July 26, 2021
Breaking News

आठ करोड़ से अधिक के कोयला की अफरा-तफरी टीआरएन और एसकेएस उद्योग में पहुंचा कोयला, पुलिस अधीक्षक से शिकायत

*_एक्सक्लूसिव_*

आठ करोड़ से अधिक के कोयला की अफरा-तफरी

टीआरएन और एसकेएस उद्योग में पहुंचा कोयला, पुलिस अधीक्षक से शिकायत

*उद्योग प्रबंधनों पर अपराध दर्ज करने की मांग, एसईसीएल के अधिकारियों की भूमिका भी संदिग्ध*

मोहसिन खान@*रायगढ़.* पिछले लंबे समय से छाल खुली खदान में कोयला की अफरा-तफरी की जा रही है। यहां के अधिकारियों व कर्मचारियों की मिलीभगत से करोड़ों रुपए का कोयला अवैध रूप से उद्योगों तक पहुंच रहा है और इसके बाद भी मामले में गंभीरता से कोई कार्रवाई प्रशासन नहीं कर रहा है। कोयला की अफरा-तफरी का कुछ इसी तरह मामला उस समय प्रकाश में आया। जब आरटीआई के तहत जानकारी ली गई और उसमें निर्धारित अवधि से पूर्व ही टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड व एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड उद्योग में हजारों मैट्रिक टन कोयला पहुंच गया। ऐसे में शिकायतकर्ता ने मामले की लिखित में पुलिस अधीक्षक को आवेदन सौंपकर एसईसीएल के अधिकारियों व टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड व एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड उद्योग के डायरेक्टर व अन्य अधिकारियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है।
पुलिस अधीक्षक को सौंपे गए ज्ञापन के अनुसार शिकायतकर्ता ने बताया कि टीआरएन एनर्जी के पक्ष में एसईसीएल बिलासपुर द्वारा दिनांक 9 अप्रैल 2018 को 50000 मैट्रिक टन कोयला 30 अप्रैल 2018 के पश्चात 45 दिनों के भीतर एसईसीएल की छाल खुली कोयला खदान से प्राप्त के लिए डिलीवरी आर्डर क्रमांक 042018/4901/ 00177/ 202006 (डीओ )प्रदान किया गया था। इस प्रकार टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड द्वारा उक्त डीओ के आधार पर दिनांक 1 मई 2018 से 14 जून 2018 तक एसईसीएल की ठाल खुली कोयला खदान से 50000 मैट्रिक टन कोयला प्राप्त किया जा सकता था तथा इस प्रकार उपरोक्त वर्णित निर्धारित अवधि में ही एसईसीएल की छाल खुली कोयला खदान के कम्रचारियों व अधिकारियों द्वारा टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड को कोयला प्रदान किया जा सकता था।
उपरोक्त डीओ क्रमांक 042018/4901/ 00177/ 202006 में निर्धारित अवधि 1 मई 2018 के पूर्व टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड द्वारा एसईसीएल के कर्मचारियों व अधिकारियों से सांठगांठ करते हुए गड़बड़ी कर भारत सरकार के उपक्रम को नुकसान पहुंचाते हुए 18 अप्रैल 2018 को 197.810 मैट्रिक टन, 19 अप्रैल 2018 को 334.930 मैट्रिक टन, 20 अप्रैल 2018 को 26.670 मैट्रिक टन, 28 अप्रैल 2018 को 152.630 मैट्रिक टन, 29 अप्रैल 2018 को 873.630 मैट्रिक टन व 30 अप्रैल 2018 को 571.050 मैट्रिक टन कोयला अवैध रूप से प्राप्त कर लिया गया। जिसकी कुल कीमत लगभग 8067180 रुपए है। जबकि जिस डीओ के आधार पर उक्त कोयला प्राप्त किया गया है। उक्त डीओ दिनांक 1 मई 2018 से प्रभावशील हुआ। इस प्रकार उक्त डीओ का इस्तेमाल कर उसमें उल्लेखित अवधि के पर्वू ही लाखों रुपए का कोयला अवैध रूप से भ्रष्टाचारपूर्वक कपंनी द्वारा प्राप्त कर लिया गया एवं भ्रष्ट अधिकारी एवं कर्मचारियों के द्वारा कपंनी को प्रदान कर दिया गया है। वहीं दूसरे मामले में ठीक इसी प्रकार एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड के पक्ष में एसईसीएल बिलासपुर द्वारा 04 अप्रैल को 56000 मैट्रिक टन कोयला 30 अप्रैल 2018 के पश्चात 45 दिनों के भीतर एसईसीएल की छाल खुली कोयला खदान से प्राप्त करने के लिए डिलीवरी आर्डर क्रमांक 042018/4901/00062/201829 (डीओ) प्रदान किया गया था। इस प्रकार एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड के द्वारा उक्त डीओ के आधार पर 01 मई2018 से 14 जून 2018 तक एसईसीएल की छाल खुली कोयला खदान से 56000 मैट्रिक टन कोयला प्राप्त किया जा सकता था तथा इसी प्रकार उपरोक्त वर्णित निर्धारित अवधि में ही एसईसीएल की छाल खुली खदान के कर्मचारियों व अधिकारियों के द्वारा एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड को कोयला प्रदान किया जाना था। उपरोक्त डीओ क्रमांक 042018/4901/00062/201829 में निर्धारित अवधि 1 मई 2018 के पूर्व एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड द्वारा एसईसीएल के कर्मचारियों व अधिकारियों से सांठगांठ करते हुए और भारत सरकार के उपक्रम को नुकसान पहुंचाया गया। ऐसे में दोनों ही मामलों में शिकायतकर्ता ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर भारत सरकार को लाखों रुपए की हानि पहुंचाने वाले एसईसीएल के अधिकारियों एंव कर्मचारियों तथा टीआरएन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड व एसकेएस पावर जनरेशन छग लिमिटेड के डायरेक्टरों एवं अपराध में संलिप्त अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर कार्रवाई की मांग की गई है।
*इस-तारीख को दिया गया कोयला*
एसकेएस पावर में समय से पूर्व ही हजारों टन कोयला नियमों का उल्लघंन करते हुए दे दिया गया। इसमें 08 अप्रैल 2018 को 1275.090 मैट्रिक टन, 09 अप्रैल 2018 को 3130.870 मैट्रिक टन, 10 अप्रैल 2018 को 1533.320 मैट्रिक टन, 11 अप्रैल 2018 को 1784.520 मैट्रिक टन, 12 अप्रैल 2018 को 1705.450 मैट्रिक टन, 13 अप्रैल 2018 को 1809.500 मैट्रिक टन, 14 अप्रैल 2018 को 1769.430, 15 अप्रैल 2018 के 1578.750, 16 अप्रैल 2018 को 1625.250 मैट्रिक टन, 17 अप्रैल 2018 को 1327.480, 18 अप्रैल 2018 को 643.600, 19 अप्रैल 2018 को 945.910 टन, 20 अप्रैल 2018 को 1645.180, 21 अप्रैल 2018 को 988.850, 25 अप्रैल 2018 को 199.560, 26 अप्रैल 2018 को 126.000, 27 अप्रैल 2018 को 179.850, 28 अप्रैल 2018 को 558.620, 29 अप्रैल 2018 को 489.560 एवं 30 अप्रैल 2018 को 594.500 मैट्रिक टन कोयला अवैध रूप से प्राप्त किया गया। जिसकी कुल कीमत 89970304 रुपए है। जबकि जिस डीओ के आधार पर उक्त कोयला प्राप्त किया गया है। उक्त डीओ एक मई को प्रभावशील हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *