December 5, 2021
Breaking News

दहेज प्रताड़ना केस एफआईआर के बाद विधिक सेवा करेगी मामले की जांच

रायपुर. राजधानी में दहेज प्रताड़ना की धारा को लेकर सुप्रीम कोर्ट के नए निर्देश के बाद रायपुर रेंज के पुलिस अधिकारियों को ट्रेनिंग दी जा रही है।
नए आदेश के मुताबिक दहेज प्रताड़ना आईपीसी की धारा 498 ए में पुलिस एफआईआर जरूर दर्ज करेगी लेकिन आरोपी की गिरफ्तारी जांच के बाद ही की जाएगी। जिला विधिक प्राधिकरण की टीम दोनों पक्षों की काउंसलिंग करने के साथ मामले की पड़ताल करेगी। इसके बाद ही उनके रिपोर्ट के आधार पर आरोपी की गिरफ्तारी की जाएगी या मामला खत्म हो जाएगा।
– सोमवार को बैरन बाजार में रायपुर पुलिस रेंज के अधिकारियों को दहेज प्रताड़ना की धारा में सुप्रीम कोर्ट के नए निर्देश को समझाने और होने वाली कार्रवाई को लेकर 7 दिवसीय वर्कशॉप आयोजित की गई है।
– इस वर्कशॉप में आईजी प्रदीप गुप्ता, रायपुर प्रभारी एसपी अकबर राम कोर्राम के साथ सहायक जिला लोक अभियोजन अंजली सिंह और मेनका देवांगन मौजूदा थीं। मौजूदा अधिकारियों ने सुप्रीम कोर्ट के नए निर्देश के मुताबिक अब मामला दर्ज करने की हिदायत देने के साथ पूरी प्रक्रिया को समझाया।
रायपुर रेंज के राजधानी के अलावा गरियाबंद, धमतरी, भाटापारा-बलौदा बाजार और महासमुंद जिले के सभी थानों से कुल 72 नोडल अधिकारी इसमें शामिल हुए। कार्यक्रम  एएसपी वर्षा मिश्रा ने बताया कि नए निर्देश के मुताबिक अब किसी भी थाने में इस धारा के तहत दहेज प्रताड़ना के मामले में जुर्म दर्ज करने के बाद सीधे तौर पर आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा।
– सुप्रीम कोर्ट की नई व्यवस्था के आधार पर दहेज प्रताड़ना के मामले में जिला विधिक प्राधिकरण की समिति जिसमें सामाजिक कार्यकर्ता भी शामिल होंगे, उन्हें दर्ज केस दिए जाएंगे।
– एक माह के अंदर विधिक टीम मामले में दोनों पक्षों की काउंसिलिंग करेंगी। इसके बाद उनकी जांच रिपोर्ट के आधार पर संबंधित आरोपी के खिलाफ आगे की कार्रवाई करते हुए गिरफ्तारी की जाएगी या नहीं।
– इससे दहेज प्रताड़ना मामले में झूठी रिपोर्ट और फंसाने के उद्देश्य से दर्ज कराए गए मामलों में रोक लगेगी। अगले छह दिन आयोजित वर्कशॉप में सुप्रीम कोर्ट के इस धारा से जुड़े अलग-अलग फैसले और निर्देशों की विस्तार से जानकारी दी जाएगी। यहां से ट्रेंड होकर अलग-अलग थानों से आए नोडल अधिकारी जाकर वहां के विवेचकों को जानकारी देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *