February 17, 2020
Breaking News

अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों को परेशान न करे सरकार: वरेन्द्र दुबे रायपुर

अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों के विरूद्घ कार्रवाई रोकने और प्रशिक्षण के आभाव में आ रही परेशानी को लेकर शिक्षाकर्मियो की रायपुर में हुयी बैठक जमकर कोसा राज्य सरकार को ,शिक्षाकर्मियो ने कहा प्रशिक्षित करवाना सरकार की जिम्मेदारी, 

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर।    शिक्षाकर्मी संर्घष समिति के बैनर तले विरेन्द्र दूबे के नेतृत्व मे अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों ने रायपुर मे बैठक आयोजित कर आगामी रणनीति बनाते हुए प्रशिक्षण के आभाव मे शासन द्वारा अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों के साथ किए जा रहे सरकारी बर्ताव पर गहरी नाराजगी जताते हुए सरकार को चेतावनी दिया है कि सरकार अपने भारी नियम के तहत प्रशिक्षण के आभाव मे शिक्षाकर्मियों को परेशान न करें नही तो सरकार को इसके परिणाम भुगतने होगें।
इस दौरान अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों पर होने वाली कार्रवाई, स्थानांतरण, पदोन्नाति, युक्तियुक्तकरण व एरियर्स राशि सहित अन्य प्रमुख विषयों को लेकर विस्तृत चर्चा की गई उपस्थित लोगों ने अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों के हित को ध्यान में रखते हुए वेतन में कटौती सहित अन्य किसी भी प्रकार की होने वाली कार्रवाई को रोकने की मांग करते हुए मांगे नही माने जाने पर भविष्य मे उग्र आंदोलन की चेतावनी तक दे डाली। यहां उपस्थित शालेए शिक्षाकर्मी संघ के प्रातांध्यक्ष विरेंद्र दुबे ने बताया कि छत्तीसगढ़ प्रदेश मे बीस से पच्चीस हजार के लगभग अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मी हैं जिनमे ज्यादातर तो व्याख्यता पंचायत हैं प्रशिक्षण के आभाव मे इनकी सुविधाएं जैसे समयमान वेतनमान, पुनरीक्षित वेतनमान तथा नियमतिकरण रोकी जा रही है चुंकि अज हमारी भर्ती की गई थी तब से इनके प्रािखण के लिए सरकार द्वारा कोई कदम नही उठाया गया जबकी प्रशिक्षित कराने की जिम्मेदारी भी शासन की है ,साथ ही शिक्षाकर्मियों के लिए अन्य विकल्पों से भी बीएड करने का कोई उपाय नही है।क्योंकि शासन के अनुसार शिक्षाकम्रियों के लिए अध्ययन अवकाश की सुविधा नही दी जाती ऐसे मे सरकार ने प्रशिक्षण के सारे रास्ते ही बंद कर दिए है और अब प्रशिक्षण की अनिवार्यता लागू कर प्रशिक्षण के आभाव मे सारी महत्वपूर्ण सुविधायों से वचिंत करते जा रही है। उन्होने बताया कि सरकार द्वारा भारी नियम के तहत प्रशिक्षण के आभाव मे केवल वार्षिक वेतन वृद्धि रोकी जा सकती है जबकी सरकार द्वारा समयमान तथा पुनरीक्षित वेतनमान जैसी सुविधाएं भी रोक दी जा रही है। इस बैठक मे प्रदेश भर से हजारों की संया मे शिक्षाकर्मी उपस्थित होकर सरका के फैसले के खिलाफ आवाज बुंलद करते दिखे इस दौरान धर्मेश शर्मा,प्रशांत भूषण शर्मा,जितेंद्र शर्मा,नीतेश पांडे,नरेश खटकर,दिनेश कर,कमलेश यादव,आशीष देवांगन,अजय भोई समेत कई लोगों ने बैठक को संबोधित करते हुए सरकार को आड़े हाथों लिया। गौरतलब हो कि बीेत दिनों पंचायत विभाग ने अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों को बड़ा झटका देते हुए बीएड, डीएड नहीं वालों को समयमान वेतनमान नहीं मिलने का आदेश जारी कर दिया था जिसके बाद से ही प्रभावित शिक्षाकर्मियों मे आक्रोश व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *