September 24, 2021
Breaking News

राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों को नहीं मिल रहा है शुद्ध पानी,तालाबों का पानी पीने मजबूर

हरित छत्तीसगढ़ पप्पू जायसवाल

सूरजपुर/बिहारपुर:- जिले के वनांचल क्षेत्र मे बसा बैजनपाठ मे राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहे जाने वाले पण्डो जनजाति के लोग यहां लगभग 33 परिवारों के सांथ पिछले कई दशकों से निवास करते आ रहे हैं और पानी पीने हेतु खासकर गर्मी के मौसम मे ये परिवार मध्यप्रदेश पड़ोसी राज्य मे अपनी प्यास बुझाने जाते हैं जिसे प्रेस मीडिया इस खबर को प्रमुखता से छापकर जिम्मेदार अधिकारियों को अवगत कराया था और मामला गम्भीर होने के कारण उसे तत्काल संज्ञान मे लेकर 46.78 लाख की मंजूरी देते हुए पेयजल की व्यवस्था हेतु सोलर पम्प के माध्यम से लोगों तक शुद्ध पानी पहुंचाने का निर्णय लिया गया और कार्य भी पूर्ण हो गया। परंतु उक्त गांव *चार भागों मे* बॅटा हुआ है *(1) यादव पारा (2) बीचपारा (3) पण्डो पारा भाग 1 (4) पण्डो पारा भाग 2*

जहां पर 2000 ली0 की क्षमता वाला टंकी तीन नग 2000×3=6000 ली0,जिसमे *दो टंकी यादव पारा,एक टंकी बीचपारा* मे लगाया गया है। बांकि *पण्डोपारा भाग-1 व भाग -2 मे लोगों को,खासकर पण्डो परिवारों को पानी नहीं मिल पा रहा है* ।
इसका कारण है कि उक्त बैजनपाठ की जनसंख्या लगभग 450 की है जहां पर लोग घनी बस्ती मे ना बसकर *पारों* मे बसे हैं और *प्रत्येक पारा कि दुरी 2 से 3 कि0मी0 है।*
*जहां पर टंकी लगाया गया है वहां पर पण्डो परिवारों को पानी पिने जाने के लिये लगभग 2 से 3 कि0मी0 दूर पड़ जाता है*।
विदित हो कि जहां पर मध्यप्रदेश के *बघोर नामक नाला मे पानी पिने लोग गर्मी मे जाते हैं ठीक उतनी ही दुरी गांव मे लगे टंकी के पास भी जाने मे लगता है*।
कई बार दिये हैं आवेदन-* लोगों का कहना है कि कलेक्टर जनदर्शन मे,कलेक्टर आफिस मे,डिप्टी कलेक्टर जी को हमने इसकी लिखित आवेदन दिया था परंतु निर्णय मे यह आया कि *सासन की स्वीकृति राशि और नमूना के अनुसार हमने कार्य पुर्ण कर दिया है,अब उक्त राशि से व अलग से टंकी लगाना संभव नहीं है*।

*फिर से लोगों को होगी परेशानी*– अभी तो लोग तालाबों/नालों का पानी पीकर किसी तरह गुजारा कर ले रहे हैं परंतु आने वाले गर्मी के मौसम मे उक्त परिवारों को फिर से पड़ोसी राज्य से ही प्यास बुझाने की नौबत आ जाएगी क्योंकि *बघोर नाला से और गांव मे लगे टंकी के पास जाने मे लगभग 2 से 3 कि0मी0 बराबर की दुरी पड़ेगा और वैसे भी जब तक चारों पारा मे टंकी नहीं लगाया जाएगा,तब तक शायद 2000 ली0 की क्षमता वाली टंकी से पानी पुरना संम्भव नहीं होगा*। क्योंकि प्रत्येक पारा मे लगभग 18 से 20 परिवार हैं।
पण्डोपारा भाग-1 व 2 के लोगों का कहना है कि हमे दोनो पारा मे *पांच-पांच हजार ली0वाला टंकी दिया जाये जिसमे एक टंकी पण्डोपारा भाग-1 मे शिवमंगल पण्डो व मंगलु पण्डो के घर के बीच मे (पारा के बीच मे) तथा एक टंकी पण्डोपारा भाग -2 मे फुलसाय पण्डो व गंगा पण्डो के घर के बीच (पारा के बीच मे) लगाया जाए*।

*गांव के जानकार व समाज के लोगों ने बताया कि यदि हम लोगों की समस्या को जल्द नहीं सुना गया तो हम एक पत्र *माननीय* *प्रधानमंत्री जी को व माननीय मुख्यमंत्री जी को जल्द ही लिखेंगे* *और उनसे आग्रह करेंगे की यदि हमे सासन के योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है इस लिए हमे कहीं दुसरे स्थान पर बसाया जाये ताकि हम भी सासन के* *मुख्यधारा से जुड़कर योजनाओं का लाभ ले सकें*
*और वैसे भी हमारे गांव मे पानी के अलावा सड़क,बीजली,स्कुल भवन की सुविधा आज भी नहीं है जहां मरीजों को खाट पर ढोकर ले जान पड़ता है ईलाज हेतु,रोड के अभाव से।*

विदित हो कि यह क्षेत्र वैसे भी मलेरिया प्रभावित क्षेत्र है,अगर लोगों के मांग पर तत्काल ध्यान नहीं दिया गया तो लोग बरसात का पानी पी कर कभी भी बीमार हो सकते हैं तथा कभी भी बड़ी अनहोनी हो सकता है। ग्रामीणों ने कलेक्टर महोदय जी से मांग की है तत्काल मांग पूरी नहीं होने पर *राष्ट्रीपति दत्तक पुत्रों पण्डो जाति के* इनकी मांग पूरी नहीं करने पर लोगो ने उग्र आन्दोलन करने की चेतावनी भी दी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *