August 3, 2021
Breaking News

AIIMS.रायपुर का अनोखा कारनामा, फेसबुक पोस्ट को किया लाईक नौकरी से बाहर निकाला

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर।
AIIMS के वार्ड ब्वाय व युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव संजीव शुक्ला ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेस मे जानकारी दी कि AIIMS प्रबंधन द्वारा छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों को दादागीरी एंव जबरिया झुठे शिकायत कर नौकरी से निकाला जा रहा है। उन्होने बताया कि अभी हाल मे ही ।AIIMS द्वारा बी ब्लाक मे 240 बेड का नया सेक्शन उदघाटन किया गया था जिसमे ।AIIMS डायरेक्टर डा नितिन एम नागरकर ने अपनी धर्मपत्नी से उदघाटन करा दिया। युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव संजीव शुक्ला ने आरोप लगाया कि AIIMS डा साहब की निजी सम्पती है जिसका उदघाटन उन्होने अपने परिवार के सदस्य से कराया और तो और न सांसद,न सीएम न समाज सेवक न स्वास्थ्य मंत्री और न ही केंद्र से किसी लनप्रतिनिधि को आमंत्रित किया गया। वहीं जब इसकी खिलाफत करते हुए सर्जन डाक्टर राधा कृष्णन रामचन्दानी ने फेसबूक पर इसके विरोध स्वरूप उदघाटन मे मनमानी का पोस्ट डालते हुए अपने विचार व्यक्त किए तो उनके साथ जुड़े अस्पताल के अन्य कर्मचारियों ने भी कमेंट व लाईक कर दिया।वहीं फेसबूक पोस्ट के वायरल होते ही AIIMS प्रबंधन और डायरेक्रटर

गुस्से मे आगबबूला हो उठे और पोस्ट डालने वाले डा साहब का तो कुछ बिगाड नही पाए, अपना गुस्सा चिन्हीत छत्तीसगढ़ीया वार्ड ब्वाय पर उतारते हुए ठेकेदार को डरा धमका कर 5 वार्ड ब्वाय को नौकरी से हटा दिया।उन्होने बताया कि ये वहीं वार्ड ब्वाय थे जो की पूर्व वेतन बढ़ाने को लेकर हड़ताल मे बढ़चढ़ कर भाग लिए थे हड़ताल से AIIMS प्रबंधन को झुकना पड़ा था और वेतन बढ़ाना पड़ा था। उन्होने बताया कि पूर्व मे हुए हड़ताल मे बढ़चढ़ कर भाग लेने का भी रंज AIIMS प्रबंधन ने पाली हुई थी वहीं अब फेसबुक के पोस्ट पर लाईक करते ही AIIMS प्रबंधन ने उन्हे बाहर का रास्ता दिखा दिया।
 वहीं प्रंबधन के तनाव मे ठेकेदार कंपनी ने 1 सितंबर से उन पांचों वार्ड ब्वाय को काम पे आने को मना कर दिया और जब कर्मचारियों ने वजह पूछी तो न प्रबंधन के पास और न ही ठेकेदार के पास कोई जबाव मिल पाया।उन्होने बताया किAIIMS प्रबंधन ने 22 सिंबतर को ठेकेदार कंपनी को एक झुठा शिकायत पत्र लिखा गया जिसमे निकाले गए कर्मचारियों के नाम उल्लेखित कर कहा गया कि ये लोग कम्प्यूटर पर अशासकीय कार्य कर रहे थे वहीं 1 सितंबर को ही निकाल दिए गए कर्मचारियों के ठेकेदार के पास AIIMS प्रबंधन द्वारा 22 सिंतबर को नोटीस भेजा जाना भी संदेह के दायरे मे है। जबकी अभी तक निकाले गए कर्मचारियों को नोटीस भी नही भेजा गया है।युवा कांग्रेस  के प्रदेश महासचिव संजीव शुक्ला ने AIIMS प्रबंधन को चेताते हुए कहा कि यदि प्रबंधन पीड़ित छत्तीसगढ़ी कर्मचारियों को वापस नही लेती है तो युवा कांग्रेस डायरेक्टर और प्रबंधन के खिलाफ उग्र आंदोलन कर सड़क से लेकर अदालत तक की लड़ाई लड़ेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *