Sharing is caring!

संविलियन प्राप्ति का श्रेय हर उस संघर्षशील शिक्षाकर्मी को जिसने आंदोलन के रास्ते पर आने वाले हर मुश्किलों का सामना किया- विरेन्द्र दुबे,केदार जैन

वर्षों से “शिक्षाकर्मी” शब्द का दंश और उपेक्षा झेलने वाले गुरुजन अब शिक्षक कहलायेंगे।10 जून को अंबिकापुर के मंच से मुख्यमंत्री ने संविलियन की घोषणा की, जिससे प्रदेश के शिक्षाकर्मियों में हर्ष का वातावरण बना। आगामी 18 जून को इस संविलियन को कैबिनेट की बैठक में अमलीजामा पहनाया जाएगा।

मोर्चा के द्वारा कल शिक्षामंत्री से मिलकर धन्यवाद दिया गया,शिक्षामंत्री ने भी शिक्षाकर्मियों का मुंह मीठा कराकर बधाई दी। मोर्चा पदाधिकारियों ने कहा कि वे जल्द मुख्यमंत्री से भी मुलाकात करेंगे।

*संविलियन की घोषणा पश्चात शिक्षक पँ ननि मोर्चा के प्रदेश संचालक विरेन्द्र दुबे और केदार जैन ने संयुक्त रूप से कहा कि- इस प्राप्त सफलता का श्रेय संविलियन आंदोलन से जुड़कर संघर्ष करने वाले प्रत्येक शिक्षाकर्मी को जाता है,जिसने अपना तन-मन और धन लगाकर,विभिन्न मुश्किल परिस्थितियों में भी डटे रहे, जेल गए,निलंबित हुए, बर्ख़ास्त हुए,पर संविलियन का जज्बा नही छोड़ा।संविलियन के संग्राम में यह जज्बा किसी सेनानी से कम नही था,इन सेनानियों के साथ-साथ मोर्चा के कुशल रणनीतिकारों,सोशल मीडिया के जानकारों और भीड़ को नेतृत्व प्रदान करने वाले शूरवीरों के कारण ही हम सफलता के मुकाम पर पहुँचे। जेल की सींखचे और बर्ख़ास्तगी भी संविलियन के कड़े इरादों को तोड़ नही पाई,जो डर गए वे छिपे रहे या स्कूल को गए, संविलियन उन शूरवीरों के कारण मिला जो धारा 144 और गिरफ्तारी के बीच भी निर्भीक होकर राजधानी के सड़कों पर संविलियन के नारों का गूंजायमान करते रहे और हजारों की भीड़ इकट्ठी होकर प्रशासन को विवश करती रही, ऐसे समस्त आंदोलनकारी शिक्षाकर्मी साथी को इसका श्रेय जाता है।*

*मुख्यमंत्री जी की संवेदनशीलता और दृढ़इच्छाशक्ति रखकर संविलियन की घोषणा करने हेतु आभार व्यक्त करते हुए उम्मीद जताई है कि मुख्यमंत्री जी समस्त शिक्षाकर्मियों का वेतन विसंगति दूर करते हुए नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत के दिन अर्थात 18 जून को ही केबिनेट में पास कराकर आदेश जारी करें,जिससे प्रदेश का हर शिक्षाकर्मी पूर्ण शिक्षक के रूप में विद्यालय जा सके और सभी जगह खुशी का वातावरण बने।*

*इस प्रेस वार्ता में मोर्चा के उपसंचालक धर्मेश शर्मा, चन्द्रशेखर तिवारी, जितेन्द्र शर्मा,ताराचन्द जायसवाल,पवन सिंह,डॉ सांत्वना ठाकुर, दीपिका झा, जय श्री,जितेन्द्र गजेंद्र,अतुल अवस्थी,अजय वर्मा,देवेंद्र हरमुख,शिवकुमार,भानू डहरिया,आदि मोर्चा के समस्त पदाधिकारी मौजूद थे।*

Sharing is caring!