October 26, 2021
Breaking News

जिले के समग्र विकास विभागों के समन्वित प्रयास से ही संभव – सांसद

जिले के समग्र विकास विभागों के समन्वित प्रयास से ही संभव – सांसद
100 हितग्राहियों को उज्जवला योजना से लाभान्वित किया सांसद ने
ग्रीष्म ऋतु के चलते पेयजल समस्याओं के निराकरण को प्राथमिकता देने पर जोर
जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की हुई बैठक

कोण्डागांव, 21 अप्रैल 2018
बस्तर लोकसभा सांसद दिनेश कश्यप की अध्यक्षता में दिनांक 21 अप्रैल को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें माननीय सांसद द्वारा विभिन्न विभागों के विकास एवं निर्माण कार्यो के अद्यतन स्थिति के बारे में जानकारी लेते हुए दिशा निर्देश दिए गए। बैठक में सांसद ने कहा कि कल्याणकारी योजनाओं के तहत जारी निर्माण कार्यो का निरंतर निगरानी किया जाना चाहिए ताकि कार्य समय-सीमा एवं गुणवत्ता सहित पूर्ण हो सके। इसके लिए प्रशासनिक टीम वर्क बेहद जरुरी है। विभागों के तालमेल और समन्वय से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा सकती है। इसी प्रकार कार्यो की उत्कृष्टता से किसी भी प्रकार का समझौता न किया जाये। ग्रीष्म ऋतु के मद्देनजर उन्होंने जिले में पेयजल समस्याओं से निपटने के लिए कहा कि क्षेत्र में पर्याप्त जलस्तर बनाये रखने हेतु छोटे नालों एवं नदियों में स्टाॅप डेम एवं नाला बंधान जैसे कार्य प्रारंभ किये जाये ताकि लोगो को पेयजल के साथ-साथ निस्तार की सुविधा निरंतर प्राप्त हो।
इस दौरान जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने पूर्व में लिए गए बैठक के आधार पर क्रमवार सभी विभागों की गतिविधियों से सांसद को अवगत कराते हुए कहा कि जिले के विश्रामपुरी एवं केशकाल विकासखण्ड में पेयजल समस्या संभावित हो सकती है इसके लिए हर ब्लाॅक में दो से तीन टीमों का गठन किया गया है। जो खराब पड़े हैण्डपंपो के मरम्मत के लिए तैनात रहेगी। इसके अलावा जिले में मजदूरी भुगतान पूर्व की अपेक्षा संतुलित है। प्रधानमंत्री आवास योजना के विषय में बैठक में जानकारी दी गई कि जिला कोण्डागांव को वर्ष 2017-18 में 1 हजार 399 आवास निर्माण का लक्ष्य प्राप्त हुआ था। आवास स्वीकृति के उपरान्त सभी 1 हजार 399 हितग्राहियों को प्रथम किश्त की राशि प्रदान किया गया है और वर्तमान में 1 हजार 141 आवास पूर्ण कर लिए गए है और शेष कार्य प्रगतिरत है। इसी प्रकार वर्ष 2018-19 में 1 हजार 500 आवास का लक्ष्य प्राप्त हुआ है इसमें सभी 1500 हितग्राहियों को रजिस्ट्रेशन कर लिया गया है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के तहत बैठक में बताया गया कि जिले में कुल 5 हजार 54 स्व-सहायता समूह गठित हो गए है जिनमें सदस्यों की संख्या 54 हजार 4 सौ 73 है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत वर्ष 2017-18 में लक्ष्य 23 के तहत (140) कि.मी. लम्बी सड़को को 36 बसाहटो से जोड़ा गया। बैठक के दौरान ग्राम स्वराज अभियान के तहत सांसद के द्वारा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 100 से अधिक महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन भी दिए गए। बैठक के एजेण्डे में महात्मागांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजना, दीनदयाल अन्त्योेदय येाजना, दीनदयाल ग्रामीण कौशल योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन राष्ट्रीय सामाजिक मिशन(नगरीय) , प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना , ग्राम सड़क योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्येाति योजना,स्वास्थ्य ,शिक्षा, महिला एंव बाल विकास,खाद्य,जल संसाधन,वनमण्डल,लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा आदि शामिल थे जिनकी गहन समीक्षा की गई। इस दौरान कलेक्टर ने बताया कि विभागों द्वारा संचालित सभी महत्वपूर्ण योजनाओं की निरंतर मानिटरिंग की जा रही है और आने वाले समय में योजनाओं के पूर्ण होने से जिले में सकारात्मक परिवर्तन दिखाई देगा।
उक्त बैठक में अध्यक्ष जिला पंचायत देवचंद मातलाम, वनमण्डलाधिकारी अनुराग श्रीवास्तव, सीईओ जिला पंचायत डाॅ. संजय कन्नौजे, अपर कलेक्टर एस.आर.कुर्रे, डिप्टी कलेक्टर टेकचंद अग्रवाल,डाॅ. नेहा कपूर, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जी.एस.सोरी, कार्यपालन अभियंता आर.के.गर्ग, अरुण शर्मा, खाद्य अधिकारी अनुराग भदौरिया, सीएमएचओ डाॅ. एस.के.कनवर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *