September 25, 2021
Breaking News

सैल्यूट डॉ. साहब प्रेग्नेंट महिला को खाट पर लिटा 8 किमी पैदल चल ले गए अस्पताल

सैल्यूट डॉ. साहब प्रेग्नेंट महिला को खाट पर लिटा 8 किमी पैदल चल ले गए अस्पताल

आम तौर पर ऐसी खबरें अक्सर सामने आती हैं जिनमें डॉक्टरों की लापरवाही होती है, लेकिन ओडिशा के एक डॉक्टर ने ऐसी मिसाल पेश की है जिसे जान कर आपको भी गर्व महसूस होगा.

ओडिशा के मल्कानगिरी जिले के एक सुदूर गांव में एक डॉक्टर ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए प्रेग्नेंट महिला की डिलिवरी में मदद की। डिलिवरी के बाद महिला की स्थिति खराब होने पर डॉक्टर महिला को खुद ही पैदल 8 किलोमीटर तक चलकर हॉस्पिटल तक लेकर गए।एक जानकारी के मुताबिक़ मल्कानगिरी जिले के चित्राकोंडा ब्लॉक के सारीगेता गांव में एक महिला प्रेग्नेंट थी। गांव से 8 किलोमीटर दूर हॉस्पिटल के डॉक्टर ओमकार होता ने लेबर पेन होने की जानकारी मिलने पर फौरन वहां के लिए रवाना हो गए। रोड कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं होने से सुदूर गांव तक वह अपने एक अटेंडेंट के साथ ही पहुंच गए। डाक्टर ओमकार ने देखा कि महिला के शरीर का खून ज्यादा बह गया है इसलिए उसकी डिलीवरी गांव में ही कर दी। इसके बाद महिला की तबियत बिगड़ने लगी तो डाक्टर साहब ने उसे खाट पर लिटाया और पैदल आठ किलोमीटर चलकर उसे हॉस्पिटल तक पहुँचाया।मल्कानगिरी जिले के एक गांव में डॉक्टर, प्रेगनेंट महिला को खाट समेत लेकर अस्पताल पहुंचे. 8 किलोमीटर तक पैदल चलने के बाद, महिला की जान बचाने के बाद डॉक्टर ने जो महसूस किया होगा शायद उसी को खुशी और सुकून कहते हैं.दरअसल, एक गर्भवती महिला का प्रसव पीड़ा शुरु हुई को अस्पताल को सूचना दी गई. ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ओमकार होता गांव पहुंचे तो समझ गए कि मरीज को अस्पताल ले जाना बेहद जरूरी है. महिला की डिलीवरी हो चुकी थी और खून काफी बह रहा था.सड़क नहीं होने के कारण एंबुलेंस का वहां तक पहुंचना असंभव था. डॉक्टर ने महिला को खाट पर ही अस्पताल ले जाने की ठानी. डॉक्टर का साहस देख कर महिला के परिजनों ने भी मदद की. अस्पताल पहुंचने के कारण महिला की जान बच गई.इन डाक्टर साहब को सोशल मीडिया पर इतने सलाम ठोंके जा रहे हैं जिसे शब्दों में लिखना मुश्किल है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *