October 18, 2021
Breaking News

राजगामी जमीन घोटाला की जांच एसडीएम ने की आरंभ वाइडनेयर स्कूल, राजनांदगांव के संचालकगणों पर होगी एफआईआर?

राजगामी जमीन घोटाला की जांच एसडीएम ने की आरंभ

वाइडनेयर स्कूल, राजनांदगांव के संचालकगणों पर होगी एफआईआर?
राजनांदगांव। वेसलियन स्कूल का मामला अभी चरम सीमा में पहुंचा ही नही था कि जिले में एक और मामला गरमा गया।
वाइडनेयर मो. हा. से. स्कूल, लालबाग, राजनांदगांव जिस राजगामी जमीन में संचालित हो रही है वह जमीन रायपुर डायोसिस, एज्युकेशन सोसायटी, रायपुर, पं.क्र. 5261 को वाइडनेयर स्कूल संचालित करने आंबटित किया था।

राज्य शासन के आदेशानुसार संपदा की जमीन की व्यवस्था हेतु न्यास का गठन किया गया है और ट्रस्ट के अनुमोदित बायलास में राजगामी संपदा भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया का उल्लेख नही है, इसके बावजूद रायपुर डायोसिस, एज्युकेशन सोसायटी, रायपुर पंजीयन क्रमांक 5261 ने अपने स्वयं के अधिकार से इस संपदा की जमीन को दिनांक 19/07/2003 को शिक्षा प्रचार एंव प्रसार समिति, राजनांदगांव, पजीयंन क्रमांक 5400 को हस्तांतरित कर दिया गया।

शिकायतकर्त्ता ने यह भी आरोप लगाया है कि संपदा की जमीन में निर्माण पूर्व कलेक्टर की अनुमति लेने को कहा गया था लेकिन शिक्षा प्रचार एंव प्रसार समिति, राजनांदगांव, पजीयंन क्रमांक 5400 के द्वारा संपदा की जमीन में बिना कलेक्टर के अनुमति के विगत कई वर्षो से निर्माण कार्य किया जा रहा है।

इस राजगामी संपदा की जमीन को सिर्फ स्कूल संचालन हेतु दिया गया था लेकिन इसमें एक बड़े चर्च का भी निर्माण कर प्रत्येक रविवार प्रार्थना सभा का आयोजन किया जा रहा है।

शिकायतकर्त्ता ने दस्तावेजी साक्ष्य के साथ कलेक्टर राजनांदगांव से शिकायत किया था जिस पर कलेक्टर ने अनुविभागिय अधिकारी, राजनांदगांव को इस संबंध जांच कर रिपोर्ट सौपने का निर्देश दिया है।

अनुविभागिय अधिकारी राजनांदगांव ने अब इस मामले की जांच आरंभ कर दिया है। राजगामी संपदा कार्यालय ने वाइडनेयर स्कूल को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने को कहा था जिस पर वाइडनेयर स्कूल ने भी अपना पक्ष प्रस्तुत कर दिया है और अब एसडीएम को जांच कर रिपोर्ट कलेक्टर को सौपना है।

जानकार बताते है कि इस मामले में भी वाइडनेयर स्कूल के संचालकगणों पर एफआईआर दर्ज हो सकता है क्योंकि यह सरकारी जमीन को स्वयं के अधिकार से गैरकानूनी ढ़ग से हस्तांतरित करने का मामला है जो कि अपराधिक कृत्य है।

मान्यता भी पड़ सकता है खतरे में
शिक्षा प्रचार एंव प्रसार समिति, राजनांदगांव, पजीयंन क्रमांक 5400 के द्वारा इस राजगामी जमीन को अपनी स्वयं की जमीन बता कर सीबीएसई बोर्ड नई दिल्ली और जिला शिक्षा अधिकारी राजनांदगांव से बोर्ड और विभागिय मान्यता भी प्राप्त कर लिया है जबकि यह जमीन इस संस्था का नही है और राज्य शासन ने इस संबंध में कोई आदेश जारी किया है। मिथ्या जानकारी प्रस्तुत कर बोर्ड और विभागिय मान्यता लेना इस संस्था को भारी पड़ सकता है।

वर्सन………….
मैने इस संबंध में कलेक्टर राजनांदगावं से दो शिकायत किया था जिस पर अब कलेक्टर राजनांदगांव द्वारा जांच के आदेश दिये है लेकिन मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है।
प्रेम नारायण वर्मा, छ.ग.मुक्ति मोर्चा, राजनांदगांव

जिला शिक्षा अधिकारी राजनांदगांव और सीबीएसई, नई दिल्ली को इस स्कूल की मान्यता समाप्त करने हेतु पत्र भेजा गया है।
क्रिष्टोफर पॉल, प्रदेश अध्यक्ष, छ.ग. पैरेंटस एसोसियेशन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *