July 25, 2021
Breaking News

डीजल नहीं अब खाड़ी से, डीजल मिलेगा बाड़ी से 13 साल बाद यह नारा सार्थक हुआ,, बायोफ्यूल परियोजना के फ्यूल से विमान ने देहरादून से दिल्ली तक उड़ान भरी।

जैव ईंधन से उड़ान भरने वाले देश का पहला विमान स्‍पाइस जेट.छत्तीसगढ़ सरकार ने 2005 में नारा दिया था-डीजल नहीं अब खाड़ी से, डीजल मिलेगा बाड़ी से। 13 साल बाद यह नारा तब सार्थक हुआ जब बाड़ी के ईंधन से विमानन कंपनी स्पाइस जेट के टर्बो क्यू 400 विमान ने उड़ान भरी। 

उत्‍तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर जैव ईंधन से उड़ान भरने वाले देश के पहले विमान स्‍पाइस जेट को फ्लैग ऑफ किया. फ्लैग ऑफ के बाद विमान ने दिल्ली के लिए उड़ान भरी. यह बायोफ्यूल जैट्रोफा के तेल एवं हाइड्रोजन के मिश्रण से बनाया गया है.इसके लिए आईआईपी में प्लांट लगाया गया है. संस्थान में बायोजेट फ्यूल तैयार किया जा रहा है. छत्तीसगढ़ से बायोफ्यूल डेवलपमेंट अथॉरिटी के जरिये जैट्रोफा का बीज खरीदा गया है विदित हो की बायोफ्यूल अथारिटी ने राजधानी रायपुर के वीआइपी रोड में बायोफ्यूल का प्लांट में लगाया है। यहां प्रतिदिन तीन टन ऑयल का उत्पादन होता है। बिलासपुर, कवर्धा, मुंगेली, जांजगीर आदि जिलों में किसानों का सशक्त समूह गठित किया गया है। पेंड्रा समूह के पांच सौ किसानों ने वह बीज दिया जिससे विमान का ईंधन बना। सरकार किसानों से 13-14 रूपये प्रतिकिलो के दाम पर बीज खरीदती है। चार किलो बीज से एक किलो तेल निकलता है। 

. इससे पूर्व जैव ईंधन से चलने वाले इस स्‍पाइस जेट का परीक्षण भी किया था. बताया गया कि अमेरिका और कनाडा जैसे देशों में कमर्शियल विमान पहले से ही जैव ईंधन से उड़ान भर चुके हैं. जैव ईंधन से उड़ान भरने वाले स्पाइस जेट के फ्लैग ऑफ के अवसर पर महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्या, आईआईपी के निदेशक अंजन कुमार रे, स्‍पाइस जेट से जी.पी. गुप्ता, कैप्टन सतीश चन्द्र पाण्डे एवं आईआईपी के वैज्ञानिक उपस्थित थे.स्पाइसजेट ने कहा कि जट्रोफा फसल से बने इस ईंधन का विकास सीएसआईआर-भारतीय पेट्रोलियम संस्थान, देहरादून ने किया है. परीक्षण उड़ान पर करीब 20 लोग सवार थे. इनमें नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) और स्पाइसजेट के अधिकारी शामिल रहे. एयरलाइन के एक अधिकारी ने बताया कि यह उड़ान करीब 25 मिनट की थी.Image result for एविएशन फ्यूल से विमान ने देहरादून से दिल्ली तक

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *