July 26, 2021
Breaking News

प्रतिक्षालय शौचालय में तब्दील, चारों ओर पसरी बदबु 

प्रतिक्षालय शौचालय में तब्दील, चारों ओर पसरी बदबु प्रतिक्षालय शौचालय में तब्दील, चारों ओर पसरी बदबु

हरित छत्तीसगढ़ विवेक तिवारी पत्थलगांव । पत्थलगांव बस स्टैण्ड में बने यात्री प्रतिक्षालय का हाल खस्ता बना हुआ है, इसका उपयोग अब राहगीर टाॅयलेट के अभाव में प्रतीक्षा करने में नही अपितु शौचालय के रुप में करने लगे हैं। नगरीय प्रषासन के देखरेख के अभाव में यहां गंदगी का अलम पसरा रहता है। वहीं प्रतिक्षालय में लगे बिजली के बोर्ड की तोड़फोड़ व यहां लगे पंखे की चोरी भी हो चुकी है।  बस स्टैंड मे निर्मित यात्री प्रतिक्षालय नगर प्रशासन की उदासीनता का शिकार हो रहा है बीना देखरेख के संचालित प्रतिक्षालय यात्रियों को सुविधाए पहुंचाने की बजाए परेशानी मे डालता नजर आ रहा है,यहां की गंदगी का आलम यह है कि इसके अंदर यात्री प्रवेश करना तो दुर इसके आसपास भी भटकना भी पंसद नही करते। इस भवन मे राहगीर कम जानवरों ओर असमाजिक तत्वों की आवाजाही ज्यादा रहती है। हालांकि कभी कभार सुबह के समय इस भवन की सफाईकर्मियों द्वारा साफ-सफाई तो की जाती है, परंतु टाॅयलेट में बगैर पानी के इस सफाई का कोई मतलब नही रहता उसके बाद पुरे दिन भर तक यहां गंदगी फेलाने, एवं उससे उठने वाले बदबु का क्रम जारी रहता है। स्टैण्ड में टाॅयलेट के अभाव के करण, यहां मौजुद प्रसाधन का उपयोग करना बस इन बेचारे राहगीरों की मजबुरी बनती नजर आ रही है, वहीं पानी के आभाव मे टायलेट मे गंदगी भरी पड़ी रहती है जिससे आ रही बदबु के कारण यहां प्रवेश करने से लोग कतराते है। जिससे यात्री यहां बैठने के बजाय शौचालय के रूप में इसका इस्तेमाल करते हैं। गैर जिम्मेदारी बनी परेशानीशहर में दिनों दिन बढ़ती आबादी और उसके साथ बढ़ती वाहनों से आने वाली बसों की भीड के बीच बसा पत्थलगांव का प्रतीक्षालय अपने ही हालात को सुधारने की प्रतीक्षा में है। वहीं पत्थलगंाव केा हृदय स्थल कहा जाता है क्योंकि यहंा से रायगढ़, अम्बिकापुर, एवम जषपुर तीनों जिलाओं के बीच में बसा पत्थलगंाव है, जिसके कारण इस प्रतिक्षालय में रोजाना हजारों यात्रियों का आना-जाना लगा रहता है। लोगों का मानना है कि नगर प्रशासन को नागरीकों को सुविधा मुहैया करवाने के लिए बेहतर विकल्पों पर विचार कर कार्य योजना तैयार करनी चाहिए ताकि इन प्रकार की समस्या का समाधान हो सके। नगर प्रशासन को इन मुलभूत सुविधा को सुधार करने का विकल्प भी नही तलाश पा रही हैं। अब इसे नगरीय प्रषासन का गैर जिम्मेदाराना रवैया और कर्तव्य विमुखता ही कहा जा सकता हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *