July 26, 2021
Breaking News

मुकुल रॉय ने थामा BJP का दामन,2 मामलों में CBI कर चुकी है पूछताछ

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राइट हैंड रहे पूर्व टीएमसी नेता मुकुल रॉय ने शुक्रवार को भाजपा का दामन थाम लिया।ममता बनर्जी के चाणक्य कहे जाने वाले मुकुल रॉय ने भाजपा का दामन थाम लिया है। भाजपा में इसको लेकर खुशी की लहर है।

कभी ममता बनर्जी के करीबी रहे और अब बीजेपी का कमल थाम चुके मुकुल रॉय का नाम दो बड़े मामलों में सामने आ चुका है. सबसे पहले इनका नाम शारदा स्कैम में आया था और इस मामले में मुकुल से सीबीआई भी पूछताछ कर रही है. यहां यह भी बताते चलें कि मुकुल की गिरफ्तारी रोकने के लिए खुद ममता बनर्जी ने बयान देना शुरू किया था और उन्होंने इस मामले के लिए केंद्र की मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया था.फिर सामने आया एक नारदा स्टिंग ऑपरेशन और इसमें भी सीबीआई ने मुकुल रॉय सहित दूसरे नेताओं का नाम एफआईआर में दर्ज किया था.कहा जा रहा है कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह काफी समय से मुकुल रॉय के संपर्क में थे। मुकुल रॉय के भाजपा में शामिल होने पर रविशंकर प्रसाद ने खुशी जताई है।भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद मुकुल रॉय ने पार्टी मुख्यालय में कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में काम करने का मौका मिला है। इस अवसर पर मंच पर  मौजूद प्रसाद ने कहा कि मुकुल रॉय के अनुभव का पार्टी को लाभ मिलेगा। पश्चिम बंगाल में भले ही मुकुल रॉय के जाने से ममता बनर्जी की सरकार पर कोई असर न पड़े, पर सवाल यह उठ रहा है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि ममता के साथ मिलकर मुकुल ने जिस पार्टी की नींव रखी, उससे उन्हें निकाल दिया गया.ममता और मुकुल रॉय के बीच रिश्ते शारदा चिटफंड मामले के बाद बिगड़े. शारदा चिटफंड के कारण टीएमसी के कई नेता फंसे. सांसद,  मंत्री को जेल तक जाना पड़ा. इस दौरान कई नेताओं से पूछताछ हुई. 30 जनवरी 2015 को CBI ने शारदा घोटाले में मुकुल रॉय पर लगे आरोपों के संबंध में पूछताछ के लिए दफ्तर बुलाया था.माना जाता है कि इसी दौरान उस वक्त गिरफ्तारी से बचने के लिए उन्होंने पार्टी और ममता के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी के कई राज खोल दिए थे. इसके बाद से ही ममता बनर्जी ने उन्हें पार्टी में दरकिनार करना शुरू कर दिया था.कई नेताओं का कहना है कि वह सेंट्रल इंवेस्टिगेशन एजेंसी के दवाब में आ गए थे. कहा जाता है कई बार तो उन्होंने अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए टीएमसी से जुड़ी जानकारी एजेंसी को दी थीं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *