December 15, 2019
  • 7:57 PM संयुक्त शिक्षाकर्मी/शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष रायगढ का निर्वाचन हुआ संपन्न।
  • 2:20 PM शिक्षा के क्षेत्र में अलख जगाने हेतु छ. ग. सहायक शिक्षक फैडरेशन दुलदुला की अभिनव पहल
  • 1:18 PM नागरिकता संशोधन बिलः मुसलमानों के कंधों पर समझदारी की जिम्मेदारी…
  • 8:36 AM नम्रता पटेल का सहायक संचालक पद पर चयन
  • 12:57 PM नगरीय निकाय चुनाव में काँग्रेस प्रत्याशी बाघी नेता पर गाज गिरनी हो गयी शुरू, पहली कार्यवाही देखिये किसपर हुई

Sharing is caring!

निर्भया मेरी भी बहन है, निर्भया मेरी भी बेटी है – एचपी जोशी

लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग चारित्रिक पैमाने की सोच ही बलात्कार का कारण है – एचपी जोशी

गुरु घासीदास जयंती के संबंध में आयोजक मंडल को सुझाव – एचपी जोशी

पर स्त्री (दूसरे की पत्नी, बहन और बेटी) को माता बहन मानों …. ऐसा शिक्षा देने वाले संत को केवल एक ही जाति तक सीमित कर देना अत्यंत दुर्भाग्य जनक है। उल्लेखनीय है कि गुरु घासीदास बाबा ने पराय स्त्री को माता बहन मानने की शिक्षा समाज को दी है यदि हम आज इतने वर्षों में यदि इस संदेश को स्वीकारते हुए अपने संस्कार में शामिल कर लेते तो कोई बेटी और कोई बहन निर्भया बनने पर मजबूर नहीं होती, किसी स्त्री का बलात्कार नहीं होता, किसी महिला का रेप नहीं होता, किसी बच्ची के साथ क्रूरता नहीं होती। मगर हमें तो जाति, वर्ण और धर्म के विभाजन और कुंठा से प्रेरित विभाजन में गर्व करना अच्छा लगता है इसलिए किसी दूसरे समाज में जन्म लेने वाले गुरु का बात क्यों मानें, चाहे वह प्रासंगिक ही क्यों न हो।

आज हमारी संस्कार पूरी तरह से दूषित हो चुकी है, नष्ट हो चुकी है और भ्रष्ट हो चुकी है। वर्तमान परिवेश में हम अपने आने वाली पीढ़ी को संस्कार के नाम पर कुछ नहीं देते हैं केवल प्रतियोगिता की शक्ति और श्रेष्ठता का विचारधारा ही दे पा रहे हैं। इसलिए हम बेटियों और बहनों के लिए गिद्ध बन चुके हैं और माताओं के लिए हिंसक जानवर हो चुके हैं हमारी भावी पीढ़ी भी इसी तरह हमारे तरह ही जन्म लेने वाली है बिल्कुल गिद्ध की तरह, बिल्कुल हिंसक जानवर की तरह, इसलिए क्यों न आने वाली पीढ़ी को सुधारने का प्रयास किया जाए, उच्च स्तरीय शिक्षा के साथ थोड़ा सा संस्कार भी दिया जाए। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के तरीकों के साथ थोड़ा सा मानवता का पाठ भी पढ़ाएं, घर में हमारे पास समय नहीं तो स्कूल और कोचिंग संस्थान के माध्यम से ही संस्कार सिखाएं।

यदि हमारे संस्कार में पराय स्त्री माता बहन है और मनखे मनखे एक समान शामिल होता तो किसी बेटी को, किसी बहन को, किसी स्त्री को निर्भया कहलाने की जरूरत ही नहीं पड़ती। आइए संवेदनशील समाज बनाने का प्रयास करें, संवेदनहीनता के खिलाफ एकजुट होकर समाज को सुधारने का प्रयास करें।

आज हम बड़ी बेसब्री से अपनी बारी का इंतज़ार करने में समय बर्बाद कर रहे हैं, हम इंतजार कर रहे हैं कि “जब तक कोई गिद्ध, कोई दरिंदा कोई जानवर हमारी बेटी बहन के साथ ऐसी क्रूरता नहीं करेगा हमें किसी निर्भया से कोई मतलब नहीं” ऐसे सोच रखने वाले चेत जाएं सावधान हो जाएं। ऐसा सोचने वाले अमानुश भी सावधान हो जाएं कि मेरी तो बहन नहीं है, मेरी तो बेटी नहीं हैं। लड़का है बदमाशी नहीं करेगा तो क्या लड़की करेगी?? “लड़की लड़के में भेद करने वाली सोच ही बलात्कार का कारण है।” ये सोच आपको बर्बाद कर देगी, क्योंकि आपकी भी बेटी पैदा होने वाली है और जिसकी बेटी है उनके भी बेटा जन्म लेने वाला है। इसलिए बेटी और बेटा के लिए अलग अलग चरित्र का पैमाना बनाने वाले सावधान हो जाएं, अपनी ही बहन बेटियों के खिलाफ ऐसे सोच को जन्म देने की नींव मत डालो।

मेरे कुछ मित्र हैं जिनकी बहन या बेटियां नहीं हैं वे लड़कियों के चरित्र और उनके पालकों के संस्कार में प्रश्न करते रहते हैं, जबकि उनके संस्कार भी लड़की और लड़के के लिए दोहरे चरित्र का मापदंड तय करती है। उनके ऐसे मानसिकता पर शर्म आती है मुझे घिन आती है ऐसे विचारधारा पर। मेरे कुछ साथी ऐसे भी हैं जिनकी बेटियां हैं वे बहुत चिंतित रहते हैं मैं भी अत्यंत चिंतित हूं क्योंकि मेरी भी बेटी है, मैं भी बहुत चिंतित हूं क्योंकि मेरी और भी बेटियां जन्म लेने वाली हैं मेरे संस्कार में शामिल है पराय स्त्री माता बहन के समान हैं इसलिए पूरे दुनिया की स्त्री मेरी मां बहन और बेटियां हैं। जागरूकता की यह कठोर तरीके किसी व्यक्ति के आस्था को चोटिल करती हो तो लेखक माफ़ी चाहता है।

इस महीने के 18 तारिक से हम गुरु घासीदास बाबा जी के जयंती मनाने वाले हैं, ये वही संत हैं जो मानव मानव एक समान की शिक्षा देते हैं ये वहीं संत हैं जो पराय स्त्री को माता बहन मानने का सलाह देते हैं ये वही गुरु हैं जो हिंसा के खिलाफ और शाकाहार खाने को प्रेरित करते हैं ये वही धर्मगुरु हैं जो आडंबर से परे रहकर वास्तविक धर्म की बात करते हैं ये वहीं मार्गदर्शक हैं जो हमें सरल और सहज पद्धति से जीवन जीने की कला सीखते हैं। इसलिए इनके संदेशों को सभी समाज के संस्कार में शामिल होना चाहिए…..

प्रिय पाठकों मैं इस लेख के माध्यम से गुरु घासीदास बाबा जी की जयंती मनाने वाले और जयंती नहीं मानने वाले दोनों को ही उनके संदेश को जानने के लिए निवेदन करता हूं। बताना चाहता हूं कि बड़े बड़े आयोजन करके, लाखों करोड़ों रुपए खर्च करके जयंती मनाने से कोई लाभ नहीं यदि आपको बाबा जी के संदेश प्रचारित नहीं किया जाता। हम कम से कम गुरु घासीदास दास बाबा जी के 07 संदेश ही जान लें, 07 संदेशों को ही प्रचारित कर लें, तो हमारा जयंती मानना सफल हो जाएगा।

मैं सतनामी समाज के पदाधिकारियों से आयोजक मंडल से अपील करता हूं कि इस बार बड़े आयोजन के बजाय मात्र गुरु घासीदास बाबा जी के संदेशों को पूरे दुनिया में प्रचारित करने का प्रयास करें, लाखों करोड़ों रुपए जयंती के नाम पर, विशेषकर सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए समाज का धन बर्बाद न करें।

मैंने पिछले कुछ वर्षों से समाज से लगातार आग्रह किया कि वे बड़े विशाल होर्डिंग्स में नेताओं के और स्वयं के फोटो लगवाते हैं सायम को बड़ा नेता, बड़ा समाज सेवक, सामाजिक कार्यकर्ता बताने का प्रयास करते हैं जो केवल दिखावा है, यदि आपने गुरु घासीदास बाबा जी के संदेश को ही नहीं बताया, तो विशाल होर्डिंग्स का क्या औचित्य??

होश में आएं, गुरु घासीदास बाबा जी के संदेशों का प्रचार करें, विशाल होर्डिंग्स में नेताओं की फोटो नहीं बाबा जी के संदेश छपवाएं, संस्कृति कार्यक्रम के नाम पर अश्लीलता नहीं बल्कि बाबा जी के जीवन लीला और संदेशों के प्रसार के लिए प्रवचन कराएं। करोड़ों रुपए की बर्बादी नहीं सदुपयोग करें, बिना किसी बंधन के सभी जाति धर्म के लोगों को जयंती में शामिल होने के लिए आग्रह करें, उन्हें भी बाबा जी के संदेश बताएं।

Sharing is caring!

haritwnb

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT