October 21, 2021
Breaking News

जाने क्यों हो रहा है अपने ही खेत में लगे बांस काटने पर बवाल

जाने क्यों हो रहा है अपने ही खेत में लगे बांस काटने पर बवाल


कल आप सभी ने हरित छत्तीसगढ़ में पढ़ा होगा कि जशपुर जिले के पत्थलगांव में किस तरह से वन विभाग ने राजस्व की भूमि पर कब्जा किया हुआ है, और न्यायालयीन आदेश का उल्लंघन करते हुए जिस पर आवेदक के आवेदन पर तहसील न्यायालय के फैसले के बाद भी वन विभाग के द्वारा भूमि स्वामी के खिलाफ उल्टा कार्यवाही करते हुए भूमि स्वामी को ही प्रताड़ित किया जा रहा है,


भूमि स्वामी पर लगाये पेड़ काटने के आरोप

वन विभाग एक ओर अपनी गलती स्वीकार करती है कि उक्त भूखण्ड पर भूलवश बांस रोपण किया गया था और उसे सुधारने में समय लगेगा, क्योंकि यह मामला इनके स्तर का नहीं है, और भूमि स्वामी को मिले आदेश से जब भूमि स्वामी ने अपनी जमीन से बांस के कुछ पौधे हटाये जिसे सुप्रीम कोर्ट ने भी अब घास की संज्ञा दी है, चूंकि उक्त भूखण्ड पर बांस का रोपण वन विभाग द्वारा कराया गया था इसीलिए मौखिक रुप से कई बार वन विभाग को बांस हटाने के लिए भूमि स्वामी द्वारा कहा गया बावजूद इसपर उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया, और जब कुछ बांस के पौधे की सफाई की गई तो वन विभाग ने भूमि स्वामी पर पेड़ काटने का आरोप लगा दिया, जबकि भूमि स्वामी का कहना है कि उक्त भूमि पर मौजूद पेड़ों को उसने हाथ भी नहीं लगाया है, चूंकि भूमि को समतल करने के लिए वह आवश्यक था इसीलिए सिर्फ बांस के पौधों को हटाया गया, भूमि स्वामी का कहना है कि अगर उन्हें पेड़ काटना होता तो जेसीबी से ही उखड़वा देते कुल्हाड़ी लेकर काटने नहीं बैठते, और वास्तव में देखा जाय तो वह पेड़ कुल्हाड़ी से काटा गया है जो कि वहीं अगल बगल के गांव वालों ने काटा है ग्रामीणों ने यह सोचा होगा कि अब सफाई हो रही है तो वहाँ सब कुछ साफ हो जाएगा इसीलिए रात में जाकर वहां से पेड़ों को काटकर ले गए, लेकिन वन विभाग के ऊपर पत्थलगांव के कुछ लोगों ने जो कि भूमि स्वामी से नाराज थे जबरन केस बनाने का दबाव बनाने लगे और भूमि स्वामी के ऊपर पेड़ काटने का आरोप लगा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *