July 25, 2021
Breaking News

अवांछित लोग पहुंचा रहे कुम्हडाकोट वन को नुकसान  बस्तर दशहरा वन को बचाना  सभी की जिम्मेदारी 

हरित छत्तीसगढ़ बस्तर
भारतीय वन सेवा के अधिकारी तथा बस्तर वनमंडलाधिकारी मनीवासन ने कहा है कि बस्तर दशहरा वन के नाम से जाने जाने वाले कुम्हडाकोट वन को अवांछित लोग  नुकसान पहुंचाते हैं किंतु वन विभाग की सजगता से बार-बार उसे बचाया जाता है  वहीं डीएफओ ने  यह भी कहा कि  बस्तर दशहरा वन को बचाना  सभी लोगों की जिम्मेदारी है ! बस्तर दशहरा वन में  आज  सफाई के दौरान उक्त बातें मीडिया से चर्चा करते हुए डीएफओ ने कही!
ज्ञात हो कि बस्तर दशहरा की प्रमुख रस्मों में से एक रस्म कुम्हडाकोट में संपन्न होता है जिसमें बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों के साथ साथ देश-विदेश के सैलानी भी आते है!वन मंडलाधिकारी  ने  आगे बताया कि वन विभाग कुम्हडाकोट वन की सफाई में जुटा है! इस कार्य में प्रशिक्षु वनरक्षकों से लेकर बड़े अधिकारी जुटे हुए हैं! डीएफओ ने कहा कि इस क्षेत्र की अपनी एक विशेष महत्ता है जिसके कारण इसे दशहरा वन के नाम से जाना जाता है और इसकी देखरेख हम सब की जिम्मेदारी है!डीएफओ की मौजूदगी में विभिन्न वन परिक्षेत्र के परिक्षेत्र अधिकारी संयुक्त वन विभाग का अमला सुबह से ही इस कार्य में जुड़ा हुआ था और इस वन के अंदर अवांछित रूप से उग आए पौधे घास झाड़ियों की सफाई की गई सफाई उपरांत झाड़ी घास एवं अवांछित पौधों को एकत्रित कर इसे वाहन में भरकर कहीं दूर जाकर फेंका गया! कुमड़ाकोट स्थित वन क्षेत्र की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए डीएफओ ने कहा कि बस्तर दशहरा के दौरान इस क्षेत्र में विशेष कार्यक्रम होते हैं और वन विभाग की भी जिम्मेदारी बनती है कि इसकी साफ-सफाई करें और आम जनता की भी जवाबदारी है कि वन को संरक्षित रखें!
दशहरा रथ के लिए प्रयुक्त होने वाले लकड़ी का होगा रोपण
डीएफओ ने कहा है कि वन विभाग की मंशा है कि बस्तर दशहरा में बनाए जाने वाले रथ के लिए जो लकड़ी लगती है उसके पौधे मसलन साल धवई एवं अन्य प्रजाति के पौधे समय-समय पर लगाए जाएंगे और वन विभाग उसकी निगरानी करेगा! यह पौधरोपण इसी दशहरा वन में लगाया जाएगा जोकि आगे जाकर लोगों के काम आए!
बेतहाशा लकड़ी काटने की बात गलत
डीएफओ ने कहा है कि वन विभाग की निगरानी में दशहरा के दौरान प्रयुक्त होने वाले लकड़ी की कटाई होती है ग्रामीण इस में सहभागिता निभाते हैं किंतु यह कोरी अफवाह है कि ग्रामीण बेतहाशा लकड़ी की कटाई कर रहे हैं डीएफओ ने स्पष्ट करते हुए कहा कि पेड़ की कटाई के दौरान कभी-कभी टेढे मेढे लकड़ी बिगड़ जाते हैं जिसे सहज वन विभाग अपने साथ ले आता है! इस दौरान वन विद्यालय के प्रभारी डीएफओ चित्रकूट के उपमंडलाधिकारी मरई जगदलपुर बकावंड चित्रकूट भानपुरी बस्तर करपावंड वन परिक्षेत्र के अधिकारी उपवन परिक्षेत्र अधिकारी सहित वन विभाग का अमला मौजूद था!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *