December 15, 2019
  • 7:57 PM संयुक्त शिक्षाकर्मी/शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष रायगढ का निर्वाचन हुआ संपन्न।
  • 2:20 PM शिक्षा के क्षेत्र में अलख जगाने हेतु छ. ग. सहायक शिक्षक फैडरेशन दुलदुला की अभिनव पहल
  • 1:18 PM नागरिकता संशोधन बिलः मुसलमानों के कंधों पर समझदारी की जिम्मेदारी…
  • 8:36 AM नम्रता पटेल का सहायक संचालक पद पर चयन
  • 12:57 PM नगरीय निकाय चुनाव में काँग्रेस प्रत्याशी बाघी नेता पर गाज गिरनी हो गयी शुरू, पहली कार्यवाही देखिये किसपर हुई
breking harit

Sharing is caring!

शिक्षाकर्मियों में नई भर्ती के निर्णय से वरिष्ठता को लेकर संदेह,,छत्तीसगढ टीचर्स एसोसिएशन ने की सीधी भर्ती के पूर्व संपूर्ण संविलियन की मांग

डौंडीलोहारा(बालोद)- सरकार के आठ वर्ष के बंधन के चलते स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों में हताशा और निराशा साफ देखी जा सकती है। इन शिक्षाकर्मियों को पंचायत विभाग में समय पर अल्प वेतन भी नसीब नहीं होता। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन डौण्डीलोहारा के ब्लाक उपाध्यक्ष शिवेन्द्र बहादुर साहू ने बताया कि पूरे प्रदेश में संविलियन वंचितों की तादाद 25 हजार के लगभग है। जिनको न मंहगाई भत्ता मिलता है, न ट्रांसफर का लाभ, न ही विभाग की अन्य आवश्यक सुविधाओं का लाभ मिल पाता है जो कि शोषण की पराकाष्ठा ही है। इसके अलावा शासन की नई भर्ती के निर्णय से भी संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों में वरिष्ठता को लेकर संदेह की स्थिति निर्मित हो गई है। ऐसे में सभी समस्याओं का निराकरण केवल और केवल बचे हुए 25 हजार शिक्षाकर्मियों का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन है। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन डौण्डीलोहारा के संरक्षक बीरबल देशमुख, ब्लाक अध्यक्ष माधव साहू, उपाध्यक्ष शिवेन्द्र बहादुर साहू, अविनाश साहू, मीनाक्षी आर्य, रोशन लाल साहू, डुप्ले साहू, सावित्री साहू, नंदिनी जोशी, धनेश्वरी कलियारी, यतेन्द्र गजपाल, रूपेन्द्र साहू, केशव देशलहरे, उर्मिला नायक, आदि ने शेष शिक्षाकर्मियों के शीघ्र संविलियन की मांग की है।

Sharing is caring!

haritwnb

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT