October 19, 2021
Breaking News

राष्ट्रीय स्तर की शैक्षणिक सुविधाओं से राज्य में शिक्षा का परिवेश बेहतर हुआ है –  केदार कश्यप

राष्ट्रीय स्तर की शैक्षणिक सुविधाओं से राज्य में शिक्षा का परिवेश बेहतर हुआ है –  केदार कश्यप

रायपुर, 8 मई 2018

स्कूल शिक्षा मंत्री श्री केदार कश्यप आज यहां जी.ई.सी. कैम्पस सेजबहार रायपुर में हाईस्कूल के शिक्षकों के लिए कार्यशाला ‘‘शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम’’ में शामिल हुए। दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आज से शुरू हुआ है।
श्री कश्यप ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी के मार्गदर्शन में विद्यालयीन शिक्षा एवं उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उच्च कोटि की सुविधाएं एवं संसाधन उपलब्ध करायी गयी है, जिससे राष्ट्रीय स्तर की शैक्षणिक सुविधाएं मिलने से राज्य में शिक्षा के परिवेश में बेहतर सकारात्मक बदलाव आए हैं। आज हमारे राज्य में आई.आई.एम., आई.आई.टी., एन.आई.टी., एम्स, पत्रकारिता विश्वविद्यालय, विधि विश्वविद्यालय, केन्द्रीय विद्यालय, ट्रिपल आईटी, सीपेट जैसे कई उच्च संस्थान उपलब्ध है। राज्य के युवाओं को शिक्षा के लिए बाहर न जाना पड़े इसके लिए राज्य सरकार हमेशा से प्रयासरत है।
इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से आये 45 शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आई.आई.टी भिलाई द्वारा राज्य शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद छत्तीसगढ़ के सहयोग से यहां कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है, जो कि रॉयल सोसायटी ऑफ केमेस्ट्री द्वारा समर्थित है। इस कार्यक्रम द्वारा रसायन शास्त्र की समकालीन तकनीकों से शिक्षकों को अद्यतन करना व वैज्ञानिक पहलुओं को बारीकी से समझाना है जिसे रसायन शास्त्र के संदर्भ में आसानी से लागू किया जा सके, जिससे छात्रों को रसायन विज्ञान के लिए अपना ज्ञान व उत्साह विकसित करने में मदद मिलेगी।
श्री कश्यप ने आई.आई.टी भिलाई के निदेशक से कहा कि जिस तरह से आज आपके सहयोग से रसायन विज्ञान का प्रशिक्षण प्रारंभ हो रहा है। उसी तरह गणित, भौतिकी जैसे विषयों के लिए भी भविष्य में शिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम होना चाहिए जिससे विज्ञान शिक्षण पुनः प्रभावी बन सके।
इस अवसर पर राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के संचालक श्री सुधीर अग्रवाल, आई.आई.टी भिलाई के निदेशक प्रो. रजत मूना, शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम के समन्वयक डॉ. संजीव बनर्जी, प्रशिक्षणार्थी शिक्षकगण सहित आई.आई.टी के स्टॉफ मौजूद थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *