August 5, 2021
Breaking News

कवर्धा: ऐसे में स्मार्ट सिटी बनाने का सपना पूरा कैसे होगा

हरित छत्तीसगढ़ सूर्या गुप्ता कवर्धा

कवर्धा- शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए अतिक्रमण हटाने का अभियान चला रहे थे, लेकिन अतिक्रमण पर अब ग्रहण लग गया है,प्रशासन की बुल्डोजर की पहिया थम गई, कुछ दिन पहले पूरे शहर के अतिक्रमण को हटाने के लिए प्रशासन अपनी पूरी ताकत लगा दिया था। प्रशासन अब तक गरीबो की पेट पर बुल्डोजर चढ़ाये है,शहर के स्थित नवीन बाजार के व्यापारियों के ऊपर दबाव डाल कर दुकानों तोड़ दिया दिया जिससे नवीन बाजार के व्यापारियों को भारी दिक्कत हो रही है,हाल की प्रशासन ने शहर के कई स्थानों को चिन्हांकित किया था और कुछ मकान मालिक और व्यापारियों को नगरपालिका के द्वारा नोटिस दिया था, वही शहर के सबसे विवादित सर्राफा लाइन को तोड़ने के लिए सर्राफा व्यापारियों को बुलाकर मीटिंग किया गया था जिसमें कलेक्टर नीरज बंसोड़ सहित नगरपालिका अध्यक्ष व अधिकारी व सर्राफा व्यापारी मौजूद थे। घंटे तक अधिकारी और व्यपारियों के बीच बहस चलती रही बाद में यहाँ निर्णय लिया गया कि सर्राफा लाईन को 4से 7 फिट तोड़ा जाएगा जिस पर व्यपारियों ने हामी भरी थी, दूसरे दिन प्रशासन की बुल्डोजर सिर्फ कुछ लोगो का ही चबूतरे को ही तोड़ पाई जबकि की 4 से 7 फिट तोड़ना था लेकिन प्रशासन चबूतरे को तोड़ने में सफल रही है, आखिर अतिक्रमण पर ग्रहण क्यो लग गया,क्या प्रशासन को कोई राजनीति दबाव है या और कुछ दबव सता रही है,अपने वादे क्यों पीछे हट गई जिला प्रशासन जबकि गरीबो पर दबाव के चलते तोड़ फोड़ कर दिया आज नवीन बाजार अव्यवस्थित में तब्दील हो गई है, गरीबो ने प्रशासन के ऊपर लगाया आरोप जब गरीबो की दुकाने और झोपड़ियों को तोड़ दिये है और रसूखदारों की चबूतरे को तोड़ने के लिए मीटिंग बुलाकर तोड़ने के लिए अनुमति लिया गया । जबकि सर्राफा लाईन को 4 से 7 फिट तोड़ने वाली थी लेकिन आज देखे तो सिर्फ कुछ लोगो का ही चबूतरे को ही तोड़ पाये है । प्रशासन इन पर क्यो दबाव नही डाल रहे है सिर्फ गरीबो पर प्रशासन की बुल्डोजर चलती है। सवाल यहाँ पे खड़ा हो रहा है जब प्रशासन का जब सर्राफा को तोड़ने का मौका आई तो पूरे शहर के अतिक्रमण पर रोक लग गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *