July 26, 2021
Breaking News

पुरानी बस्ती तालाब साफ सफाई में नप अध्यक्ष और पार्षद की नदारदगी चर्चा में बेल तालाब और रानी तालाब में sdm ने चलाया सफाई अभियान

हरित छत्तीसगढ़ संजय तिवारी

पत्थलगांव के स्थानीय नागरिको समेत प्रशासनिक अमलो  द्वारा इन दिनों तालाबो की साफ़ सफाई और स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है इसी क्रम में पत्थलगांव ढोढी टिकरा के रानी तालाब और पुरानी बस्ती के बेल तालाब का पत्थलगांव एसडीएम् प्रताप विजय खेस एव वार्ड पार्षद श्यामनारायण गुप्ता समेत स्थानीय निवासियों द्वारा साफ़ सफाई किया गया इस मामले में जहा वार्ड १२ के पार्षद श्यामनारायण गुप्ता लगातार तालाबो के सरक्षण और सम्वर्धन में अपनी सहभागिता निभाते हुए अपने वार्ड के अलावा अन्य वार्डो के तालाबो की साफ़ सफाई में अपना योगदान देते नजर आ रहे है वही वार्ड 14 में स्थित बेल तालाब की सफाई के दौरान जहा वार्ड पार्षद तो नदारद रहे ही वही नप अध्यक्ष का निवास समीप में होने के बावजूद भी नप का साफ सफाई अभियान से नदारद रहना चर्चा का विषय बना हुवा है वही एसडीएम् विजय खेस,नगर पंचायत कर्मी,वार्ड पार्षद श्याम नारायण गुप्ता और स्थानीय निवासियों द्वारा किये गये पहल की सभी लोग प्रशंसा करते नजर आ रहे है वही समीप के तालाब की साफ सफाई अभिया से नप अध्यक्ष और वार्ड पार्षद की नदारदगी से आमजन हैरान नजर आ रहे है/

आखिर क्यों उपेक्षित है बेल तालाब

तालाबों के गहरीकरण एवं सौंदर्यीकरण के लिए नगरीय क्षेत्र में नगर प्रशाशन को शासन द्वारा भारी बजट दिए जाने के बाद भी पत्थलगांव का महत्वपूर्ण तालाब पुरानी बस्ती स्थित बेल तालाब को लेकर नगर प्रशासन का सदैव ही उदासीन रवेया रहा है  जबकि तालाब जिस जगह पर है वहा  से लोग मुक्तिधाम की और रवाना तो होते ही है साथ ही पुरानी बस्ती और जशपुर रोड के निस्तारी  लिए यह  तालाब काफी महत्वपूर्ण है वेसे भी इस तालाब की महत्ता तब और बढ़ जाती है जब तालाब वाले वार्ड में ही पूर्व मंत्री रामपुकार सिंह का निवास समेत पूर्व नप अध्यक्ष का निवास और वर्तमान अध्यक्ष का भी निवास निकट ही  स्थित है  ऐसे में इस तालाब का जीर्णोध्दार नही होना आमजन के समझ से परे है रही बात पार्षद की तो वह भी अपने वार्ड के प्रति गम्भीर नही दिख रही है,

सुता तालाब पर नजरे ईनायत बाकी तालाबी भगवान् भरोसे 

गौरतलब हो की  गर्मी में पेयजल संकट एवं शहर का भूजल स्तर गिर जाने के बाद नगर शासन ने कई मर्तबा वार्ड 10 स्थित सुता तालाब में   जल सरंक्षण के संभावित उपाय करने तालाबों की दशा सुधारने के लिए पार्षद निधि समेत अन्य निधियो का उपयोग करते हुए   उस तालाबी पर लाखो रुपये पानी की तरह भा दिए है परन्तु उसके बावजूद भी तालाब की हालात पर ख़ास सुधार नही हो पाया है वही शाहर के अन्य तालाबो में नगर प्रशाशन खर्च करना तो दूर उनकी ओर देखना तक जरुरी नही समझती यही वजह है की शहर के कई महत्वपूर्ण तालाब आज अपना आस्तित्व खोते नजर आ रहे है जानकारी के मुताबिक़ सुता तालाब में अब तक पचास लाख से ज्यादा  खर्च करने के बावजूद भी उस तालाब  की स्थिति पहले से ज्यादा बदतर हालत में आ गयी है/लोगो का कहना है की जितनी राशि सुता तालाब में खर्च किये जा चुके है उसमे से कुछ राशी अन्य तालाबो के लिए खर्च कर दिए जाते तो शहर के अन्य तालाब सुता तालाब  से बेहतर स्थिति में आकर लोगो को राहत पहुंचते नजर आ सकते थे/

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *