Sharing is caring!

महापंचायत में शामिल होने जिले से हजारों शिक्षाकर्मी हुए राजधानी रवाना

आने वाले दिनों में और तेज हो सकता है शिक्षाकर्मीयों का आंदोलन:-लीलाधर बंजारा

महापंचायत में बनेगी आंदोलन की रणनीति

जशपुर:-
शिक्षाकर्मीयों का आंदोलन आने वाले दिनों में और तेज हो सकता है। जिले भर के हजारों शिक्षाकर्मी मोर्चा द्वारा प्रस्तावित 11 मई के संविलियन महापंचायत में शामिल होने के लिए रायपुर कूच कर गए हैं।
मोर्चा के प्रांतीय संगठन मंत्री लीलाधर बंजारा व अर्जुन रत्नाकर ने आरोप लगाया कि सरकार उनकी मांगों को लगातार नजर अंदाज करते आ रही है। जिसका नतीजा है शिक्षाकर्मियों में दिन-ब-दिन बढ़ता आक्रोश। अब वे बड़े आंदोलन के मूड में है। महापंचायत में आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मोर्चा के पदाधिकारी और प्रदेश भर के शिक्षाकर्मियों की सहमति से आगे की कार्ययोजना तय की जाएगी।
ज्ञात हो कि शिक्षाकर्मियों ने स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन की प्रमुख मांग को लेकर पिछले साल 20 नंवबर से 4 दिसंबर तक राज्य में अनिश्चितकालीन शाला बहिष्कार कर आंदोलन किया था जिससे राज्य में पूर्ण शालाबंदी की स्थिति निर्मित हो गई थी। मोर्चा ने छात्र हित में शून्य पर 4 दिसंबर को आंदोलन स्थगित किया तथा सरकार ने भी तुरंत समस्याओं के समाधान के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 8 सदस्य उच्च स्तरीय समिति का गठन किया। समिति ने निर्धारित 3 माह के कार्यकाल के स्थान पर 5 माह में भी सरकार को प्रतिवेदन नहीं सौंपा,न ही सरकार ने अब तक कोई सार्थक समाधान कारक निर्णय लिया।
मोर्चा के जिला संचालक अनिल श्रीवास्तव,संतोष टांडे व विनय सिंह ने संयुक्त रूप से बताया कि प्रदेश की सरकार अपने किये गए वादों से मुकर रही है जिसके कारण सरकार से शिक्षाकर्मीयों का यकीन ख़त्म होता जा रहा है। महापंचायत में संविलियन पर शिक्षाकर्मी मोर्चा आगे की रणनीति तय करेगा।
प्रांतीय प्रचार सचिव जायेश सौरभ टोपनो ने प्रदेश के मुखिया की घोषणा को याद दिलाते हुए कहा कि संविलियन हमारा हक़ है, हमें भी शिक्षक का दर्जा मिलना चाहिए। प्रदेश सरकार जल्द से जल्द संविलियन की घोषणा कर आदेश जारी करे।

शिक्षाकर्मीयों की महापंचायत बूढ़ातालाब धरनास्थल पर होगी:-
आपको बता दें कि संविलियन सहित कई मांगों को लेकर शिक्षाकर्मियों ने महापंचायत का एलान किया है। महापंचायत के लिए शिक्षाकर्मियों ने तीन दिन पहले ही धरनास्थल पर महापंचायत की अऩुमति मांगी थी, आवेदन को कलेक्टर ओपी चौधरी ने होल्ड कर अधिकारियों से बातचीत कर अपना निर्णय देने की बात कही थी। शर्तों के साथ धरनास्थल देने के पहले प्रशासन ने शिक्षाकर्मियों के रुख, संख्या और आक्रोश को भांपा और उसके बाद अनुमति दे दी।
मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी मो.अफरोज खान,सरवर हुसैन व शकील खान ने संयुक्त रुप से बताया कि जिले से लगभग 5 हजार शिक्षाकर्मी रायपुर के महापंचायत में शामिल होंगे । जशपुर से मोर्चा के विकासखण्ड संचालक गोविन्द मिश्रा व डमरूधर स्वर्णकार,दुलदुला से संतोष पैंकरा व बुधेश्वर नाग,मनोरा से मुनेश्वर यादव व केशव जांगड़े,कुनकुरी से कलेश्वर यादव व वसीम अली,कांसाबेल से नरोत्तम पटेल व सीलन साय,बगीचा से महानन्द सिंह व बालदेव ग्वाला,फरसाबहार से विवेक प्रसाद चौधरी व टिकेश्वर भोय,पत्थलगांव से धनुराम यादव व विनोद साहू के नेतृत्व में शिक्षाकर्मी महापंचायत में शामिल होने रायपुर के लिए रवाना हो गए हैं।

Sharing is caring!