November 15, 2019
  • 8:28 PM रायगढ़ लोकसभा सांसद गोमती साय पूरी सादगी से मिली कार्यकर्ताओं से
  • 8:20 PM मंदिर परिसर में हुआ सीसी रोड का भूमि पूजन
  • 5:51 PM संपूर्ण सविलियन, वेतन विसंगति, क्रमोन्नति सहित शिक्षक हित के कार्य हेतु 17 नवंबर 2019 को जिला रायगढ़ में होगा संयुक्त शिक्षक संघ का गठन।
  • 5:28 PM लगातार चोरी की वारदात से सूरजपुर नगर के लोग दहशत में 
  • 5:19 PM हरी झंडी दिखाकर दोस्ती सप्ताह की गाड़ी को किए रवाना

Sharing is caring!

तलाश, साहिल की। पेंशन सत्याग्रह के लिए मोटर सायकल से दिल्ली के लिए रवाना हो रहे सूरज सोनी…

बिलासपुर, 06 नवम्बर 2019

पुरानी पेंशन बहाली के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय बंधु के आह्वान पर 09 नवम्बर को दिल्ली में होने वाले पेंशन सत्याग्रह के लिए छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले से सूरज सोनी 06 नवम्बर को प्रातः 11:00 बजे अपने विद्यालय चकरभाठा बस्ती से अपने मोटरसाइकिल से यात्रा प्रारंभ कर 08 नवम्बर को रात्रि 07:00 बजे दिल्ली पहुंच जायेगे।

इस विषयक सामान्य जानकारी 👇🏼

06 नवम्बर चकरभाठा बस्ती से मुंगेली होते हुये बोड़ला, चिल्फ़ी, मंडला होते हुये जबलपुर रात्रि 8 बजे पहुचेंगे।

रात्रि विश्राम जबलपुर….

07 नवम्बर को प्रातः 8 बजे निकलकर शाम 5 बजे ग्वालियर पहुँच रहे हैं।

रात्रि विश्राम ग्वालियर….

8 नवम्बर को ग्वालियर से प्रातः 8 बजे निकलकर रात्रि 7 बजे तक दिल्ली पहुंचेंगे।

ज्ञात हो कि सूरज सोनी की यह यात्रा पुरानी पेंशन बहाली के साथ साथ स्वच्छ भारत मिशन दोनों ही विशेष बिंदु को लेकर कर रहे हैं। साथ ही यदि अनुमति मिली तो राहुल गांधी जी से भी मिलने की योजना हैं, आधिकारिक अनुमति का इंतज़ार हैं।

वे बीच-बीच मे अपने अभियान के पोस्टर ग्रुप में शेयर करते रहेंगे। चकरभाठा में श्री इन्द्रकांत सौलखे उनके स्वागत हेतु उपस्थित रहेंगें व दिल्ली में श्री सुरेश कौशिक के नेतृत्व में उनका स्वागत किया जायेगा।

छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कल्याण संघ की जिला इकाई ने अधिक से अधिक संख्या में प्रातः 10:45 बजे चकरभाठा पहुँचकर उनका उत्साहवर्धन करने अपील किया गया।

इस विषय पर चर्चा करने पर नेशनल मूवमेंट फ़ॉर ओल्ड पेंशन से जुड़े व छ.ग. अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ के प्रदेश मीडिया प्रभारी विनय मौर्य ने बताया कि जीवन में कोई सफलता हासिल करना है तो हमे जुनून रखना होगा। चाहे कोई आविष्कार हो, चाहे कोई बड़ा युध्द जीता गया हो या बड़ा साम्राज्य खड़ा हुआ हो; इन सब के पीछे एक ही शक्ति प्रेरित करती थी और वो है जुनून। सूरज सोनी के इस ज़ज्बे को सलाम है और हम सबको उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए; उनके मङ्गलमयी यात्रा की कामना करते है।

Sharing is caring!

haritwnb

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT