Sharing is caring!

प्रदेशभर के शिक्षाकर्मी सरकारी कागजों में शनिवार और रविवार को सरकारी कर्मचारी हो जाएंगे। शिक्षा विभाग ने राजधानी सहित पूरे राज्य में एक ही दिन करीब पौने दो लाख शिक्षाकर्मियों का दस्तावेजी संविलियन करने की प्लानिंग की है। राजधानी में गवर्नमेंट स्कूल और दानी स्कूल में दो दिन का शिविर लगाया जा रहा है। उसमें शिक्षाकर्मियों का कर्मचारी पहचान पत्र यानी एम्प्लाई आईडी बनाई जाएगी। उनकी सेवा पुस्तिका का हस्तांरण भी शिक्षा विभाग को कर दिया जाएगा। ऐसे शिक्षाकर्मी जिनका अभी तक भविष्य निधि यानी प्रोविडेंट फंड नहीं कट रहा है, इसी दिन उनका परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर भी जनरेट कर दिया जाएगा।

शिक्षाकर्मियों को संविलियन के लिए लगाए जा रहे शिविर में पेन कार्ड और बैंक की पासबुक की फोटो कॉपी के साथ आने को कहा गया है। शिक्षा विभाग के अफसरों के अनुसार शहरी और नगरीय निकाय क्षेत्र के स्कूलों के लिए शनिवार और ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षाकर्मियों के लिए रविवार को शिविर लगेगा। इसी के अनुसार तैयारी की गई है। शहर में लगाए जा रहे दोनों शिविरों में आठ-दस कंप्यूटर लगाए गए हैं। जिला शिक्षा अधिकारी आर. बंजारा के अनुसार संविलियन से संबंधित जितने भी विभागों की जरूरत है, वे सभी तैयारी के साथ शिविर में पहुंच जाएंगे। दो दिन के भीतर सभी की कागजी प्रक्रिया पूरी करनी है। ऐसा होने पर ही 1 अगस्त से उन्हें नियमित रूप से वेतन मिल सकेगा।

स्कूलवार होगी पुकार, एक स्कूल के सभी शिक्षाकर्मी एक साथ होंगे हाजिर 

संविलियन की कागजी प्रक्रिया पूरी करने के लिए आयोजित किए जा रहे शिविर में स्कूलवार एक-एक कर बुलावा होगा। सभी प्राचार्यों और प्रधान पाठकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने स्कूल के सभी शिक्षाकर्मियों को लेकर एक साथ शिविर में पहुंचे। अफसरों के अनुसार एक साथ एक ही स्कूल के शिक्षाकर्मियों की कागजी प्रक्रिया पूरी करने में आसानी होगी।

2012 से कट रहा पीएफ, एक साथ जमा होगी राशि 

शासन ने अप्रैल 2012 से पीएफ यानी प्रोविडेंट फंड जमा करने की घोषणा की है। रायपुर सहित कई जिलों में कटौती तकनीकी कारणों से नहीं हो पा रही है, लेकिन पीएफ का पैसा पंचायतों में जमा है। अफसरों के अनुसार संविलियन की प्रक्रिया पूरी होते ही ऐसे शिक्षाकर्मी जिनका पीएफ अभी नहीं कट रहा है, उनका पैसा 2012 से कटेगा। इस संबंध में उनके साथ किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी।

स्कूल में भरकर लाना होगा एम्प्लाई डाटा फार्म 

शिक्षाकर्मियों के शिविर में सभी को अपना एम्प्लाई डाटा फार्म भरकर लाना होगा। शिक्षा विभाग की ओर से फार्म राज्य के सभी विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में उपलब्ध करवाया गया है। इसके अलावा शिक्षाकर्मी संगठन के प्रमुखों को भी फार्म दिया जा चुका है। उन्हें फार्म राज्यभर के शिक्षाकर्मियों को बांटने को कहा गया था। अफसरों का कहना है शिविर स्थल पर फार्म नहीं भरवाया जाएगा। शिक्षाकर्मियों को फार्म खुद ही भरकर लाना होगा। इस बारे में सभी प्राचार्यों और प्रधान पाठकों को निर्देश दिए जा चुके हैं।

पदनाम भी बदल जाएगा : शिक्षाकर्मियों का पदनाम भी बदल जाएगा। शिक्षाकर्मी वर्ग-1 शिक्षक व्याख्याता कहलाएंगे। शिक्षाकर्मी वर्ग-2 व वर्ग-3 सहायक शिक्षक कहलाएंगे। केवल संवर्ग में अंतर रहेगा। अभी स्कूलों के नियमित शिक्षकों का सवंर्ग ई है। शिक्षाकर्मियों का संवर्ग एलबी होगा।

यानी शिक्षक व्याख्याता लोकल बॉडी व सहायक शिक्षक लोकल बॉडी लिखे और पुकारे जाएंगे।

ये होगा शिविर में

सभी शिक्षाकर्मियों को कर्मचारी पहचान नंबर यानी एम्प्लाई आईडी नंबर दिया जाएगा।
उनकी सेवा पुस्तिका का संधारण किया जाएगा। जो कमी रह गई, उसे दूर किया जाएगा।
परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर के लिए शिक्षाकर्मियों से आवेदन लेकर जनरेट करेंगे।
वेतन आहरण के लिए व्यक्तिगत डेटा कोड बनाया जाएगा। कागजी प्रक्रिया शिविर में होगी।

साभार www.bhaskar.com

Sharing is caring!