October 18, 2021
Breaking News

सरगुजा के कृषि विज्ञान केन्द्र मैनपाट का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया ऑनलाईन उद्घाटन 

सरगुजा के कृषि विज्ञान केन्द्र मैनपाट का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया ऑनलाईन उद्घाटन

हरितछत्तीसगढ़ रौशन वर्मा अम्बिकापुर :-  प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को सरगुजा जिले के मैनपाट विकासखण्ड के लिए स्वीकृत कृषि विज्ञान केन्द्र का ऑनलाईन उद्घाटन किया। उन्होंने इस कृषि विज्ञान केन्द्र का आधरशीला भी रखी । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मैनपाट सहित देश के अन्य 25 स्थानों पर कृषि विज्ञान केन्द्र का उद्घाटन आज भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा नई दिल्ली में आयोजित किसान उन्नति मेले में किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि समय के अनुसार आज कृषि क्षेत्र में भी चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं और किसानों को उन चुनौतियों का सामना करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि किसानों को उन्नत कृषि की ओर अग्रसर करने के लिए वैज्ञानिक आधारित कृषि पद्धति तथा उन्नत कृषि उपकरणों को बढ़ावा देने कृषि विज्ञान केन्द्र के माध्यम से जरूरी जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्रों को संसाधनों से परिपूर्ण करने की कार्य योजना तैयार की गई है, जिससे आने वाले समय में किसानों को उन्नत कृषि के क्षेत्र में सहूलियत मिल सकेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों को फसल की उचित मूल्य दिलाने के लिए अधिसूचित फसलों के लिए समर्थन मूल्य उनकी लागत का डेढ़ गुना किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों को कृषि कार्य में आने वाली लागत के अनुसार समर्थन मूल्य तय की जाएगी। इसमें श्रमिक, मषीनरी, मवेषी, बीज, खाद, सिंचाई, राजस्व तथा ब्याज एवं बीज की राषि सहित अन्य खर्च भी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि किसी किसानों को ऑनलाईन मार्केटिंग की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 25 हजार ग्रामीण हॉटों को जरूरी संसाधन के साथ अपग्रेड किया जाएगा तथा उन्हें ई-नाम (ई-नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट) से जोड़ दिया जाएगा।

इस अवसर पर मैनपाट विकासखण्ड के नर्मदापुर ग्राम पंचायत अंतर्गत कृषि विज्ञान केन्द्र व आलू एवं शीतोष्ण फल अनुसंधान केन्द्र बरिमा परिसर में आयोजित कार्यक्रम को मुख्य अतिथि की आसंदी से सम्बोधित करते हुए प्रदेष के गृह जेल एवं लोक स्वास्थ्य तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा ने कहा कि यह हमारे लिए गौरव की का विषय है कि मैनपाट सहित देश के 25 स्थानों पर कृषि विज्ञान केन्द्रों का शुभारंभ हो रहा है। उन्होंने कहा कि मैनपाट में कृषि विज्ञान केन्द्र खुलने से यहां के किसानों को कृषि की नई-नई तकनीकों तथा उत्तम गुणवत्ता के फसलों की जानकारी मिल सकेगी। श्री पैकरा ने कहा कि मैनपाट को छत्तीसगढ़ का शिमला कहा जाता है। इस लिहाज से यहां पर्यटन स्थलों के साथ ही साथ उत्तम गुणवत्ता के सेब, स्ट्राबेरी, पलम्स का उत्पादन भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों की दशा सुधारने तथा उनके आय को दोगुना करने के लिए केन्द्र तथा राज्य सरकार द्वारा रोड मैप तैयार किया गया है।

गृहमंत्री ने कहा कि वनों की कटाई होने से पेड़ कम होते जा रहे हैं जिससे प्राकृतिक असंतुलन की स्थिति निर्मित हो रही है। उन्होंने कहा कि किसानों फलदार पौधे लगाने के साथ ही साथ सब्जी की खेती को बढ़ावा देने प्रोत्साहित करें। श्री पैकरा ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में कृषि के क्षेत्र में भी युवाओं का कौशल विकास कर उन्नत कृषि की ओर अग्रसर करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि युवा केवल सरकारी नौकरी को ही आजीविका के साधन के रूप में न माने बल्कि उन्नत कृषि के क्षेत्र में भी अग्रसर हों। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक संचालक मण्डल के सदस्य श्री अखिलेश सोनी ने मैनपाट में कृषि विज्ञान केन्द्र की शुभारंभ होने पर बधाई देते हुए कहा कि सरगुजा जिला प्रदेश का पहला जिला है जहां दो कृषि विज्ञान केन्द्र संचालित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां कृषि एवं आलू अनुसंधान केन्द्र में वैज्ञानिकों द्वारा दुर्लभ फलों का उत्पादन  किया जा रहा है जो वैज्ञानिकों के मेहनत का नतीजा है।  कलेक्टर किरण कौशल ने कहा कि मैनपाट की जलवायु कई प्रकार के फसलों के लिए उपयुक्त है। उन्होंने कहा कि यहां कृषि विज्ञान केन्द्र खुल जाने से किसानों को नई-नई तकनीकों की जानकारी होगी तथा कृषि संबंधी समस्या आने पर जरूरी समाधान भी मिल सकेगी।

इस अवसर पर सरगुजा सांसद श्री कमलभान सिंह, जनपद पंचायत मैनपाट की अध्यक्ष श्रीमती पति बाई एक्का, सीतापुर जनपद पंचायत के अध्यक्ष श्री शैलेष सिंह, जनपद पंचायत मैनपाट के उपाध्यक्ष श्री अटल यादव, जिला पंचायत सदस्य श्री देवनाथ उंजन, पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार, अनुविभागी दण्डाधिकारी सीतापुर श्री पुष्पेन्द्र शर्मा, कृषि विज्ञान केन्द्र अजिरमा के अधिष्ठाता डॉ. आर.के. मिश्रा, कृषि विज्ञान केन्द्र मैनपाट के प्रभारी डॉ. चौबे, वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ. ए.के. सिंह, डॉ. पी.के. जायसवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में किसान बंधु एवं ग्रामीण-जन उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *