा भी नहीं किया गया जिसके कारण आज तक समस्या यथावत बनी हुई है ।

*प्रभावित किसानो कि माने तो*
डीबी पावर प्लांट से प्रभावित किसानों की माने तो यह पावर प्लांट जब से लगना शुरु हुआ है तब से ही पावर प्लांट द्वारा तानाशाही रवैए हमारे लिए अपनाते रहा है, इनकी लापरवाही से आए दिन राहगीर हो या ग्रामीण हो दुर्घटना के शिकार होते रहे हैं, डीबी पॉवर प्लांट अपने आप को बहुत बड़े मीडिया समूह होने का धोंस दिखाकर ग्रामीण तो ग्रामीण जिला भर के अधिकारियों को भी धमकाते रहते हैं परंतु आज दिनांक तक इस कम्पनी के विरुद्ध किसी अधिकारी ने कार्यवाही नहीं किया गया जिस अधिकारी ने भी प्रयास किया उसका रातों-रात स्थनातरण कर दिया गया ,हमें तो यह लगता है की बीवी पावर प्लांट से पूरा छ०ग०के शासन-प्रशासन डरा और सहमा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *