Sharing is caring!

भारतीय स्टेट बैंक ने सोमवार को (SBI) मिनिमम अकाउंट बैलेंस चार्ज के नियमों में फेरबदल किया है। इसके तहत बैंक ने मेट्रो सेंटर्स में लिमिट 5,000 रुपए से घटा कर 3,000 की है। अब मेट्रो और अरबन सेंटर को एक ही कैटेगरी में माना जाएगा।

मिनिमम बैलेंस चार्ज में भी 20% से 50% तक कटौती की गई है। इसके साथ ही बैंक अब नाबालिगों, पेंशनर्स और सब्सिडी के लिए खोले गए अकाउंट्स पर मिनिमम बैलेंस का चार्ज वसूल नहीं करेगी। SBI की ओर से बताया गया है कि इससे करीब 5 करोड़ अकाउंट होल्डर्स को फायदा होगा। नये नियम अक्टूबर से लागू होंगे। देश की अग्रणी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपने बचत खाताधारकों को बड़ी राहत देते हुए महानगरों में न्यूनतम जमा राशि की सीमा को 5 हजार रुपए से घटाकर 3 हजार रुपए करने की घोषणा की है। बैंक ने कहा है कि उसने मेट्रो और शहरी शाखाओं में बचत खातों में न्यनूतम जमा राशि 3 हजार रुपए करने का फैसला किया है। इसके साथ ही बैंक अब नाबालिगों, पेंशनर्स और सब्सिडी के लिए खोले गए अकाउंट्स पर मिनिमम बैलेंस का चार्ज वसूल नहीं करेगी। एसबीआई की ओर कहा गया है कि इससे करीब 5 करोड़ अकाउंट होल्डर्स को फायदा होगा। यह निर्णय एक अक्टूबर से लागू होगा। बैंक के अनुसार, शहरी़ अर्ध शहरी और ग्रामीण शाखाओं में यह सीमा अब क्रमश 3 हजार रुपए 2 हजार रुपए और 1 हजार रुपए रहेगी। इसके अलावा बैंक ने गैर रख-रखाव प्रभार भी 20 से 50 प्रतिशत घटा दिया है। बैंक द्वारा जारी बयान में कहा है कि अर्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभार को 25 से 75 रुपए से घटा कर 20 से 40 रुपए और शहरी और मेट्रो शहरों में 50 से 100 रुपए से घटा कर 30 से 50 रुपए कर दिया जाएगा। बैंक ने पेंशनभोगियों के लिए मासिक औसत बकाया (एमएबी) प्रभार भी हटा दिया है। यह प्रधानमंत्री जनधन योजना और मूल बचत खाता जमा खातों के अलावा है। बैंक ने यह भी स्पष्ट किया है नियमित बचत खाता को मूल बचत खाता में बिना किसी शुल्क के परिवर्तित किया जा सकता है।
अकाउंट कंवर्ट कराने पर नहीं लगेगा कोई चार्ज
बैंक की ओर से कहा गया है कि फिलहाल हमारे पास 40 करोड़ सेविंग अकाउंट होल्डर्स हैं। इनमें से 13 करोड़ बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट हैं। इस अकाउंट पर मंथली एवरेज बैलेंस चार्ज नहीं लगता है। कोई भी कस्टमर अपने सेविंग अकाउंट को मुफ्त में बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट में कन्वर्ट करा सकता है। ऐसे में उन्हें अकाउंट में जीरो बैलेंस होने पर भी कोई पेनाल्टी नहीं देनी होगी।

मिनिमम बैलेंस को लेकर फिलहाल क्या नियम है? सेविंग अकाउंट होल्‍डर्स को मिनिमम बैलेंस की लिमिट नहीं रखने पर मंथली एवरेज बैलेंस चार्ज देना होता है। मेट्रो सेंटर्स में हर महीने 5000, अरबन सेंटर्स में 3000 और सेमी अरबन ब्रांच में अकाउंट होल्डर्स को 2000 रुपए बैलेंस रखना जरूरी है। वहीं, रूरल इलाकों के लिए यह लिमिट 1000 रुपए है। मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर हर महीने 50 से 100 रुपए तक वसूले जाते हैं।

Sharing is caring!