Sharing is caring!

अगले 15 दिन में फेसबुक में कई बड़े बदलाव किए जाने की संभावना

आपका फेसबुक अब पहले जैसा नहीं रहेगा. जल्द ही इसमें ऐसे बदलाव नजर आएंगे जिसका सीधा असर आप पर पड़ेगा. डाटा लीक मामले में दुनियाभर में किरकिरी झेल रहे मार्क जुकरबर्ग जल्द ही कुछ बड़े करने की तैयारी कर रही हैं. रिपोर्ट्स की मानें तो अगले 15 दिन में फेसबुक में कई बदलाव किए जाएंगे. साथ ही आने वाले वक्त में और भी बदलाव होंगे. कंपनी के चीफ प्राइवेसी ऑफिसर एरिन एगन ने खुद इसका खुलासा किया है. एरिन के मुताबिक, मार्क जुकरबर्ग ने पिछले हफ्ते ही इसकी घोषणा की थी. नए बदलावों के बाद यूजर्स अपनी निजी जानकारी ज्यादा सुरक्षित रख पाएंगे.

यूजर के हाथ में होगी प्राइवेसी
एरिन के मुताबिक, नए बदलावों के बाद यूजर्स के पास अपनी निजी जानकारी पर ज्यादा नियंत्रण रखने का अधिकार होगा. इसके अलावा, फेसबुक पर प्राइवेसी सेटिंग्स और मेन्यू को भी आसान बनाया जाएगा. इससे यूजर्स आसानी से बदलाव कर सकेंगे.

होंगे 10 बड़े बदलाव
छोटे-बड़े मिलाकर फेसबुक 10 बड़े बदलाव करने जा रहा है. इन बदलावों को लेकर मार्क जुकरबर्ग ने अपनी टीम को निर्देश दे दिए हैं. खासकर प्राइवेसी सेटिंग्स में बड़े बदलाव होंगे. पिछले दिनों डाटा लीक की खबरों से दुनियाभर में कई यूजर्स फेसबुक को क्विट कर चुके हैं. ऐसी स्थिति में फेसबुक के पास अपने यूजर्स को रोकने का अब कोई चारा नहीं है. सरकार ने भी फेसबुक को यूजर्स की निजता का ख्याल रखने को कहा है. फेसबुक की प्राइवेसी सेटिंग्स में बदलाव होने के बाद निजी जानकारी पर यूजर्स का नियंत्रण होगा.

प्राइवेसी सेटिंग्स में होंगे बदलाव
फेसबुक अपनी प्राइवेसी सेटिंग्स में बदलाव कर रही है. नए प्राइवेसी सेटिंग्स के शॉर्टकट मेन्यू बनाए जा रहे हैं. इससे यूजर्स को अकाउंट और निजी जानकारी पर पहले के मुकाबले ज्यादा नियंत्रण रहेगा. इससे यूजर्स अपने शेयरिंग पोस्ट, डिलीट पोस्ट की भी समीक्षा कर सकेंगे. यूजर्स ने पिछले कुछ वक्त में अपने फेसबुक से जिन पोस्ट पर रिएक्ट किया होगा या फिर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी होंगी या फिर जो भी सर्च किया होगा. इन सबकी समीक्षा की जा सकेगी. इसके लिए भी अलग से ऑप्शन दिया जाएगा.

यूजर के हाथ में होगी प्राइवेसी
एरिन के मुताबिक, नए बदलावों के बाद यूजर्स के पास अपनी निजी जानकारी पर ज्यादा नियंत्रण रखने का अधिकार होगा. इसके अलावा, फेसबुक पर प्राइवेसी सेटिंग्स और मेन्यू को भी आसान बनाया जाएगा. इससे यूजर्स आसानी से बदलाव कर सकेंगे.

होंगे 10 बड़े बदलाव
छोटे-बड़े मिलाकर फेसबुक 10 बड़े बदलाव करने जा रहा है. इन बदलावों को लेकर मार्क जुकरबर्ग ने अपनी टीम को निर्देश दे दिए हैं. खासकर प्राइवेसी सेटिंग्स में बड़े बदलाव होंगे. पिछले दिनों डाटा लीक की खबरों से दुनियाभर में कई यूजर्स फेसबुक को क्विट कर चुके हैं. ऐसी स्थिति में फेसबुक के पास अपने यूजर्स को रोकने का अब कोई चारा नहीं है. सरकार ने भी फेसबुक को यूजर्स की निजता का ख्याल रखने को कहा है.फेसबुक की प्राइवेसी सेटिंग्स में बदलाव होने के बाद निजी जानकारी पर यूजर्स का नियंत्रण होगा.

प्राइवेसी सेटिंग्स में होंगे बदलाव
फेसबुक अपनी प्राइवेसी सेटिंग्स में बदलाव कर रही है. नए प्राइवेसी सेटिंग्स के शॉर्टकट मेन्यू बनाए जा रहे हैं. इससे यूजर्स को अकाउंट और निजी जानकारी पर पहले के मुकाबले ज्यादा नियंत्रण रहेगा. इससे यूजर्स अपने शेयरिंग पोस्ट, डिलीट पोस्ट की भी समीक्षा कर सकेंगे. यूजर्स ने पिछले कुछ वक्त में अपने फेसबुक से जिन पोस्ट पर रिएक्ट किया होगा या फिर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी होंगी या फिर जो भी सर्च किया होगा. इन सबकी समीक्षा की जा सकेगी. इसके लिए भी अलग से ऑप्शन दिया जाएगा.

यूजर्स के सामने जारी होगी पॉलिसी
यूजर्स फेसबुक के साथ शेयर किए डाटा को डाउनलोड कर सकेंगे. इसमें अपलोड किए गए फोटो, कांटेक्ट्स और टाइमलाइन पर मौजूद पोस्ट को डाउनलोड किया जा सकेगा. किसी दूसरी जगह शेयर किए जाने की भी सुविधा होगी. फेसबुक अपनी टर्म ऑफ सर्विस और डाटा पॉलिसी को यूजर्स के सामने जारी करेगी. यूजर्स को जानकारी दी जाएगी कि उनसे किस तरह की जानकारी मांगी जा रही है. साथ ही उसका इस्तेमाल किस लिए होता है या हो रहा है.

ऐप को लेनी होगी मंजूरी
अभी तक लोगों के पास ऐसे कि‍सी भी ऐप को परमीशन देने की सुवि‍धा थी जो ये जान लेते थे क्‍या आप कि‍सी ईवेंट में जा रहे हैं या उसे होस्‍ट कर रहे हैं. इससे कैलेंडर पर फेसबुक ईवेंट्स एड करना आसान हो जाता था. लेकिन, फेसबुक ईवेंट्स में अन्‍य लोगों के आने की जानकारी भी होती है. इसलि‍ए यह जरूरी हो गया है कि ऐसे ऐप समझदारी के साथ इस जानकारी को शेयर करें कि‍ कौन कब कहां जा रहा है. अब से ऐसे ऐप को यह जानकारी दी जाएगी, जि‍न्‍हें खुद फेसबुक मंजूरी देगी. फेसबुक की मंजूरी के बिना कोई भी ऐप आपके डाटा हासिल नहीं कर सकेगी.

फेसबुक की मंजूरी बाद होगी डिटेल्स शेयर
फेसबुक के चीफ टेक्‍नोलॉजी ऑफिसर माइक्रोसॉफ्ट स्‍क्रोफर के मुताबिक, ऐसे सभी ऐप्‍स की नि‍गरानी अब और कड़ी कर रहे हैं, जि‍नमें लोग फेसबुक के माध्‍यम से लॉग इन करते हैं. ऐसी सभी ऐप को फेसबुक से अप्रूवल लेना होगा जो लाइक्‍स, फोटो, पोस्‍ट, वीडि‍यो या ग्रुप की इनफॉर्मेशन लेने की रि‍क्‍सवेस्‍ट करते हैं.

पर्सनल इनफॉर्मेशन नहीं होगी शेयर
फेसबुक पर अब कोई ऐप आपकी पर्सनल इनफॉर्मेशन नहीं मांग पाएगा. इसमें धार्मि‍क, राजनीति‍क, रि‍लेशनशि‍प स्‍टेटस और डि‍टेल्‍स शामिल हैं. साथ ही फ्रेंड लि‍स्‍ट, शिक्षा, कामकाज और न्‍यूज रीडिंग की भी जानकारी शेयर नहीं होंगी. अगर कि‍सी यूजर ने ऐप को 3 महीने से यूज ही नहीं कि‍या है तो उस ऐप का डेवलपर लोगों से डाटा नहीं मांग पाएगा.

विज्ञापनों पर होगा कंट्रोल
अभी तक आप लोगों को सर्च करने के लि‍ए उनके मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी का यूज कर सकते थे. अब इस फीचर को हटा दि‍या गया है. अब हर तरह का वि‍ज्ञापन आपके फेसबुक पेज पर नहीं चलेगा. विज्ञापनों पर अब आपका कंट्रोल रहेगा. सामने जारी होगी पॉलिसी
यूजर्स फेसबुक के साथ शेयर किए डाटा को डाउनलोड कर सकेंगे. इसमें अपलोड किए गए फोटो, कांटेक्ट्स और टाइमलाइन पर मौजूद पोस्ट को डाउनलोड किया जा सकेगा. किसी दूसरी जगह शेयर किए जाने की भी सुविधा होगी. फेसबुक अपनी टर्म ऑफ सर्विस और डाटा पॉलिसी को यूजर्स के सामने जारी करेगी. यूजर्स को जानकारी दी जाएगी कि उनसे किस तरह की जानकारी मांगी जा रही है. साथ ही उसका इस्तेमाल किस लिए होता है या हो रहा है.

ऐप को लेनी होगी मंजूरी
अभी तक लोगों के पास ऐसे कि‍सी भी ऐप को परमीशन देने की सुवि‍धा थी जो ये जान लेते थे क्‍या आप कि‍सी ईवेंट में जा रहे हैं या उसे होस्‍ट कर रहे हैं. इससे कैलेंडर पर फेसबुक ईवेंट्स एड करना आसान हो जाता था. लेकिन, फेसबुक ईवेंट्स में अन्‍य लोगों के आने की जानकारी भी होती है. इसलि‍ए यह जरूरी हो गया है कि ऐसे ऐप समझदारी के साथ इस जानकारी को शेयर करें कि‍ कौन कब कहां जा रहा है. अब से ऐसे ऐप को यह जानकारी दी जाएगी, जि‍न्‍हें खुद फेसबुक मंजूरी देगी. फेसबुक की मंजूरी के बिना कोई भी ऐप आपके डाटा हासिल नहीं कर सकेगी.

फेसबुक की मंजूरी बाद होगी डिटेल्स शेयर
फेसबुक के चीफ टेक्‍नोलॉजी ऑफिसर माइक्रोसॉफ्ट स्‍क्रोफर के मुताबिक, ऐसे सभी ऐप्‍स की नि‍गरानी अब और कड़ी कर रहे हैं, जि‍नमें लोग फेसबुक के माध्‍यम से लॉग इन करते हैं. ऐसी सभी ऐप को फेसबुक से अप्रूवल लेना होगा जो लाइक्‍स, फोटो, पोस्‍ट, वीडि‍यो या ग्रुप की इनफॉर्मेशन लेने की रि‍क्‍सवेस्‍ट करते हैं.

पर्सनल इनफॉर्मेशन नहीं होगी शेयर
फेसबुक पर अब कोई ऐप आपकी पर्सनल इनफॉर्मेशन नहीं मांग पाएगा. इसमें धार्मि‍क, राजनीति‍क, रि‍लेशनशि‍प स्‍टेटस और डि‍टेल्‍स शामिल हैं. साथ ही फ्रेंड लि‍स्‍ट, शिक्षा, कामकाज और न्‍यूज रीडिंग की भी जानकारी शेयर नहीं होंगी. अगर कि‍सी यूजर ने ऐप को 3 महीने से यूज ही नहीं कि‍या है तो उस ऐप का डेवलपर लोगों से डाटा नहीं मांग पाएगा.

विज्ञापनों पर होगा कंट्रोल
अभी तक आप लोगों को सर्च करने के लि‍ए उनके मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी का यूज कर सकते थे. अब इस फीचर को हटा दि‍या गया है. अब हर तरह का वि‍ज्ञापन आपके फेसबुक पेज पर नहीं चलेगा. विज्ञापनों पर अब आपका कंट्रोल रहेगा.

Sharing is caring!