Sharing is caring!

बकरा चोरी के आरोपी को 1 साल का सश्रम कारावास, 2000 का जुर्माना

हरितछत्तीसगढ़ विवेक तिवारी/संजय तिवारी

पत्थलगांव। चोरी चाहे लाखों की हो या फिर कौड़ी की कानून की नजर मे चोरी तो चोरी ही है। बकरा चोरी के मामले में न्यायाधीश लोकेष कुमार व्यवहार न्यायालय पत्थलगांव ने दो लोगों को बकरा चोरी मामले में एक वर्ष सश्रम कारावास की सजा एवं दो हजार रूपये के अर्थदण्ड से दंडित किया हैं। वहीं दो में से एक आरोपी अभी भी फरार है।

मिली जानकारी के अनुसार लगभग 5 वर्ष पूर्व दिनांक 16/04/2013 को मुनुराम यादव निवासी छातासराई थाना बागबहार के यहां उसके घर के बाड़ी में बंधे बकरे को हीराधर यादव पिता पारेसर यादव निवासी ग्राम कुकरगांव थाना बागबहार व मो. जब्बीर पिता अफीद अहमद निवासी काराबेल धाधीपारा थाना सीतापुर ने दो नग बकरे की चोरी अल्टो कार क्रमांक सीजी 15 बी 7721 में डालकर भाग रहे थे, वहीं बकरे को चुराते समय बकरों का चिल्लाना सुन मुनुराम बाहर निकला और कार में ले जा रहे लोगों का पीछा किया। परन्तु कुछ दुरी के बाद ग्राम काडरो के पास वाहन के खराब हो जाने की वजह से आगे भाग नही सके। जहां आरोपी जब्बीर को बकरे मालिक मुनुराम एवं कुछ ग्रामीणों के द्वारा पकड़ लिया गया जहां से हीराधर भागने में सफल रहा। उक्त घटने की षिकायत मुनुराम ने संबंधित थाने में की, षिकायत पर पुलिस द्वारा फरार आरोपी हीराधर को 25/06/2013 को गिरफ्तार किया गया। दोनो के खिलाप भादवि 379 के तहत मामला दर्ज कर चालान पत्थलगांव न्यायालय में प्रस्तुत किया था। प्रकरण के चलते में मामला सिद्वदोष पाये जाने पर आरोपी हीराधर यादव को न्यायाधीष लोकेष कुमार ने एक वर्ष का सश्रम कारावास एवं 2 हजार रूपये की राशि से दंडित किया गया हैं। वहीं दुसरा आरोपी जब्बीर अभी तक फरार है।

Sharing is caring!