September 17, 2021
Breaking News

अबूझमाड़ क्षेत्र में बाहरी बसावट पर अजीत जोगी ने लिखा कलेक्टर को पत्र

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर । छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री  अजीत जोगी ने बस्तर क्षेत्र में आदिवासियों एवं राष्ट्रपति द्वारा संरक्षित जनजातियों पर हो रहे अत्याचार एवं शोषण पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार “संकल्प से सिद्धि” तक जैसे नये- नये नामों से 2022 तक सरकार चलाने कीमुंगेरी लाल के हसीन सपने देख रही है, वही संकल्प से सिद्धि की बात करने वालों ने विधानसभा चुनाव में किया गया संकल्प पत्र जिसे आज तक पूरा नहीं किया है । जो संकल्प पूरा नहीं कर सकते वे अब सिद्धि प्राप्त करने की बात कर रहे हैं , वहीं दूसरी ओर बस्तर के आदिवासियों का जीवन राज्य सरकार ने नर्क बना कर रख दिया है। नक्सलवाद के नाम पर सरकार आदिवासियों की ही हत्या कर रही है । डॉ रमन सिंह के  14 वर्षों में सरंक्षित क्षेत्र में अन्य लोगों की बसावट बढ़ गई है । आज इस संदर्भ में श्री अजीत जोगी ने लगातार बस्तर से मिल रही शिकायतों पर कलेक्टर नारायणपुर को एक पत्र लिखा है, जिसमें अबूझमाड़ इलाके मैं अभी हाल में बड़े पैमाने पर दूसरी क्षेत्र के लोग बड़ी संख्या में बस  रहे हैं । अबूझमाड़ एक सुरक्षित क्षेत्र रहा है तथा अन्य कोई इनका शोषण न कर सके इसलिए इस  इलाके में दूसरे क्षेत्र के लोगों को बसने की इजाजत नहीं थी। कुछ वर्ष पूर्व तब तो उस क्षेत्र में बिना अनुमति जाना प्रतिबंधित था। जो लोग वहां बस रहे हैं अबूझमाडियों का शोषण करेंगे और घने जंगल को व्यापक स्तर पर कटाई भी करेंगे ।  अतः इस संबंध में उचित कदम उठा कर बाहर से आए लोगों को अबूझमाड़ में बसावट नहीं करने दे।
Oसाथ ही  जोगी ने नारायणपुर जिले में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत बने शौचालयों पर हो रहे शासकीय  राशि के बंदर बांट पर भी जांच की मांग की है क्योंकि शौचालय पंचायत शासन के पैसों में बना रही है किंतु उपयोग करने वाला व्यक्ति उस शौचालय को  गुणवत्ता विहीन बता रहे हैं। ऐसी स्थिति में स्वच्छता अभियान सिर्फ कागजों में चल रहे हैं। पंचायत द्वारा निर्मित शौचालय का मूल्यांकन नहीं होने पर वह व्यक्तिविशेष उपयोग के लायक नहीं है।
 जोगी ने बस्तर की स्थिति में चिंता जाहिर करते हुए कहा कि डॉ रमन जी की सरकार धरातल में काम की स्थान पर मात्र अपने आत्म प्रचार में ही व्यस्त है जिसके कारण पूरा छत्तीसगढ़ अपराध, शोषण, कुपोषण, महिला अत्याचार एवं बेरोजगारी के मामलों में बीमार राज्यो की श्रेणी में आ गया है एवं इन राज्यों के प्रथम 5 राज्यों की सूची में स्थान बना चुका है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *