July 25, 2021
Breaking News

कवर्धा:शराब दुकान आपरेटर कम वेतन औऱ अन्य समस्याओं को लेकर काम बंद

हरित छत्तीसगढ़ सूर्या गुप्ता कवर्धा

कवर्धा जिला भर के देषी व विदेषी शराब दुकानों में काम करनेवाले 150 से अधिक कर्मचारियों ने समय पर वेतन न मिलने तथा टूट फुट के नाम से वेतन से अधिक राषि काटने के विरोध में काम बंद कर इस्तीफा की पेषकस की है वहीं इस मामले में आबकारी विभाग उच्चाधिकारियों को मामले से अवगत कराते हुए जल्द की समस्या का समाधान करने की बात कह रहे है।
कवर्धा जिले में 28 देषी व विदेषी षराब दुकान है जहां प्रदेषसरकार की आबकारी नीति के तहत इस वर्श से सभी दुुकानों का संचालक प्लेंसमेंट एजेंसी के जरिये भर्ती किये गए सुपरवायजर, सेल्समेंन, मल्टीपर्पस एवं गार्ड की नियुक्ति की गई थी। मार्च माह में नियुक्ति कर अप्रैल से दुकान षुरू भी कर दिये गए थे। जिले भरके दुकानों में 150 से अधिक स्थानीय युवकों को अमानत राषि जमा लेकर नौकरी दी थी। जिसके बाद षुरूआत मंे उनहें काम के बदले वेतन तो सही मिला लेकिन दोमाह बाद भी उनके वेतन से टूटफुट के नाम पर कटौती करना षुरू कर दिये । वहीं सभी युवकों से काम के नाम से 10 से 12 घंटे काम लिया जा रहा है। ज्यादातर युवक गरीब व ग्रामीण क्षेत्रों है जो यहां किराये पररह कर काम करते है, लेकिन जिस प्रकार से आबकारी विभाग और प्लेंसमेंट एजेंसी द्वारा इन युवकों के साथ 12-12 घंटे काम लेकर आध अधूरा वेतन दिया जाने लगा। जिससे सभी आका्रेषित हो गए। युवकों का आधा वेतन टूट फुट के नाम पर ही काट दिया गया है। वहीं समय पर वेतन भी नहीं दिया जारहा है। दो दो माह बाद वेतन मिलने व आधा अधूरा वेतन मिलने से परेषान युवकों को घर चलाना मुष्किल हो रहा है ऐसे मेंयुवकों ने आबाकारी विभाग के समक्ष सामुहिक रूप से इस्तीफा की पेषकसकरते हुए अपने अमानतराषि वापस दिलाने की मांग की हेे। युवकों का सीधा कहना है कि विभाग द्वारा बेरोजगार युवकों के मजबूरी का फायदा उठाया जारहा है। काम तोपूरा लिया जा रहा है लेकिन पैसा काम के हिसाब से नहीं दिया जा रहा है। इससे अच्छा होगा कही औरकाम करें।
आबकारी विभाग के अधिकारी भी मानते है कि युवकों को समय पर वेतन नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए जल्दसही समस्या का समाधान निकाला जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *