July 4, 2020
Breaking News

कर्मा नृत्य आदिवासी संस्कृति की पहचान – निरंजन साय

कर्मा नृत्य आदिवासी संस्कृति की पहचान – निरंजन साय

कर्मा प्रतियोगिता में बागबहार के डुमरमुड़ा में 17 प्रतिभागी टीमों ने लिया हिस्सा.

बागबहार :- बागबहार के डुमरमुड़ा बस्ती में बुधवार को उरांव समाज द्वारा कर्मा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था जहां बतौर मुख्य अतिथि के रूप पुर्व मंडल अध्यक्ष निरंजन साय शामिल हुए तथा विशिष्ट अतिथि के रूप पत्थलगाॅव जनपद के अध्यक्ष श्रीमति बसंती भगत,फ़रसाबहार जनपद अध्यक्ष वेदप्रकाश भगत,डी डी सी मतलुराम ,जनपद सदस्य श्रीमति मीना चौहान,पदमनी परहा,बागबहार सरपंच रवि पहरा,आनन्द शर्मा,सहदेव निकुंज,रेडे सरपंच रामकुमार भगत,जमरगी सरपंच प्रधानराम भगत,पुर्व नगर पंचायत अध्यक्ष डां बी एल भगत शामिल हुए।अतिथियों का स्वागत कर्मा नृत्य के माध्यम से तथा आयोजक समिति सदस्यों के द्वारा उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत फूल माला से किया गया।कार्यक्रम के इसी कड़ी में कर्मा नृत्य प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि तथा विशिष्ट अतिथियों द्वारा फीता काट कर कर्मा प्रतियोगिता का शुभारम्भ किया गया।जिसमें समिति द्वारा निर्धारित 15 मिनट का समय सभी कर्मा नृत्य प्रतिभागी टीमों को दिया गया था,इस प्रतियोगिता में जिले के आस पास क्षेत्र के 17 कर्मा नृत्य प्रतिभागी टीम शामिल हुए ।जिसमें प्रथम पुरस्कार 11111रु .टाटीडांड को मिला वही द्वितीय पुरस्कार फ़रसाबहार के बनगाँव को 5151रु. तथा तृतीय पुरस्कार ग्राम पंचायत रेडे के कर्मा नृत्य पार्टी को 1501रु.,मुख्य अतिथि के हाथों वितरण किया गया ।तदपश्चात सभा आयोजित की गयी जहां सभा को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि निरंजन साय ने कहा कि कर्मा नृत्य आदिवासी संस्कृति की पहचान है जो आदिवासी समाज को पूर्वजों द्वारा विरासत में मिली है जिसे हमें और हमारे आने वाले पिड़ियो को इस संस्कृति अवगत करना होगा,कर्मा नृत्य वास्तव में प्रकृति के प्रति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *