September 17, 2021
Breaking News

कुत्ता और गधा चुनावी ट्रेंड में चुनावी जंग के मध्य सिमटी गुजरात चुनाव

 

कुत्ता और गधा चुनावी ट्रेंड में चुनावी जंग के मध्य सिमटी गुजरात चुनाव
जब उत्तर प्रदेश में चुनाव थे, तब ‘गुजरात के गधे’ ट्रेंड में आ गए. हर जगह बस गधों का ही बोलबाला था. सभी ये साबित करने में लगे थे कि उनके गधे विपक्ष के गधों से ज्यादा महान हैं. अब गुजरात में चुनाव हैं तो चर्चा का बाजार कुत्तों ने गर्म कर रखा है.लेकिन देश में चर्चा चुनावी मुद्दों की नहीं राहुल गांधी के कुत्ते की हो रही है. ऐसा पहली बार नहीं है जब राजनीति में किसी जानवर की चर्चा हो रही है इसी साल के शुरुआती महीनों में जब उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव हो रहे थे. अखिलेश यादव के एक बयान पर जमकर बहस हुई थी. उस वक्त अखिलेश यादव ने राजनीति में ‘गधा’ उतार दिया था.इंसानों और कुत्तों के बीच रिलेशनशिप complicated है. यह भी बहस का विषय है कि कुत्ते ज्‍यादा सामाजिक हैं या मनुष्य? जवाब जो भी है, इंसानों कुत्तों को ही सबसे वफादार बताता है और उसी के नाम पर गाली भी देता है. पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर कुछ ज्यादा ही सक्रिय हुए कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के एक ट्वीट पर फिलहाल जमकर बहस चल रही है. वही नरेन्द्र मोदी एक टिप्पणी कि ‘कार से कुत्ते का बच्चा भी कुचल जाता है तो दुख होता है’ विवाद का कारण बन चुका है। दूसरी ओर रविवार को राहुल गांधी ने अपने पालतू कुत्ते ‘पीडी’ का एक 14 सेकंड का वीडियो पोस्ट किया था. उसके बाद लोग राहुल गांधी और कुत्ते को लेकर धड़ाधड़ ट्वीट करने लगे. आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से राहुल गांधी अलग ही अंदाज में नजर आ रहे हैं. ट्विटर पर सक्रियता के चलते ही उनके फॉलोअर्स की संख्या भी काफी बढ़ी है.
गुजरात चुनावों की घोषणा हो चुकी है. सभी राजनीतिक पार्टियां चुनावी मैदान में उतर चुकी हैं.
आपको याद दिला दें कि एक चुनावी रैली में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा, “मैं सदी के महानयाक से अपील करूंगा कि वे गुजरात के गधों का विज्ञापन ना करें.” उन्होंने आगे कहा था, “क्या आपने कभी गधों के विज्ञापन के बारे में सुना है? गुजरात के लोग गधों का विज्ञापन कर रहे हैं. लेकिन वे मुझ पर सिर्फ कब्रिस्तान के लिए काम करने का आरोप लगाते हैं.”
इसके जवाब में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी काफी हमलावर रुख अख्तियार किया था. उन्होंने बहराइच जिले की एक चुनावी जनसभा में कहा था कि गधा हमें प्रेरणा देता है. नरेंद्र मोदी ने कहा था, ”गधा भी हमें प्रेरणा देता है, वो हमेशा अपने मालिक के प्रति वफादार होता है और जिम्मेदारियों को निभाता है.” उन्होंने आगे कहा था, “‘अखिलेश जी आप मोदी और बीजेपी पर हमला करो तो समझ सकता हूं, पर अब आप गधों पर हमला कर रहे हो? गधे से भी डर लगने लगा क्या?”वही इन दिनों नरेन्द्र मोदी की एक टिप्पणी कि ‘कार से कुत्ते का बच्चा भी कुचल जाता है तो दुख होता है’ सुर्खियों में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *