February 17, 2020
Breaking News

छग में चार नए जिले बनाने की कवायद,,, चर्चा है 26 जनवरी पर सरकार कर सकती है घोषणा

प्रशासनिक दृष्टिकोण से पिछड़े इलाकों को जिला घोषित करने का असर बस्तर और सरगुजा के आदिवासी बहुल जिलों में साफ दिखता है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद प्रशासनिक विकेंद्रीकरण की प्रक्रिया एक बार फिर शुरू होने की उम्मीद है। लो फिर से 26 जनवरी में 4 नए जिले बनाने की चर्चा शुरू ,, चर्चा है 26 जनवरी पर सरकार कर सकती है घोषणा

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर / 26 जनवरी आते ही एक बार फिर प्रदेश में एक बार फिर से नये जिले का घोषणा को लेकर चर्चा होना शुरू हो गया है चर्चा है की  इस बार के 26 जनवरी को सरकार ने 4 नए जिले बनाने की तैयारी शुरु कर दी है, माना जा रहा है कि गणतंत्र दिवस के मौके पर इन नए जिलों का एलान किया जा सकता है। चार नए जिलों के साथ ही दो नए संभागों का भी प्रस्ताव है। नए जिलों के गठन के बाद प्रदेश में जिलों की संख्या 27 से बढ़कर 31 हो जाएगी। राजनांदगांव से काटकर मोहला मानपुर, कांकेर से अलग भानुप्रतापपुर, रायगढ़ से अलग करके सारंगढ़ और बिलासपुर से अलग कर पेंड्रा-मरवाही को जिला बनाने की कवायद की जा रही है। वहीं कांकेर और राजनांदगांव को संभाग बनाने की तैयारी सरकार कर रही है। चर्चा है की राज्य शासन ने संभाग आयुक्तों से प्रस्तावित जिले की कुल जनसंख्या, कुल ग्राम, कुल पटवारी हल्का नंबर, राजस्व निरीक्षक मंडल, मकबूजा रकबा हेक्टेयर की विस्तृत जानकारी, खातेदारों की संख्या, ग्राम पंचायत, नगरी निकाय की पृथक-पृथक जानकारी, राजस्व प्रकरणों की संख्या, कोटवार, पटेलों की संख्या, संयुक्त नक्शा, जिसमें जिलों का सीमा क्षेत्र चिन्हांकित हो समेत कई अहम जानकारी मंगाई गई है. साथ ही जिला गठन के संबंध में आवश्यक सेटअप और उस पर होने वाले वेतन भत्ते की जानकारी भी बुलाई गई है.बताया जा रहा है कि अगर किसी वजह से गणतंत्र दिवस पर नए जिलों की घोषणा न हो पाई तो भी इस साल स्वतंत्रता दिवस तक चार नए जिले जरूर अस्तित्व में आ जाएंगे। राज्य में चार नए जिलों के साथ ही दो नए संभागों का भी प्रस्ताव है।नए जिलों के गठन के बाद प्रदेश में जिलों की संख्या 27 से बढ़कर 31 हो जाएगी। वर्ष 2000 में मध्यप्रदेश से अलग होकर छत्तीसगढ़ बना तब यहां जिलों की संख्या 16 थी। तत्कालीन मध्यप्रदेश सरकार ने 1998 में छत्तीसगढ़ में आठ नए जिले बनाए थे। उससे पहले यहां सिर्फ आठ जिले ही थे। harit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *