August 3, 2021
Breaking News

उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ ही छठ सम्पन्न

उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ ही छठ सम्पन्न
हरितछत्तीसगढ़ संजय तिवारी/विवेक तिवारी। पत्थलगांव में उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के बाद लोक आस्था का पर्व छठ पूजा भक्तिमय वातावरण के साथ संपन्न हो गया। इस मौके पर मुख्य रूप से शहर के पूरन तालाब,प्रेमनगर झरिया नाला,किलकिला नदी,नन्दन झरिया सहित ग्रामीण क्षेत्रों के अन्य तालाबों, पोखरों, जलाशयों, पर छठव्रती छठ महोत्सव के तीसरे दिन अस्ताचलगामी और अंतिम एवं चौथे दिन उदयीमान सूर्यदेव को अ‌र्घ्य देने के बाद पारण किया।

सुख, समृद्धि व संतान प्राप्ति के लिए छठ मईया का छत्तीस घंटे का निर्जला व्रत रखने वाले व्रतधारियों ने उगते सूर्य देवता को अर्घ्य देकर व्रत का समापन किया।

इस चार दिवसीय पर्व के अंतिम दिन शुक्रवार की अहले सुबह उदयीमान सूर्यदेव को अ‌र्घ्य देने के बाद प्रसाद खाकर पारण कर इस चार दिवसीय महापर्व का संपन्न किया।इस मौके पर छठव्रतियों के लिए पूरन तालाब घाट पर समाज सेवियों द्वारा छठव्रतियों के लिए नि:शुलक चाय व पानी की व्यवस्था की गयी।

गौरतलब हो कि इस त्योहार पर सूर्य की पूजा की जाती है और सूर्य देव को फल, घर पर बनाए गए ठेकुआ, पेड़ा, पकवान, चावल के लड्ड, कच्ची सब्जियां और मौसम की पहली फसल चढ़ाई जाती है। सभी मीठे पकवान और फल-सब्जियां बांस की बनी टोकरी और सूप में चढ़ाए जाते हैं।
सूर्य की उपासना
सूर्य ऊर्जा और जीवनी शक्ति के देवता माने जाते हैं, और छठ के दौरान इनकी पूजा उन्नति, बेहतरी और प्रगति के लिए की जाती है। गौरतलब है कि चार दिनों तक चलने वाला छठ पर्व सूर्य भगवान को समर्पित एकमात्र वैदिक उत्सव है। शहर के घाटों को लाईटिंग व फूलों से मनमोहक सजाया गया था। कई बड़े घाटों पर मेले भी लगे। व्रतधारियों ने इस मौके पर जमकर खरीददारी भी की।

घाटों पर दीवाली जैसा माहौल नजर आ रहा था। लोग जमकर आतिशबाजी कर रहे थे। लोगों द्वारा छठ पूजा के लिए बनवाए गए तालाबों, घाटों पर छठ व्रतधारियों ने पूजा-अर्चना कर मन्नत मांगी। व्रतधारियों का सबसे बड़ा जमावड़ा पूरन तालाब स्थित घाट पर लगा हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *