November 30, 2021
Breaking News

छत्तीसगढ़, बस्तर पत्रकार रिपोर्टिंग करने पहुंचे तो गोली मार देना,पत्रकारों में रोष

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर

जगदलपुर. बस्तर में नक्सलियों की रिपोर्टिंग के लिए जंगल में जाने वाले चार स्थानीय पत्रकारों का एनकाउंटर करने की साजिश रचने का ऑडियो सामने आने के बाद से पत्रकारों में आक्रोश वयाप्त है साथ ही अपने पेशे को लेकर उनमे असुरक्षा की भावना देखी जा रही है, इस ऑडियो में एक व्यक्ति सुरक्षाबलों को आदेश दे रहा है, ‘यदि कोई पत्रकार उधर रिपोर्टिंग के लिए पहुंचे तो उन्हें गोली मार देना’।विदित हो कि सोशल मीडिया में आने के बाद बुधवार को यह मामला दिनभर सुर्खियों में छाया रहा। गौरतलब है कि बस्तर जैसे संवेदनशील इलाके में पत्रकार अकसर पुलिस और नक्सलियों के निशाने पर रहते हैं। एक तरफ जहां कई पत्रकारों को नक्सली मौत के घाट उतार चुके हैं, वहीं दूसरी तरफ जनसुरक्षा अधिनियम के तहत पुलिस कई पत्रकारों को जेल भेज चुकी है।

देश-दुनिया में पत्रकारिता का पेशा जोखिम भरा और जानलेवा होता जा रहा है। अपनी जान पर खेलकर पत्रकारिता कर रहे पत्रकारों पर जानलेवा हमले बढऩे लगे हैं। यहीं नहीं इस जोखिम भरे पेशे के बावजूद मीडिया प्रबंधन और सरकारें पत्रकारों की सुरक्षा और बेहतर जीवन के लिए ध्यान नहीं दे रहे हैं। दुनियाभर के तमाम पत्रकार मुश्किल और विपरीत परिस्थियों में भी सच्चाई को जनता तक ला रहे हैं। जानकारी के मुताबिक करीब चार दिनों पहले बीजापुर के चार पत्रकार तेलंगाना सीमा से लगे पुजारी कांकेर की तरफ रिपोर्टिंग के लिए गए थे। इसके बाद जब वे वहां से लौटे तो उन्हें कुछ लोगों ने बताया कि सुरक्षाबलों ने उनके एनकाउंटर की तैयारी कर रखी थी, लेकिन किस्मत से वे बच निकले। पत्रकारों को सुरक्षाबल के साथ एक अफसर की वायरलेस पर बातचीत की ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मिल गई है।
पत्रकार संघ को छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ का समर्थन
जगदलपुर छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ के अध्यक्ष एस डी राज नायडू एवं जिला उपाध्यक्ष योगेश पानीग्राही ने पत्रकारों के हित के लिए बस्तर पत्रकार संघ द्वारा गुरुवार को आयोजित धरना प्रदर्शन का समर्थन किया है जिला अध्यक्ष नायडु वजिला उपाध्यक्ष पानीग्राही संयुक्त बयान में कहा है कि बस्तर के पत्रकार विषम परिस्थिति में काम करने को मजबूर हैं और खासकर दक्षिण बस्तर और दक्षिण पश्चिम बस्तर में पत्रकार जिला और पुलिस प्रशासन के साथ सहयोगात्मक रवैया अपना रहा है उसके बावजूद पुलिस प्रशासन द्वारा बीजापुर क्षेत्र में वायरलेस सेट के माध्यम से पत्रकारों को मारने की धमकी दी जा रही है जिसकी छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ निंदा करती है! बस्तर पत्रकार संघ ने शॉर्ट नोटिस में एक दिवसीय धरना का आह्वान किया है जिसका समर्थन छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ करता है! छत्तीसगढ़ श्रमजीवी पत्रकार संघ ने अपने सदस्यों से अपील की है कि गुरुवार को कमिश्नर कार्यालय के सामने आयोजित धरना प्रदर्शन में बड़ी संख्या में उपस्थित होने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *