November 29, 2021
Breaking News

लंदन में गिरफ्तार विजय माल्या को फिर चंद मिनटों में मिली जमानत


शराब व्यवसायी विजय माल्या को मनी लांड्रिंग के दूसरे मामले में गिरफ्तार किया गया है. इसको लेकर प्रवर्तन निदेशालय ने मामला दर्ज कराया है. ब्रिटेन की क्राउन प्रोसक्यूशन सर्विस (सीपीएस) ने मंगलवार (3 अक्टूबर) को यह जानकारी दी. इसके तुरंत बाद माल्या कउो वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने जमानत पर रिहा कर दिया. विवादों में घिरे 61 वर्षीय व्यवसायी प्रत्यर्पण वारंट मामले में पहले से जमानत पर हैं. उन्हें पूर्व की जमानत की शर्तों पर ही रिहा किया गया है. माल्या को चार दिसंबर को अपने मुकदमे की सुनवाई के लिए अदालत में उपस्थित होना है. अदालत के बाहर बातचीत में माल्या ने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया. उन्होंने अपने खिलाफ आरोपों को घेरने की साजिश बताया. माल्या ने कहा, ‘मैं किसी अदालत से बच नहीं रहा है. यदि कानूनी तौर पर यहां उपस्थित होना जरूरी है, तो मैं यहां मौजूद रहूंगा.’ मैंने अपने मामले को साबित करने को कई प्रमाण दिए हैं.

इस बीच, नई दिल्ली में सूत्रों ने बताया कि भारत सरकार ने माल्या के खिलाफ मनी लांड्रिंग मामले में प्रत्यर्पण का अनुरोध किया है, उसी के आधार पर गिरफ्तारी की गयी है. मामले की जांच प्रवर्तन निदेशलय (ईडी) कर रहा है. केंद्रीय जांच एजेंसी माल्या और अन्य के खिलाफ मुंबई की अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है. माल्या अपनी बंद पड़ी कंपनी किंगिफशर के करीब 9,000 करोड़ रुपये के कर्ज नहीं चुकाने के मामले में भारत में वांछित हैं. वह पिछले साल मार्च में देश छोड़कर लंदन चले गये थे।
बैंकों का माल्या पर कितना बकाया?
(पैसा करोड़ रुपए में)
एसबीआई-1600
पीएनबी-800
आईडीबीआई-800
बैंक ऑफ इंडिया- 650
यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया-430
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया-410
यूको बैंक- 320
कॉर्पोरेशन बैंक-310
स्टेट बैंक ऑफ मैसूर-150
इंडियन ओवरसीज बैंक-140
फेडरल बैंक- 90
पंजाब एंड सिंध बैंक-60
एक्सिस बैंक-50
मामले की जांच प्रवर्तन निदेशलय (ईडी) कर रहा है. केंद्रीय जांच एजेंसी माल्या और अन्य के खिलाफ मुंबई की अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है.

माल्या अपनी बंद पड़ी कंपनी किंगफिशर के करीब 9,000 करोड़ रुपये के कर्ज नहीं चुकाने के मामले में भारत में वांछित हैं. वह पिछले साल मार्च में देश छोड़कर लंदन चले गये थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *