July 25, 2021
Breaking News

नगर पंचायत कोटा वार्ड न.02 में गुणवत्ताहीन नाली निर्माण की खुली पोल,निर्माण के बारें में इंजीनियर को जानकारी नहीं।

नगर पंचायत कोटा वार्ड न.02 में गुणवत्ताहीन नाली निर्माण की खुली पोल,निर्माण के बारें में इंजीनियर को जानकारी नहीं।

खुल्लम-खुल्ला भ्रष्टाचार अधिकारी मौन,वार्ड पार्षद ने की शिकायत, पेटी कांटेक्ट के ठेकेदार कर रहे हैं,कार्य।

*दिनांक:-24-08-2018*

*संवाददाता:–मोहम्मद जावेद खान करगी रोड कोटा हरित छत्तीसगढ़।*

करगीरोड कोटा:- इन दिनों कोटा नगर पंचायत के वार्ड नं दो में हो रहे गुणवत्ताहीन नाली निर्माण के चलते काफी सुर्खियो में है,वाट्सप और फेसबुक में नाली निर्माण की खुब चर्चा हो रही है,ठेकेदार किस तरह आरसीसी नाली की निर्माण कर रहा है,ये विडियो और फोटो को देख कर समझा जा सकता है शायद ही इससे घटिया निर्माण होता होगा,शासन से मिली राशि का किस तरह से दुरूपयोग किया जा रहा है, ये सब वार्ड न.02 पहुंचकर देखा जा सकता है।*

*नगर पंचायत कोटा में विकास कार्यो का टेंडर कुछ माह पहले हुआ था जिसमें वार्ड न.-02 में 5 लाख 34 हजार की लागत से आरसीसी नाली बननी थी,लेकिन उसका लेआउट कब किसने दिया इसकी जानकारी इंजिनियर को भी नही है, लेकिन नाली का निर्माण गुणवत्ता की अनदेखी करते हुए कर दिया गया लगभग 160 मीटर नाली का निर्माण होना है ,जानकारी के अनुसार कोटा के रामचरण मिस्त्री ने इसे पेटी कांटेक्ट में लेकर इसका निर्माण शुरू किया है ,जिसे स्टीमेंट के विपरीत बनाया जा रहा है,छड 10 की जगह 8 एम एम की लग रही, जाल यू आकार में बनाना था,वो नही बनाया गया, बेस के उपर छड नही है,दोनो साईड में छड को लटका दिया गया छड की दुरी डेढ से दो फी की दुरी पर है, जबकि छै आठ इंच होनी चाहिए वहीं कांक्रीट भी गुणवत्ता विहिन है,एक व्यक्ति नें जाल को उठाया तो वह पूरा उपर उठ गया और भ्रष्टाचार की पोल खुल गयी वार्ड वासियों ने इसका विरोध भी किया लेकिन ठेकेदार नें अपनी मनमानी करते हुए बहुत कुछ निर्माण कर दिया है,जिसका वार्ड नंबर 2 के पार्षद प्रदीप कौशिक ने विरोध करते हुए शिकायत की है, वह पुनः नियम से नाली के निर्माण की बात कही।*

*वार्ड नं दो में एक सप्ताह पूर्व ठेकेदार नें नाली का निर्माण शुरू किया लेकिन उसे देखने नगर पंचायत का कोई अधिकारी कर्मचारी मौजूद नही था, जिसका ठेकेदार ने फायदा उठाते हुए सबसे घटिया स्तर का काम बेखौफ होकर चालू कर दिया कार्य इतना निम्नस्तर से किया किया जा रहा था, कि वार्डवासीयो नें तुरंत इसकी शिकायत वार्ड के पार्षद प्रदीप कौशिक से की जिसके बाद पार्षद नें वहां पहुंच कर काम बंद करा दिया और अधिकारीयो को इसकी जानकारी दी।*

*इंजिनियर के बिना ले आउट दिय़े काम शुरू*

*कोटा नगर पंचायत की इंजिनियर अदिति राही का कहना था कि मुझे नही मालूम कहा काम हो रहा मैने अभी तक ले आउट नहीं दिया है,ठेकेदार को मालूम नही काम कौन कर रहा काम 14 अगस्त से रामचरण नाम के मिस्त्री ने नगर अध्यछ से भूमि पूजन कराकर काम शुरू किया लेकिन ठेकेदार के पास उक्त नाली निर्माण कार्य का वर्क आर्डर 19 अगस्त को मिला जिस पर ठेकेदार के प्रतिनिधि वेंकट अग्रवाल नें साफ तौर पर कहा कि कार्य के बारे में मुझे कोई जानकारी नही है,आश्चर्य की बात तो यह है ,कि उक्त गुणवत्ता विहिन नाली का निर्माण कौन कर रहा है, इसकी जानकारी ना ठेकेदार को है ,ना ही विभाग की इंजिनियर को तो फिर कौन कैसे और किसके आदेश पर घटिया निर्माण कर रहा है,जो कि जांच का विषय है।

*वार्ड पार्षद प्रदीप कौशिक का कहना था की नाली का निर्माण गुणवत्ता विहिन किया जा रहा है, वर्क आदेश के पहले ही निर्माण शुरू कर दिया गया,जबकि इसकी जानकारी इंजिनियर को भी नही है, रामचरण मिस्त्री अपनी मनमानी करते हुए घटिया निर्माण कर रहा है,जिसे बंद करा दिया गया था ,लेकिन उसके बाद भी वह नही माना जिसकी शिकायत अधिकारी से की गई है।*

*बहरहाल कोटा नगर पंचायत में भ्रष्टाचार चरम पर है, इससे पहले भी शौंचालय निर्माण में जमकर भ्रष्टाचार किया गया, वर्तमान में आवास निर्माण में भी जमकर भ्रष्टाचार चल रहा है, आवास एवं सभी निर्माण कार्यो में कमीशन का खेल जारी है,इसलिए ठेकेदार को आवास निर्माण का कार्य सौंप दिया गया है, आवास निर्माण में भी हितग्राहियों से खुलेआम पैसों की मांग की जा रही है, बीच में अधिकारियों की जांच टीम बैठी थी पर अब तक क्या कार्रवाई हुई जानकारी अप्राप्त है, ठेकेदारों की फिर से बस शिकायत और जांच होती है ,उसके बाद मामला शांत हो जाता है ,अब आगे देखना होगा नाली निर्माण कार्य में अधिकारी किस प्रकार से कैसी जांच करते है,और क्या कार्यवाही करते है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *